Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    Dussehra 2022:जानिए कितने दिनों तक चला था रावण और राम का युद्ध

    इस लेख में हम आपको बताएंगे कि कितने दिनों तक रावण और भगवान राम का युद्ध हुआ था। 
    author-profile
    Published -04 Oct 2022, 17:09 ISTUpdated -04 Oct 2022, 17:19 IST
    Next
    Article
    how many days ramayana war took place

    हिंदू धर्म में हर त्योहार का विशेष महत्व होता है। दशहरा का पर्व भी हमारे देश के लोगों के लिए विशेष महत्व रखता है। दशहरा का पर्व हर वर्ष आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। इस वर्ष दशहरा का पर्व 5 अक्टूबर को मनाया जाएगा।

    दशहरा के दिन लोग रावण के पुतलों को जलाते हैं। इस त्योहार को अच्छाई की बुराई पर जीत के रूप में मनाया जाता है। हम आपको बताएंगे कि रामायण में राम जी और रावण का युद्ध कितने दिनों तक हुआ था। 

    क्यों है दशहरा का विशेष महत्व?

    ramayana war occured how many days

    आपको बता दें कि रामायण के अनुसार प्रभु राम और रावण के बीच भंयकर युद्ध हुआ था। इस युद्ध के बाद भगवान राम ने युद्ध में सफलता हासिल हुई थी। उस दिन से ही हर वर्ष दशहरा का पर्व हमारे देश में मनाया जाता है। आपको बता दें कि रावण के पास कई सारे अस्त्र थे फिर भी उसका वध हुआ था।

    यहीं नहीं रावण को कई तरह की ऐसी कलाएं भी आती थी जिसकी वजह से वह असुरों में सबसे शक्तिशाली भी था। दशहरा का महत्व इसलिए भी विशेष माना जाता है क्योंकि इस दिन भगवान राम ने कुल 8 दिनों के युद्ध के बाद विजय हासिल की थी। 

    इसे जरूर पढ़ें-Dussehra 2022: सीता का हरण करने वाले रावण को क्यों कहा जाता था सर्वज्ञानी? जानें कारण

    कितने दिनों तक और कैसे हुआ था युद्ध?

    आपको बता दें कि रावण को युद्ध में हराना बहुत मुश्किल था। रावण के पास विमान और कई अस्त्र- शस्त्र थे। रावण को शिव जी का भी वरदान मिला था। यही नहीं रावण कई सारी मायावी शक्तियों का स्वामी भी था। रावण को युद्ध में हराने से पहले लंका में प्रवेश करना भी एक सबसे कठिन कार्य था।

    आपको बता दें कि प्रभु श्रीराम ने लंका पर चढ़ाई करने के पहले शिव की आराधना की थी। इसके बाद भगवान राम और रावण का युद्ध कुल 8 दिनों तक चला था। लेकिन कुछ मान्यताओं के अनुसार यह भी बताया जाता है कि यह युद्ध 84 दिनों तक चला था। आपको बता दें कि जब यह युद्ध शुरू हुआ तो कई कोशिशों के बाद भी रावण को हरा पाना असंभव था क्योंकि जैसे ही रावण का सिर उसके धड़ से अलग किया गया तब उसका दूसरा सिर उत्पन्न हो जाता था।

    कई बार रावण ने उसका वध करने का प्रयास किया फिर भी उसकी मृत्यु नहीं हुई। इसके बाद इसके बाद दोनों के बीच तीनों लोकों को हिला देने वाला युद्ध हुआ।

    इसे जरूर पढ़ें-Dussehra 2022: दशहरा पर मेला देखने जा रहे हैं तो रखें इन बातों का ध्यान

    आपको बता दें कि अंत में रावण की नाभि पर प्रभु राम जी ने तीर चलाया जिसके बाद उसकी मृत्यु हो गई थी। 

    तो यह थी भगवान राम और रावण के युद्ध के बारे में जानकारी।  

     

    अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के  लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

     

    Image Credit: flickr

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।