आपकी ख्वाहिश होती है कि आपका जीवनसाथी हमेशा आपकी केयर करें, आपकी छोटी-बड़ी जरूरतों का खयाल रखे, आपकी रेस्पेक्ट करे। लेकिन इन सब बातों के लिए बहुत जरूरी है कि आप और आपका जीवनसाथी दोनों के बीच अच्छी अंडरस्टैंडिंग हो। पहले के समय में अरेंज मैरिज का कॉन्सेप्ट था, जाति के आधार पर शादियां होती थीं। इसमें एक जैसे फैमिली स्टेटेस वाले घर-परिवार से रिश्ते देखे जाते थे, परिवारों के बीच कंपेटिबिलिटी देखी जाती थी, लड़का-लड़की की कुंडली देखकर उनके गुणों का मिलान किया जाता था, यह सबकुछ इसीलिए ताकि दुल्हा-दुल्हन के बीच कंपैटिबिलिटी अच्छी हो और लड़की अपने ससुराल में किसी तरह की परेशानी का सामना ना करे। लेकिन आज वक्त पूरी तरह बदल चुका है। आज लड़कों की तरह लड़कियां भी वर्किंग हैं और शादी के लिए कोई फिक्स्ड रूल नहीं हैं। अगर लड़का-लड़की एक दूसरे को पसंद कर रहे हैं तो शादी तक भी बात पहुंच जाती है, फिर चाहे लड़का और लड़की किसी भी बैकग्राउंड से आते हों। बहुत से रिश्ते मैट्रिमोनी साइट्स के जरिए भी किए जा रहे हैं। बहुत सी लड़कियां अपनी पसंद से अपना साथी चुनने में यकीन रखती हैं। ऐसी स्थितियों में आपके लिए यह और भी जरूरी हो गया है कि आप अपने लिए ऐसा जीवनसाथी चुनें, जिसके साथ आपकी कंपैटिबिलटी और पूरी जिंदगी हंसी-खुशी से बीते। अच्छी कंपेटिबिलिटी बनाने के लिए हमने बात की रिलेशनशिप कोच पंकज दीक्षित से और उन्होंने इस बारे में कुछ अहम सुझाव दिए-

जानें अपना और साथी का वैल्यू सिस्टम

compatibilty inside

ज्यादातर लड़कियां सोचती हैं कि उन्हें आइडियल जीवनसाथी मिले, लेकिन रियलिटी में आइडल जैसा कुछ कोई नहीं होता। असल में यह बात मायने रखती है कि आपके साथ उनका तालमेल कैसा रहेगा। इसके लिए सबसे पहले आपको खुद को जानना जरूरी है। आप किन चीजों को वैल्यू देती हैं, कौन सी चीजें आप बिल्कुल भी एक्सेप्ट नहीं करतीं, ये अपने बारे में स्पष्ट रूप से पता होना चाहिए। ऐनालाइज करें कि वैचारिक तालमेल सही है या नहीं, किस चीज को आप सही मानते हैं और किसे गलत। आप दोनों का एजुकेशन लेवल और पारिवारिक पृष्ठभूमि कैसी रही है, इस बारे में भी थोड़ा सोचें-विचारें। अपने साथी से भी आपको इस बारे में बात करनी चाहिए, इससे आप इस बात का अंदाजा लगा सकती हैं कि उनके साथ आपकी अंडरस्टैंडिंग किस लेवल की बन सकती है।

इसे जरूर पढ़ें: बाहुबली फेम राणा दग्गुबाती ने गर्लफ्रेंड मिहिका बजाज को शादी के लिए किया प्रपोज, वायरल हुई मिहिका-राणा की ये तस्वीर

वैल्यू सिस्टम जानने के लिए पूछें ये सवाल

बहुत सी लड़कियां अपने वैल्यू वैल्यू सिस्टम को लेकर अवेयर नहीं होतीं और कई बार अपने बारे में यह समझना इतना आसान भी नहीं होता। इसके लिए आप अपने  अपने फ्रेंड्स, फैमिली से अपने बारे में अपनी पसंद और अपनी शख्सीयत से जुड़े कुछ सवाल पूछ सकती हैं कि किस चीज से म, किस चीज को टॉलरेट नहीं कर सकती, अकेले ज्यादा अच्छा लगता है,  एक-दो फ्रेंड्स के साथ या फिर बहुत सारे फ्रेंड्स के साथ रहना। सेल्फ अवेयरनेस से भी ये बातें पता चल जाती हैं। 

