गुड़हल का पौधा आमतौर पर सभी घरों में आसानी से मिल जाता है। कम देखभाल के बावजूद ये पौधा बहुत जल्दी बढ़ता है और बहुत जल्द ही इससे फूल खिलने लगते हैं। गुड़हल का फूल दिखने में बहुत ज्यादा खूबसूरत लगता है लेकिन इसके पौधे की उचित देखभाल न करने पर इसमें सफ़ेद रंग का मोम के सामान कीड़ा लग जाता है जो पत्तियों और पौधों को नुकसान पहुंचा देता है। इस कीड़े को मिली बग कहा जाता है।

miley bug in hibiscus

यह सफ़ेद कीड़ा पूरे पौधे और तने में फैलकर पत्तियों और फूलों को भी नुक्सान पहुंचाता है जिससे ये पौधा खराब होने लगता है। इस कीड़े को कुछ आसान उपायों से दूर किया जा सकता है और गुड़हल के पौधे की खूबसूरती कायम रखी जा सकती है।

पत्तियों और तने को करता है खराब 

miley bug hibiscus

मिली बग नाम का सफ़ेद कीड़ा मुख्य रूप से गुड़हल के (गुड़हल के फायदे) तने और पत्तियों में लगता है। ये बहुत जल्द ही पत्तियों पर असर डालता है जिससे पत्तियां पीली पड़कर टूटने लगती हैं और इसके दुष्प्रभाव से पूरा तना भी सड़ने लगता है। इस कीड़े को हटाने के लिए कुछ तरीके हैं कि पौधे के तने में अलकोहल रगड़ा जाए। इसके लिए कीड़े वाले स्थान पर अलकोहल में डूबी हुई कॉटन को तने में रगड़ें और इससे कीड़े को हटाने की कोशिश करें। कीड़ों को किसी पतली लकड़ी से हटाने की कोशिश करें और पौधे से दूर हटाकर फेंक दें। इसके अलावा 3 कारगर उपाय हैं जिनसे इन कीड़ों से पूरी तरह छुटकारा पाया जा सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें: Gardening Tips: इन 10 ट्रिक्स से घर के पौधों को कीड़े लगने से बचाएं और गार्डन को बनाएं हरा-भरा

तेज धार से पानी दें 

watering in habiscus

उपचार करने से पहले अपने गुड़हल के पौधे को अच्छी तरह से पानी दें। कीड़ों को भगाने का सबसे सस्ता और आसान उपाय कीड़े वाले स्थान पर पानी की धार डालना है। इसके लिए आप किसी तेज प्रेशर वाले पाइप का इस्तेमाल करें और मिलीबग के ऊपर तेजी से पानी का छिड़काव करें। काफी हद तक इस उपाय से कीड़े पौधे को छोड़कर निकलने लगते हैं। पौधे पर पानी की तेज धार देते समय ध्यान में रखें कि ये धार फूल या पत्तियों की जगह तने वाले हिस्से में दी जाए। जिससे सभी कीड़े अलग हो सकें। 

Recommended Video

नीम के तेल का स्प्रे 

neem oil sprey

अगर गुड़हल के तने और पत्तियों में मिली बग लग जाए तो इसके लिए नीम के तेल (घर में ऐसे बनाएं नीम का तेल) से तैयार स्प्रे का इस्तेमाल कारगर उपायों में से एक है। इसके लिए एक लीटर पानी में एक चुटकी बेकिंग सोडा, 1 चम्मच शैम्पू और 2-3 बूंदें नीम के तेल की मिलाकर अपने पौधों पर छिड़कें। कुछ ही दिनों में आपकी समस्या दूर हो जाएगी। इस स्प्रे का इस्तेमाल दिन में कम से कम दो बार करें। 3 से 4 दिन में ये कीड़ा पौधे से पूरी तरह से हट जाएगा और पौधा नुकसान से बच जाएगा। जैसे ही किसी पौधे पर एक-दो कीड़े दिखाई दें तो तुरंत इस स्प्रे का इस्तेमाल करें। 

सोप वॉटर स्प्रे 

soap water sprey

यदि गुड़हल के पौधे में सफ़ेद कीड़ा या मिली बग लग जाए तो एक आसान, प्राकृतिक उपाय सोप वॉटर स्प्रे का इस्तेमाल है जो आपको गुड़हल में लगे कीड़े को दूर करने में मदद करता है। इस स्प्रे को तैयार करने के लिए एक स्प्रे बोतल में 1 चौथाई पानी डालें और 2% प्रतिशत की वांछित सांद्रता तक पहुँचने के लिए डिटर्जेंट के 4 चम्मच डालें और इसे अच्छी तरह मिक्स कर लें। इस पानी से कीड़े लगे हुए पौधे को स्प्रे करें और प्रत्येक पौधे को एक अच्छा स्प्रे दें। इस स्प्रे के 4 से 5 बार इस्तेमाल करने पर ही गुड़हल का कीड़ा निकल जाएगा और पौधा भी सुररक्षित रहेगा। सोप वॉटर का छिड़काव तब तक करें जब तक यह पौधे की सभी सतहों से न निकल जाए। पत्तियों के पिछले हिस्से और पत्तियों को ढकने वाले तनों के हिस्सों को इस पानी से गीला करना सुनिश्चित करें। 

इसे जरूर पढ़ें: अगर पहली बार गार्डनिंग करने जा रहे हैं तो रखें इन बातों का ध्यान

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik