दिवाली आने वाली है और इस दौरान कई लोगों के घरों पर ताश के पत्ते खेलने का रिवाज होता है। यकीनन दिवाली के समय परिवार वालों के साथ ताश खेलने का मज़ा ही कुछ और हो सकता है। एक तरफ तो परिवार की बॉन्डिंग ऊपर से ताश का खेल, इसमें जीतने वाला और ट्रिक्स खेलने वाले  खुद को जेम्स बॉन्ड से कम नहीं समझते हैं। ताश के पत्तों के साथ आपने जादू करते हुए कई लोगों को देखा होगा, लेकिन ये महज ट्रिक्स ही होती हैं। 

अगर हम आपसे कहें कि दिवाली के समय आप ताश के पत्तों से खेली जाने वाली कई ट्रिक्स फॉलो कर सकते हैं तो? आज हम आपको कुछ ऐसी ही ताश की ट्रिक के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं और दिवाली पार्टी में इंप्रेशन जमाने के काम आ सकते हैं। 

1. कार्ड शफलिंग-

ये ट्रिक मैथ्स के गेम पर आधारित है और इसमें से हमें ताश की गड्डी से 21 पत्ते चाहिए होंगे। कोई भी 21 पत्ते हो सकते हैं बाकी गड्डी को आप अलग रख दें। इसके बाद आपको बस ऑडियंस से पूछना है कि कोई एक कार्ड चुनें और इसके बारे में आपको ना बताएं। 

diwali card tricks

इसे जरूर पढ़ें- अपनी दिवाली को इन तरीको से बनाएं ईको फ्रैंडली और बांटे खुशियां

क्या करें-

  • अब ताश के पत्तों को शफल कर दें और ये ऑडियंस को दिखाते हुए करें ताकि उन्हें कोई शक ना हो। 
  • अब इन सभी पत्तों को तीन अलग-अलग गड्डियों में एक-एक करके खोलते हुए रखें। यानि आपको पहला पत्ता टेबल पर उल्टा करके पहले रखना है, फिर दूसरा अलग स्टैक (गड्डी) की शुरुआत करते हुए और तीसरा अलग गड्डी में। ऐसे करके 1-2-3 गड्डियों में कार्ड्स को बराबर बांट दें। 
  • ऑडियंस को पहले ही गाइड कर दें कि वो अपने कार्ड की गड्डी याद रखें। 
  • अब दोबारा उन कार्ड्स को एक गड्डी में मिलाएं और फिर यही प्रोसेस दो और बार दोहराएं। 
  • आपको तीन बार ये टोटल दोहराना है और हर बार ऑडियंस से यही पूछे कि उनका कार्ड कौन सी गड्डी में था। 
  • बीच-बीच में उन्हें कन्फ्यूज करने के लिए थोड़ा शॉकिंग एक्सप्रेशन भी दें। 
  • अब चौथी बार गड्डी को फिर से उसी एंगल में रखें और 11वां कार्ड उनके सामने रख थें। यही उनका कार्ड होगा चाहें उन्होंने जो भी कार्ड उठाया हो उसका नंबर 11वां ही होगा। 

क्या है ट्रिक? 

इस कार्ड गेम की ट्रिक ये है कि जिस भी गड्डी पर ऑडियंस का हाथ होगा कि उनका कार्ड इस गड्डी में है उसे हमेशा कार्ड शफल करते समय बीच में रखें। यानि अगर तीसरी गड्डी में कार्ड है तो सबसे पहले पहली वाली उठाएं फिर तीसरी वाली और फिर दूसरी वाली। इसे नेचुरल तरीके से करें ताकि आपका दिवाली गेम किसी को पता ना चले। इस ट्रिक को कुल तीन बार दोहराना है तभी 11वां कार्ड आएगा।  

इसे जरूर पढ़ें- Diwali 2021: जानें कब है दीपावली का त्योहार,पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा की सही विधि 

2. पहचान कौन 

कार्ड्स को शफल करने की ट्रिक तो आपने जान ली। अब कार्ड पहचानने की ही एक और ट्रिक के बारे में आपको बताते हैं। यहां आपको सारे ताश के पत्ते लेने हैं और उन्हें सीधा (जिससे कार्ड कौन सा है ये दिखे) टेबल पर फैला देना है। ध्यान रहे कि कार्ड एक ही लाइन में फैलाएं। अब ऑडियंस में से किसी से भी आप अपना कार्ड चुनने को कहें जिसे सब देखेंगे।  

card tricks for diwali

क्या करें- 

  • अब उस कार्ड को हटाकर पूरी गड्डी को एक-एक करके उल्टा (जिससे पता ना चले कि कार्ड कौन सा है) टेबल पर रखने लगें। 
  • आपको ऑडियंस वाले उस बंदे से कहना है कि वो जिस भी कार्ड के पहले बोलेगा उस कार्ड पर रोककर उनका कार्ड रख दिया जाएगा। 
  • मान लीजिए 21वें कार्ड के बाद उसने स्टॉप कहा उस जगह पर वो कार्ड (उदाहरण के लिए जोकर) सीधा (मुंह दिखता रहे) रख दीजिए। 
  • अब कार्ड्स को शफल कीजिए और दोबारा टेबल पर उसी तरह फैला दीजिए। एक कार्ड को छोड़कर बाकी कार्ड उल्टे होंगे और आपको ये पता होगा कि जोकर से ऊपर कौन सा कार्ड रखा है।  

क्या है ट्रिक? 

यहां ट्रिक कुछ ऐसी है कि आपको सबसे पहला और सबसे आखिरी कार्ड याद रखना है जब भी आपने सबसे पहले कार्ड्स को टेबल पर फैलाया था। मसलन अगर जोकर के सिलेक्शन के टाइम 'पान का 5' कार्ड सबसे ऊपर की साइड था और 'हार्ट क्वीन' सबसे नीचे तो इन्हीं दो कार्ड्स को याद रखें।  

Recommended Video

अब जब भी आप ऑडियंस से कहेंगे कि वो जिस कार्ड पर स्टॉप कहेंगे उसी कार्ड के नीचे आप उनका कार्ड रखेंगे तो आप ब शांति से डेक का नीचे वाला हिस्सा यानि 'हार्ट क्वीन'  कार्ड उसके ऊपर रख दें। ऐसे में आपको पता होगा कि उनके जोकर कार्ड के ऊपर कौन सा कार्ड रखा हुआ है।  

ये सारी ट्रिक आपके लिए काफी मददगार साबित हो सकती है और दिवाली पार्टी पर अच्छा इम्प्रेशन डाल सकती है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।