पेरेंट्स बनना एक नई रोमांचक दुनिया में कदम रखने जैसा है। लेकिन बच्‍चों की देखभाल करना बेहद मुश्किल होता है। छोटे बच्‍चों का इम्‍यून सिस्‍टम इतना कमजोर होता है कि उन्‍हें वायरस या बैक्टीरिया के इंफेक्‍शन होने का खतरा ज्‍यादा होता है। बढ़ते हुए बच्‍चे को हेल्‍दी रखने के लिए पेरेंट्स को बेहद सावधानी बरतनी चाहिए। कभी-कभी अनदेखे बैक्‍टीरिया छोटे बच्चे के कपड़ों में मौजूद होते हैं, जो बच्चे को प्रभावित करते हैं। इसके अलावा बच्‍चों की त्‍वचा बेहद नाजुक होती है और कपड़ों से भी उन्‍हें रैशेज की समस्‍या हो सकती है। इसलिए बड़ों के कपड़ों की तुलना में इन्हें अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है। बच्‍चों को साफ, आरामदायक और लंबे समय तक चलने वाले कपड़ों की जरूरत होती है। साफ और मुलायम कपड़े बच्चों को हेल्‍दी रखने में मददगार होते हैं और इन कपड़ों की देखभाल के कुछ तरीके हमें स्क्रैम किड्सवियर निदेशक मनोज जैन जी बता रहे हैं।

बच्‍चों के लिए सही कपड़ों का चुनाव

newborn baby clothes

सही कपड़े लंबे समय तक चलते हैं। बस ऐसे चुनें, जो आसानी से साफ हो जाएं, जिन्हें लगातार ध्यान देने की आवश्यकता न हो। 100% कॉटन एक आदर्श विकल्प है, क्योंकि इसे पहनने के बाद त्‍वचा आसानी से सांस ले सकती है, यह त्वचा पर आसान होते हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इसे आसानी से धोया जा सकता है।

इसे जरूर पढ़ें: बेबी के कपड़ों को धोते समय रखें इन बातों का ध्यान

नए कपड़ों को पहनाने से पहले धोएं

जब भी आप अपने छोटे बच्चे को पहनाने के लिए कुछ नया खरीदें, तब उन्‍हें कपड़े पहनाने से पहले धो जरूर लें। ऐसा इसलिए क्‍योंकि कपड़ों में आमतौर पर दुकान से विभिन्न केमिकल्‍स अवशेष होते हैं और बच्चे की संवेदनशील त्वचा इस पर प्रतिकूल प्रतिक्रिया दे सकती है। कपड़े धोने से उन में मौजूद अवशेष निकल जाते हैं, जिससे उन्‍हें जलन की समस्‍या नहीं होती है। इस प्रकार, ऐसे किसी भी अवशेष को हटाना महत्वपूर्ण है, जो बच्चे के लिए हानिकारक हो।

धोने का तरीका

how to wash

कपड़ों को हाथों से धोने पर इस बात का ध्‍यान रखना बेहद जरूरी होता है कि पेरेंट्स व्यक्तिगत रूप से सफाई प्रक्रिया पर नजर रखें। अगर वाशिंग मशीन का उपयोग कर रहे हैं, तो कोमल स्पिन चक्र उपयुक्त होगा। यह नाजुक कपड़ों को पूरी तरह से ढीले और ज़्यादा गरम होने से बचाने में मदद करता है। यह भी बहुत अच्‍छा रहता है कि पेरेंट्स किसी भी गंदगी या बैक्टीरिया को बेहतर ढंग से हटाने में मदद करने के लिए कपड़े को अंतिम धोने से पहले गर्म पानी में भिगो दें।

धोने के निर्देश के लिए लेबल को पढ़ें

किसी भी विशिष्ट धुलाई निर्देशों के लिए हमेशा कपड़ों के लेबल को देखें। ये लेबल आपको अपने बच्चे के कपड़ों की देखभाल करने और उन्हें लंबे समय तक अच्छी स्थिति में रखने के तरीके के बारे में मार्गदर्शन करने के लिए होते हैं। अच्छी तरह से धोए गए कपड़े लंबे समय तक चलते हैं और किसी भी तरह के दाग या डैमेज से बचते हैं। डायपर या नैपीज को अलग से गर्म पानी में धोएं, ताकि उनमें मौजूद किसी भी गंदगी और बैक्टीरिया को अच्‍छी तरह से साफ किया जा सके। ऐसा करने से बैक्‍टीरिया दूसरे कपड़ों में स्थानांतरित नहीं होते हैं। बच्चे अक्‍सर अपने कपड़ों को जल्‍दी गन्दा कर देते हैं इसलिए उनके कपड़े दिन में कई बार बदलें।

सुखाने और स्‍टोर करने का तरीका 

drying methods

बच्चे के कपड़ों को धूप में सुखाना, बचे हुए बैक्टीरिया को मारने का सबसे अच्‍छा तरीका है। इन्हें कॉटन बैग में सुखाना बेहतर होगा या इन्हें सुखाने के लिए सूती चादर में लपेट दें। यह बच्चे के कपड़ों को गंदगी या बैक्टीरिया से सुरक्षित रखने का एक शानदार तरीका माना जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें: बच्चे के वार्डरोब को आर्गेनाइज करने के लिए अपनाएं यह आसान टिप्स 

सही प्रोडक्‍ट्स का चुनाव करें

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है, नवजात शिशु की संवेदनशील त्वचा को देखभालके साथ संभालने की आवश्यकता होती है। इसलिए उनके कपड़े धोने के लिए सही प्रोडक्‍ट्स का इस्‍तेमाल करना महत्वपूर्ण है। संवेदनशील कपड़े धोने के लिए उपयुक्त प्रोडक्‍ट्स को खरीदना जरूरी होता है। इन दिनों, कई ब्रांडों ने विशेष बेबी लॉन्ड्री प्रोडक्‍ट्स बनाए हैं, जिनमें आर्गेनिंक या टिकाऊ सामग्री शामिल है। अंत में, अच्छा फैब्रिक कंडीशनर बच्चों के कपड़ों को नरम, आरामदायक और सुगंधित रखता है। कई तो कपड़ों को कीटाणु और बैक्टीरिया मुक्त भी रख सकते हैं।

अगर आपके घर में भी छोटा बच्‍चा है, तो इन टिप्‍स को अपनाकर आप भी अपने बच्‍चों के कपड़ों की देखभाल अच्‍छी तरह से कर सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।