एंग्री यंग मैन, बिग बी, शहंशाह या महानायक, अमिताभ बच्‍चन को आप चाहे किसी भी नाम से पुकारें, वह किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। बॉलीवुड एक्‍टर अमिताभ बच्‍चन का हिंदी सिनेमा का बहुत बड़ा योगदान है। एंग्री यंग मैन हो या सदी के महानायक बिग बी अमिताभ बच्चन की एक-एक अदा उनके फैंस के दिल में उतर जाती है। आज भी लोग उनकी आवाज सुनने के लिए कौन बनेगा करोड़पति देखना बेहद पसंद करते हैं। जी हां अमिताभ की एक्टिंग और आवाज ने आज भी लोगों को अपना दीवाना बना रखा है। इस उम्र में भी युवा उन्‍हें अपना रोल मॉडल मानते हैं। क्‍या आप जानते है कि लोगों के दिलों पर राज करने वाले बॉलीवुड के शहंशाह ने एक्टिंग करियर के 50 साल पूरे कर लिए हैं और इस मौके पर उनके बेटे अभिषेक बच्चन ने उन्‍हें बेहद ही खास अंदाज में विश किया है।  

इसे जरूर पढ़ें: इन बातों से जाहिर होता है कि बेटी श्वेता बच्चन पर जान छिड़कते हैं अमिताभ बच्चन

amitabh bachchan completes  years in cinema inside

आज से 50 साल पहले अमिताभ बच्चन की डेब्यू फिल्म 'सात हिंदुस्तानी' रिलीज हुई थी। इस फिल्म और अमिताभ बच्चन के करियर के 50 साल पूरे होने पर बेटे अभिषेक बच्चन ने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट शेयर किया है। इस पोस्ट के कैप्‍शन में अभिषेक ने लिखा हैं, ''सिर्फ एक बेटे के रूप में नहीं, बल्कि एक एक्‍टर और फैन के रूप में ... हम सभी आपकी महानता के गवाह हैं! तारीफ करने, सीखने और सराहना करने के लिए बहुत कुछ है। सिनेमा लवर्स की कई पीढ़ियों का कहना है कि हम बच्चन के जमाने के हैं! फिल्म इंडस्‍ट्री में 50 साल पूरे करने पर पा को बधाई। अब हमें अगले 50 का इंतजार है! लव यू''

'सात हिंदुस्‍तानी' फिल्‍म की जानकारी

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन की पहली फिल्म का नाम सात हिन्दुस्तानी था। जो 7 नवंबर, 1969 में रिलीज हुई थी। अमिताभ बच्चन का साल 1969 से शुरू हुआ सफर आज तक जारी है। ये फिल्म ख्वाजा अहमद अब्बास द्वारा लिखित, निर्मित और निर्देशित की गई है। इस फिल्म में गोवा को पुर्तगाली शासन से मुक्त कराने की सात हिन्दुस्तानि‍यों की कहानी दिखाई गई है। इस फिल्म में उत्पल दत्त, मधु, एके हंगल के साथ अमिताभ बच्चन ने मुख्य भूमिका निभाई थी। जिसमें उन्होंने एक भारतीय युद्ध-बंदी व इस्लामी कवि का पात्र निभाया था। 

इसे जरूर पढ़ें: अमिताभ बच्‍चन की प्रॉपर्टी में बेटे अभिषेक को नहीं मिलेगा पूरा हिस्‍सा

अमिताभ बच्चन की पहली फिल्म 'सात हिंदुस्तानी' मिलने के पीछे भी एक बहुत ही दिलचस्‍प कहानी है। जी हां जब फिल्‍मी दुनिया में छा जाने के सपने देखने वाले अमिताभ को पता चला कि इस फिल्म में काम करने का मौका मिल सकता है तो उन्होंने कोलकाता में अपनी 1600 रुपये की नौकरी छो़ड़ दी और मुंबई के लिए रवाना हो गए थे। अमिताभ बच्चन को दो रोल यानि पंजाबी और मुस्लिम के बीच में से किसी एक रोल को चुनना था। अमिताभ ने मुस्लिम वाला रोल चुना क्योंकि उन्हें यह रोल ज्‍यादा दमदार लगा। क्‍या आप जानती हैं कि जिस फिल्‍म के लिए उन्‍होंने अपनी नौकरी भी छोड़ दी थी उस फिल्‍म की पेमेंट उनकी सेलेरी से भी कम थी। 

amitabh bachchan completes  years in cinema inside

1971 में अमिताभ बच्‍चन, राजेश खन्ना के साथ फिल्म आनंद में नजर आए। इस फिल्म के लिए उन्हें पहला फिल्मफेयर अवार्ड भी मिला था। लेकिन अमिताभ को 1973 में आई प्रकाश मेहरा की फिल्म जंजीर से पहचान मिली और एंग्री मैन का रोल दर्शकों के दिल में बैठ गया। इसके बाद भी अमिताभ बच्‍चन रूकें नहीं और लगातार बिना थके हमें फिल्‍में देते रहें। चाहे उनकी शुरुआती फिल्‍म जंजीर, दीवार, मर्द, अमर अकबर एंथॉनी, सिलसिला, नमक हलाल, मिस्‍टर नटवरलाल, सूर्यवंशम हो या कुछ समय पहले आने वाली फिल्‍में 102 नॉट आउट, पीकू, अमिताभ की सभी फिल्‍में लोगों के दिलों पर छाई हुई है।