1-10 के स्केल में आप अपना एक एसेसमेंट करें कि आपको कितनी फ्लेक्सिबिलिटी स्वीकार्य है। हर किसी का एक्सेप्टिबिलिटी का स्तर अलग होता है, कुछ बहुत रिजिड होते हैं, उन्हें अपनी प्लान की हुई चीजों में बदलाव बिल्कुल एक्सेप्टेबल नहीं होता, वहीं कुछ बहुत लचीले होते हैं और हर स्थिति में अपने को आसानी से एडजस्ट कर लेते हैं। वैल्यू फाइंड करने के लिए ऑनलाइन टूल भी यूज कर सकती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: ब्रेकअप के बाद ये 8 बॉलीवुड एक्स बन गए दोस्त

कैसा है आपका नेचर

compatibility in marriage

1-10 के स्केल में खुद को नंबर दें कि आप डॉमिनेटिंग नेचर की हैं या ओबिडिएंट। आपके दोस्त किस तरह के हैं, दोस्तों के साथ आप कहां जाती हैं और किस तरह से वक्त बिताना पसंद करती हैं। आपको किस लेवल का परफेक्शन चाहिए। अगर किसी परेशानी, व्यस्तता में आपके हिसाब से चीजें ना हो पाएं तो आप किस लेवल तक एक दूसरे को सपोर्ट कर सकते हैं। ये बातें समझने की कोशिश करनी चाहिए। मुमकिन है कि इन सवालों के जवाब सीधे-सीधे नहीं मिलें, ऐसे में सिचुएशन बताकर आप एक दूसरे से सवाल पूछ सकते हैं। अगर आप में से एक डॉमिनेटिंग नेचर का है और दूसरा ओबिडिएंट तो आप आपसी समझ-बूझ के साथ अच्छी तरह से रह सकेंगे।  

Recommended Video


अपने इंट्यूशन का करें इस्तेमाल 

लेडीज अपने साथ होने वाली किसी गलत चीज को पहले ही भांप सकती हैं, यह खूबी उनमें जन्मजात होती है। आप अपने होने वाले जीवनसाथी से उनके घरवालों के बारे में पूछ सकती हैं। उनसे आप जान सकती हैं कि वह फैमिली के साथ कितना वक्त बिताते हैं, खुद को कितना वक्त देते हैं, उनके हीरो कौन हैं और वह उन्हें क्यों पसंद करते हैं। उनका नेचर सोशल है या नहीं, कई बार ऐसे सवालों के जवाब सीधी तौर पर नहीं मिलते, इसलिए आप कोई सिचुएशन देकर उनका व्यूपॉइंट पूछ सकती हैं। इसमें गलत-सही जैसा कुछ नहीं होता। आप उनके जवाबों के आधार पर इस बात का अंदाजा लगा सकती हैं कि उनके साथ आपकी अंडरस्टैंडिंग आगे चलकर कैसी रहेगी। 


इंट्रोवर्ट हैं या एक्सट्रोवर्ट

compatibility in marriage

अगर आप में से एक इंट्रोवर्ट है और एक एक्सट्रोवर्ट तो यह तालमेल चल जाएगा। अगर आप दोनों एक्स्ट्रोवर्ट हैं तो किस लेवल के हैं। कुछ लोग दो-तीन बार की बातचीत में आसानी से खुल जाते हैं, कुछ नहीं खुलते। कुछ अपनी बातें आसानी से शेयर कर लेते हैं, कुछ नहीं करते। अगर आपका साथी संकोच कर रहा है तो उसे थोड़ा वक्त देना चाहिए। उनसे पूछ सकते हैं कि जब वे इमोशनल होते हैं तो कैसे बिहेव करते हैं, अलग-अलग समय में अपनी फीलिंग्स को कैसे एक्सप्रेस करते हैं। अपने पार्टनर से आप रिलिजन, मटीरियल वेल्थ, करियर, एंबिशन से जुड़े सवाल भी आप पूछ सकती हैं। वे प्यार के बारे में क्या सोचते हैं, कितने हेल्थ कॉन्शस हैं।  सक्सेस के बारे में उनकी क्या सोच है। आप दोनों के थॉट्स एक जैसे हों, ये जरूरी नहीं। कई चीजों में अपोजिट हो सकता है, कई चीजों में साथ हो सकता है। लेकिन आप एक-दूसरे की चीजों को एक्सेप्ट कर रहे हैं या नहीं, यह अहम है। 

अगर आपको यह खबर उपयोगी लगी तो इसे जरूर शेयर करें, रिलेशनशिप से जुड़े अन्य आर्टिकल्स पढ़ने के लिए विजिट करती रहें हरजिंदगी।