नई नवेली दुल्हन के लिए शादी के बाद ससुराल में हर एक त्यौहार कुछ अलग ही मायने रखता है। हर सुहागन ससुराल के रंग में सराबोर होकर जहां एक तरफ त्यौहार का मज़ा उठाती है, वहीं उसके मन में नई दुल्हन होने की ख़ुशी भी शामिल होती है। शादी के बाद के त्योहारों में से सबसे ज्यादा मायने रखता है करवा चौथ का त्यौहार। इस दिन हर सुहागन अपने पति की लम्बी उम्र की कामना करते हुए उपवास रखती है। नई नवेली दुल्हन के लिए ये व्रत बहुत ज्यादा खास होता है। आइए जानें  नई नवेली दुल्हन के लिए क्यों खास होता है पहला करवा चौथ 

शादी के बाद पहला करवा चौथ है खास 

first karwa chauth

शादी के बाद पहला करवा चौथ खास होता है। अगर आप पहली बार करवा चौथ का फास्ट रख रही हैं तो आपके साथ-साथ आपके ससुराल वालों के लिए भी ये खास होगा। नई नवेली दुल्हन की सास भी उसके साथ फास्ट की तैयारियों में जुट जाती हैं। सुबह सरगी के साथ दिन की शुरुआत होती है। उसके बाद पूरे दिन तरह-तरह के पकवान बनते हैं। एक दुल्हन की तरह नवविवाहिता तैयार होती हैं। ससुराल वाले अपनी बहू को कुछ खास चीजें देते हैं। जैसे नए कपड़े और गहने। कई महिलाओं के माइके से उनके लिए तोहफे भी आते हैं। 

दुल्हन की तरह तैयार होना 

first karwa chauth

महिलाएं इस दिन सबसे खूबसूरत और खास दिखना चाहती हैं। जिनका पहला करवा चौथ होता है वे महिलाएं दुल्हन की तरह तैयार होती हैं। लाल रंग का जोड़ा शगुन के तौर पर माना जाता है। इसके अलावा कई और रंग हैं जो इस दिन पहने जाते हैं। जिन महिलाओं का शादी के बाद पहला करवा चौथ होता है वो इस दिन दुल्हन की तरह कपड़े पहनने के साथ-साथ भारी गहने भी पहनती हैं, हाथों में मेहंदी सजाती हैं और सोलह श्रृंगार करती हैं। कई महिलाएं तो इस दिन अपनी शादी का जोड़ा भी पहन लेती हैं। 

चंद्रमा की पूजा 

first karwa chauth

करवा चौथ के फास्ट में चंद्रमा की पूजा का विशेष महत्व होता है। बॉलीवुड में जिस तरीके से चंद्रमा की पूजा करते हुए दिखाया जाता है जिस वजह से कई महिलाओं को अपने पहले करवा चौथ पर इसी तरह से पूजा करने का मन होता है। शाम को स्त्रियां पूजा करके चंद्रमा को अर्क देकर अपने पति की पूजा करती हैं और उनके हाथ से पानी पीकर व्रत खोलती हैं। पहला करवा चौथ बहुत खास होता है और शगुन का भी बहुत ध्यान रखा जाता है। हिंदू मान्यताओं के मुताबिक चंद्रमा को भगवान ब्रह्मा का रूप माना जाता है और चांद को लंबी आयु का वरदान मिला हुआ है। चांद में सुंदरता, प्रेम और लंबी आयु जैसे गुण पाए जाते हैं इसीलिए सभी महिलाएं चांद को देखकर ये कामना करती हैं कि ये सभी गुण उनके पति में आ जाएं। 

इसे जरूर पढ़ें: Karwa chauth 2020: हर सुहागन महिला को जरूर जाननी चाहिए करवा चौथ से जुड़ी ये ख़ास बातें

स्पेशल फील कराया जाता है 

first karwa chauth

पहले करवा चौथ पर महिला को स्पेशल फील कराया जाता है। घरवालों से तोहफे मिलने के साथ-साथ पति से भी स्पेशल गिफ्ट मिलता है और आजकल तो पति-पत्नी साथ-साथ इस व्रत को रखते हैं। पति पत्नी दोनों साथ में पूजा करते हैं और चांद के दर्शन के बाद साथ में पानी पीते हैं और भोजन ग्रहण करते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: Karwa Chauth 2020 : पति की लंबी उम्र के लिए महिलाएं क्‍यों देखती हैं छलनी से चांद, जानिए कारण 

अगर आपका भी ये शादी के बाद का पहला करवा चौथ है, तो बात ही क्या है। सोलह श्रृंगार करके पति की लम्बी उम्र की कामना करते हुए उपवास करें और पहले करवा चौथ का भरपूर आनंद लें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Recommended Video