• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

क्या था मुगल हरम? जहां काम करने के लिए नियुक्त किए जाते थे किन्नर

आज आप इस लेख में मुगल हरम क्या है और इससे जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में जानेंगे।
author-profile
Published -27 Jul 2022, 13:16 ISTUpdated -04 Aug 2022, 10:47 IST
Next
Article
know about harem in mughal

हिंदुस्तान में कई सालों तक कई बादशाहों या फिर राजाओं का राज रहा है। लेकिन इस दौरान कई वंशज रहे हैं, जिनकी हुकूमत को आज भी याद किया जाता है जैसे- मुगल साम्राज्य आदि। वैसे तो मुगल साम्राज्य का शासन का दौर काफी लंबा रहा है, जिसके बारे में विस्तार से बात कर पाना थोड़ा मुश्किल है। 

लेकिन कहा जाता है कि हिंदुस्तान पर मुगलों का शासन लगभग सन 1526 से 1707 तक रहा है, जिसकी स्थापना बाबर ने पानीपत की पहली लड़ाई में इब्राहिम लोदी को हराकर की थी।इसके बाद कई बहादुर बादशाहों ने मुगल साम्राज्य का शासन बढ़ाने का काम किया था जैसे- हुमायूं, अकबर, जहांगीर, शाहजहां और औरंगजेब प्रमुख बादशाह हैं। 

कहा जाता है कि इन्होंने अपने शासन के दौरान न सिर्फ समाज का निर्माण किया बल्कि भारत को नया आयाम देने का भी काम किया है। इसलिए कई लोग मुगल शासन और मुगल शासन से जुड़ी चीजों को जानने में रुचि रखते हैं खासतौर पर मुगल हरम। इसलिए आज हम आपको मुगल हरम और इससे जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

क्या था मुगल हरम? 

What is mughal harem

मुगल काल में जिस कमरे में खास महिलाएं या फिर बेगम रहा करती थीं, उसे हरम कहा जाता था। यानि आसान शब्दों में महल में शाही महिलाओं के लिए रहने की अलग से व्यवस्था या फिर कमरों को हरम के नाम से जाना जाता था। बता दें कि अरबी भाषा का शब्द है, जिसका मतलब है एक छुपा हुआ कमरा जहां पुरूषों के आने की इजाजत नहीं थी। 

इसे ज़रूर पढ़ें- मुगल साम्राज्य के इन शक्तिशाली बादशाहों के बारे में कितना जानते हैं आप? 

कैसे शुरू हुई हरम बनवाने की परंपरा

अबुल फजल की किताब के मुताबिक मुगल साम्राज्य का हर बादशाह अपने महल में महिलाओं के लिए हरम बनवाया करते थे। जिसकी शुरुआत बादशाह बाबर ने की थी, लेकिन सही मायने में इसकी शुरुआत बादशाह अकबर ने की थी। इसके बाद जहांगीर के शासन के दौरान हरम बनवाने की परंपरा अपने चरम पर थी, लेकिन औरंगजेब के शासन के दौरान मुगल हरम की परंपरा खत्म हो गई थी।  

हरम में किसी को जाने की नहीं थी अनुमति

Mughal empire and harem

कहा जाता है कि हरम शाही महिलाओं के लिए बनवाया जाता था। इसलिए हरम के अंदर गैर लोग या फिर किसी बाहर के लोगों को जाने की अनुमति नहीं थी। क्योंकि महिलाओं की सुरक्षा का खास ध्यान रखा जाता था और महिलाएं पर्दे में भी करती थीं। (हुमायूं की सबसे पसंदीदा बेगम)

इसे ज़रूर पढ़ें- मुगल इतिहास की इन शक्तिशाली रानियों के बारे में कितना जानते हैं आप?

किन्नरों की होती थी नियुक्ति 

Mughal harem interesting facts

हम आपको बता चुके हैं कि हरम के अंदर किसी पुरुष को जाने की अनुमति नहीं थीं। इसलिए हरम की रखवाली करने के लिए किन्नरों की नियुक्ति की जाती थी। क्योंकि किन्नर न सिर्फ शाही महिलाओं की देखरेख करते थे बल्कि सारा काम भी देखते थे। 

उम्मीद है यह जानकारी पसंद आई होगी। आपको लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर और लाइक ज़रूर करें, साथ ही, ऐसी अन्य जानकारी पाने के लिए जुड़े रहें हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- (@Freepik and Shutterstock) 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।