अगर आपका बच्‍चा जिद्दी तो उसे संभालना आपके लिए सबसे मुश्किल होता है। ऐसे में बच्चों को किसी भी काम के लिए मनाना पड़ता है, चाहे उनको खाना खिलाना हो, नहलाना हो या सुलाना हो। हर छोटी-छोटी बात के लिए उन्‍हें समझाना पड़ता है। अगर आपका बच्चा भी जिद्दी है और आपकी बात नहीं सुनता तो आप इन टिप्स को अपनाकर अपने बच्चे को समझाने में कामयाब हो सकती हैं। जिद्दी बच्चों को संभालने का सबसे आसान और अच्‍छा तरीका है कि आप उनके जिद्द पर ध्‍यान ना दें। लेकिन जब वो अच्छा व्यवहार करें तो उसकी तारीफ करना ना भूलें। तो आइए जानें इन 6 टिप्‍स के बारे में।

deal with a stubborn child inside

इसे जरूर पढ़ें: बच्चों को पब्लिक में discipline में रखने के लिए अपनाएं यह टिप्स

उनसे जबरदस्ती ना करें

कभी भी अपने बच्‍चे के साथ किसी भी बात को लेकर जबरदस्ती ना करें, ऐसा करने से वो नैचर से विद्रोही हो जाते हैं। कई बार आपको लगता है की जबरदस्ती से ही काम बनेगा लेकिन आगे चल कर ये बच्‍चे पर बुरा असर डालती है। बच्चे से जबरन कुछ करवाने पर वे वही कुछ करने लगते हैं जिनके लिए उन्हें मना किया जाता है। बच्‍चे से जबरदस्ती करने के बजाए उससे तालमेल बनाने की कोशिश करें। जब आप उनकी बातों दिलचस्पी लेंगी तो वे आपकी बात ज्‍यादा मानेंगे। अगर आपका बच्चा आपसे कनेक्टेड है तो वो खुद-व-खुद समझदार हो जाएगा। जिद्दी बच्चों के साथ ऐसा रिश्ता बनाएं जिसकी अनदेखी करना उनके लिए मुश्किल हो।

बच्‍चे के साथ निगोशिएट करें

कई बार बच्चे के साथ निगोशिएट करना भी जरूरी हो जाता है। कई बार जब बच्चे को अपनी मर्जी की चीजें नहीं मिलती है तो वे जिद करने लगता हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि आप उनकी हर बात को मान लें। ऐसे में इसका व्यावहारिक हल निकालें। सुबह बच्चे को जल्दी उठाने के लिए अपनाएं ये 5 आसान तरकीबें। 

उनसे बहस ना करें बल्कि उनकी बात सुने

अगर आप चाहती हैं कि आपका जिद्दी बच्चा आपकी बात सुने तो इसके लिए सबसे पहले तो आपको उसकी बात सुननी होगी। जिद्दी बच्‍चे जल्‍दी अपनी राय नहीं बदलते और कई बार वे बहस करने लगते हैं। अगर आप उनकी बात नहीं सुनेंगी तो वो और ज्यादा जिद्द करेगा। जब उन्हें यह महसूस होने लगता है कि उनकी बात नहीं सुनी नहीं जा रही है तो ऐसे में आपकी बात नहीं सुनेंगे और जिद्द करने लगेगे। जब भी आपका बच्‍चा कुछ करने या ना करने की जिद्द करेा तो सबसे पहले शांति से उसकी बात सुन लें और उस पर नाराज ना हों।

some tips for deal with a stubborn child inside

उन्हें ऑप्शन जरूर दें

बच्चे हमेशा वो करना पसंद नहीं करते हैं जो उन्हें कहा जाता है। इसलिए बच्चे को आर्डर देने के बजाए उन्हें सुझाव और ऑप्शन दें। इसके बाद भी बच्चा ना मानें तो ऐसे में धैर्य ना खोएं। अपनी बात को कई बार कह सकती हैं लेकिन गुस्‍सा ना हो, ऐसे में बच्चा जल्द ही अपनी जिद छोड़ देगा। हरदम टीवी के आगे बैठा रहता है बच्चा, तो इस तरह छुड़ाएं उसकी यह आदत

उनके साथ काम करें

जिद्दी बच्चे बहुत ज्यादा संवेदनशील होते हैं और इसलिए अपना बर्ताव सही रखें, जैसे की अपनी बॉडी लैंग्वेज, टोन, अपने शब्दों पर खास ध्‍यान रखें। जब बच्‍चे को आपका व्यवहार अच्छा नहीं लगता है तो वो खुद को बचाने के लिए सब कुछ करने लगता हैं, वो गुस्सा दिखाने लगते हैं और विद्रोही हो जाते हैं, हर बात का जवाब देने लगते हैं। अगर आप अपने बच्चे से कुछ करवाना चाहती हैं तो उससे ये काम मजेदार तरीके से करवाएं।

deal with your stubborn child inside

इसे जरूर पढ़ें: आलसी बच्चों को इन तरीकों से करें हैंडल हमेशा के लिए हो जाएंगे एक्टिव

बच्‍चे पर चिल्लाए नहीं

अगर आपको अपने बच्‍चे पर गुस्‍सा आ रहा है और आप उस पर चिल्‍ला रही हैं तो ऐसा बिल्‍कुल ना करें, क्‍योंकि हो सकता है कि आपका बच्चा आपके चीखने को जुबानी लड़ाई समझने लगे। इससे बच्चा और जिद्दी हो जाएगा। कोशिश करें कि बातचीत से निष्कर्ष निकालें। आप बड़े हैं इसलिए बच्चों की तरह बर्ताव बिल्कुल ना करें। कहीं आपका बच्चा भी तो अटेंशन पाने के लिए नहीं करता अजीब हरकतें