कोरोना महामारी और फिर बाद में लॉकडाउन में कई लोगों के रोजगार छीन गए। लाखों लोग बिना किसी काम के महीनों घर बैठे रहे। कई लोग जो घर से बाहर काम कर रहे थे वो घर पर आ गए। इस खाली समय में कुछ अपने लिए अपने आसपास रोजगार खोजा तो कुछ ने घर पर ही कुछ अलग और क्रिएटिव काम करने में लग गए। ऐसे ही पंजाब के एक निवासी हैं जिन्होंने घर पर इस महामारी में खाली समय को बरबाद करने की जगह लकड़ी की साइकिल बना डाली जिसे काफी पसंद किया जा रहा है। इस साइकिल को उन्होंने खुद ही डिज़ाइन किया और बनाया है। चलिए इस कारीगर और इस साइकिल के बारे में और करीब से जानते हैं।

ये व्यक्ति है पंजाब के जीरकपूर निवासी 'धनीराम सग्गू'। एक मीडिया हाउस से बात करते हुए धनीराम कहते हैं कि 'लॉकडाउन में जब वह घर पर खाली बैठे थे तो अचानक उनको एक दिन ख्याल आया कि क्यों ना साइकिल बनाई जाए जो बिल्कुल अलग और खुद का क्रिएटिव हो'। आगे वो कहते हैं कि 'फिर एक पेज पर मैंने पहले इस साइकिल का डिज़ाइन तैयार किया और फिर इस काम में लग गया'।

made a wooden bicycle inside

इसे भी पढ़ें: भारत के इन राज्यों में घूमने जाएं तो वहां के असली स्वाद को टेस्ट करना ना भूलें

Recommended Video


आगे बात करते हुए कहते हैं कि शुरुआत में इसे बनाने में परेशानी हुई थी, लेकिन जैसे-जैसे साइकिल तैयार होती गई वैसे-वैसे लगा कि अब मैं इसे जल्द ही बना लूंगा। वो कहते हैं कि 'साइकिल को बनाने में लगभग मुझे चार महीने लगे'। (मिलिए ‘वायर वुमन’ से) धनीराम ने आगे बताया कि 'इस लॉकडाउन में मेरे पास ना ही कोई काम था, और ना ही खाने-पीने के लिए पैसा , हां! मेरे पास लकड़ी थी जिसे देख का मुझे ध्यान आया कि क्यों ना इसी लकड़ी से कुछ ऐसा तैयार किया जाएं जिसे सभी पसंद करे'।

 

धनीराम मीडिया से बात करते हुए कहते हैं कि 'अभी तक आठ साइकिल को मैं बेच चूका हूं, और अभी कई साइकिलों पर काम कर रहा हूं'। आगे वो कहते हैं कि 'इस साइकिल के लिए मुझे साउथ अफ्रीका से लेकर कनाड़ा तक और देश में जालंधर से लेकर दिल्ली तक से ऑर्डर आ रहे हैं'। (चायवाले की बेटी बन गई IAF पायलट)

इसे भी पढ़ें: कोरोनो वायरस से बच्चों को बचाने के लिए सिखाएं ये हाइजीन टिप्स

इंटरनेट पर वायरल

dhaniram saggu made a wooden bicycle inside

इस साइकिल को इंटरनेट पर खूब पसंद किया जा रहा। इंटरनेट पर कई लोग इसका कीमत और वजन के बारे में भी पूछ रहे हैं। वैसे बताया जा रहा है कि इस साइकिल की कीमत पंद्रह हज़ार के आसपास है और इसकी वजन लगभग बीस किलो के आसपास है। धनीराम का कहना है कि 'इसे मैं और भी एडवांस और बेहतर बना रहा हूं'। (पहली महिला एंबुलेंस ड्राइवर एम वीरलक्ष्मी)

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:(@ani hindi news)