Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    क्या था मुगल दरबार? यहां महिलाओं को सजा देने के लिए नियुक्त किए जाते थे किन्नर

    आपने यकीनन मुगल साम्राज्य के बारे में सुना होगा, लेकिन आज हम आपको मुगल दरबार और वहां की व्यवस्था के बारे में जानेंगे।   
    author-profile
    Updated at - 2022-10-18,19:23 IST
    Next
    Article
    know about mughal darbar in hindi

    मुगल साम्राज्य का इतिहास काफी रोचक रहा है क्योंकि इस दौरान हिंदुस्तान पर कई सालों तक कई बादशाहों ने राज किया है। कहा जाता है कि मुगलों का शासन लगभग सन 1526 से 1707 तक रहा है, जिसकी स्थापना बाबर ने पानीपत की पहली लड़ाई में इब्राहिम लोदी को हराकर की थी।

    इसके बाद कई बहादुर बादशाहों ने मुगल साम्राज्य का शासन बढ़ाने का काम किया था जैसे- हुमायूं, अकबर, जहांगीर, शाहजहां और औरंगजेब प्रमुख बादशाहों के नाम आते हैं। बाबर से लेकर अकबर, जहांगीर, शाहजहां का शासन काल काफी दिलचस्प है क्योंकि इस दौरान न सिर्फ कई मकबरे का निर्माण हुआ बल्कि नई-नई नीतियां और पुरानी व्यवस्था को खत्म भी किया गया था। 

    इसलिए कई लोग मुगल शासन और मुगल शासन से जुड़ी चीजों को जानने में रुचि रखते हैं खासतौर पर मुगल दरबार। इसलिए आज हम आपको मुगल दरबार और इससे जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

    क्या है मुगल दरबार?

    Mughal darbar history in hindi

    मुगल दरबार मुगल साम्राज्य का शक्ति का केंद्र था, जिसमें राजनीतिक संबंध, प्रजा की समस्याओं और अपराध पर लगाम लगाने के लिए चर्चा की जाती थी। बता दें कि मुगल दरबार में कानून व्यवस्था और सामाजिक निर्माण पर चर्चा की जाती थी।    

    इसे ज़रूर पढ़ें- क्या था मुगल हरम? जहां काम करने के लिए नियुक्त किए जाते थे किन्नर

    कैसे शुरू हुई मुगल दरबार की परंपरा?

    What is Mughal darbar

    इतिहासकारों के मुताबिक के अनुसार मुगल दरबार की शुरुआत सोलहवीं और सत्रहवीं में सदी में अस्तित्व में आई थी। कहा जाता है कि दरबार का मुख्य केंद्र बिंदु राजसिंहासन यानि तख्त था। उस वक्त इस व्यवस्था पर   पूरी धरती टिकी हुई थी, जिसको चलाने के लिए नियम व्यवस्था बनाई गई थी। (मुगल बादशाह अकबर की बेगमों के बारे में)

    सजा देने के लिए नियुक्त किए जाते थे किन्नर

    कहा जाता है कि मुगल साम्राज्य में दरबारी नियुक्त किए थे, जो न सिर्फ दरबार का काम करते थे। इसमें सैनिकों की फौज को साथ-साथ किन्नरों की भी नियुक्ति की जाती थी। इन सैनिकों को भी दरबार का शिष्टाचार का पालन करना होता था। अगर कोई इसका उल्लंघन करता था, तो उसे दंड दिया जाता था। (मुगल साम्राज्य के शक्तिशाली बादशाह)

    इसे ज़रूर पढ़ें- मुगल हरम में कैसी थी हिन्दू बेगमों की स्थिति? जानें रोचक तथ्य

    महिलाओं के लिए था यह नियम 

    Mughal darbar rules for women

    जब भी मुगल दरबार या फिर प्रजा से कोई महिला अपराध करती थी, तो उनके पर्दे का पूरा ध्यान रखते हुए किन्नरों को बुलाया जाता था और सुनवाई के बाद किन्नर ही जेल या फिर तहखाना तक ले जाते थे। यह व्यवस्था मुख्य रूप से महिलाओं के लिए ही थी। पुरूषों के लिए सैनिक नियुक्त किए जाते थे। 

    उम्मीद है यह जानकारी पसंद आई होगी। आपको लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर और लाइक ज़रूर करें, साथ ही, ऐसी अन्य जानकारी पाने के लिए जुड़े रहें हरजिन्दगी के साथ।

    Image Credit- (@Freepik)

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।