• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

जानें भारत की उस महिला गणितज्ञ की कहानी जिसने दुनिया भर में रचा इतिहास

जो लोग कहते हैं कि लड़कियां गणित में खराब होती हैं, तो उन्हें शकुंतला देवी के बारे में जरूर जानना जानना चाहिए।
author-profile
Published -03 Aug 2022, 08:30 ISTUpdated -03 Aug 2022, 16:26 IST
Next
Article
shakuntala devi famous as human computer

गणित विषय आप में से बहुत कम लोगों को ही पसंद होगा। इसमें पूछे गए सवाल इंसान को पूरी तरह से उलझा देते हैं, यही वजह है कि अधिकतर लोग इस विषय से बचते फिरते हैं। ज्यादातर पुरुष यही मानते हैं कि महिलाएं गणित में कमजोर होती हैं, लेकिन यह धारणा पूरी तरह से गलत है। भारत में ऐसी कई महिला गणितज्ञ हुई हैं, जिन्हें दुनिया भर में जाना जाता है। शकुंतला देवी भी उन्हीं महिलाओं में से एक हैं। अपनी बेहतरीन मैथ्स स्किल्स के चलते उन्हें ह्यूमन कंप्यूटर कहकर पुकारा जाता था। अपनी इसी स्पीड के साथ शकुंतला ने  गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज किया। 

आज शंकुतला दुनिया में नहीं हैं, लेकिन इसके बावजूद भी उन्हें उनके हुनर के लिए आज भी सराहा जाता है। आज के इस लेख में हम आपको भारत की पहली प्रसिद्ध महिला गणितज्ञ के बारे में बताएंगे।

कौन हैं शकुंतला देवी?

who is shakuntala devi

शंकुतला देवी भारत की फेमस गणितज्ञ हैं, जिन्हें अपनी कैलकुलेशन की काबिलियत के चलते ह्यूमन कंप्यूटर कहकर पुकारा जाता था। खास बात यह कि शकुंतला देवी ने यह कारनामा उस दौर में किया जब दुनिया में कंप्यूटर के बारे में कोई भी नहीं जानते था और न ही कैलकुलेटर तैयार हुए थे। उस दौर में शकुंतला देवी गणित के बड़े-बड़े सवाल मिनटों में जुबानी हल कर देती थीं।   

शकुंतला का बचपन

शकुंतला देवी का जन्म 4 नवंबर साल 1929 में बेंगलुरु कर्नाटक को एक कन्नड़ परिवार में हुआ। गरीब परिवार में जन्मी शकुंतला का बचपन झुग्गी-झोपड़ी वाले इलाके में हुआ। उनके पिता सर्कस में काम करते थे, जहां वो करतब दिखाया करते थे। पिता की आय परिवार को चलाने के लिए काफी नहीं थी। गरीबी के कारण शकुंतला औपचारिक शिक्षा भी नहीं पूरी कर पाईं। इतनी मुश्किलों के बाद भी शकुंतला की प्रतिभा पर कोई असर नहीं पड़ा। 

इसे भी पढें- मिलिए भारत की पहली महिला लेफ्टिनेंट जनरल पुनीता अरोड़ा से

बेहद कम उम्र में नजर आई प्रतिभा

shakuntala devi first lady mathematician known as human computer

शकुंतला के अंदर यह प्रतिभा 3 साल की उम्र में ही नजर आने लगी थी। एक बार ताश खेलने के दौरान शकुंतला के पिता ने पहली बार उनका हुनर पहचाना। महज 6 साल की उम्र में शकुंतला ने मैसूर यूनिवर्सिटी और अन्नामलाई यूनिवर्सिटी में आयोजित कार्यक्रम में अपनी प्रतिभा का परिचय दिया। इसी के साथ शकुंतला को भी उनके गुण का अहसास हो गया। साल 1944 में वो अपने पिता के साथ लंदन चली गईं। धीरे-धीरे विदेशों में भी शकुंतला के इस हुनर की चर्चा होने लगी। उन्हें यूएस की यूनिवर्सिटी में आमंत्रित किया गया, जहां उन्होंने मुश्किल सवालों के जवाब भी चुटकियों में दे दिए। 

लेखन की कला में माहिर थीं शकुंतला

first lady mathematician known as human computer

गणित के अलावा शकुंतला की लेखन कला भी बेहद उम्दा थी। गणित के अलावा उन्होंने ज्योतिष शास्त्र और पहेलियों से जुड़ी किताबें लिखीं। साल 1977 में शकुंतला ने ‘दी वर्ल्ड ऑफ होमोसेक्शुअल’ लिखी जो समलैंगिकता पर लिखी हुई पहली किताब थी।

इसे भी पढ़ें- भारत की पहली महिला चेस ग्रैंडमास्टर एस विजयलक्ष्मी के बारे में जानें

शकुंतला को मिले पुरस्कार- 

साल 1969 में शकुंतला को वुमन ऑफ द इयर के सम्मान से नवाजा गया। शकुंतला को रामानुजन पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया, साथ उनके नाम गिनेस वर्ल्ड रिकॉर्ड भी दर्ज है। 

साल 2013 में शकुंतला देवी ने दुनिया को अलविदा कह दिया। साल 2020 में विद्या बालन स्टार फिल्म ‘शकुंतला देवी’ उन्हीं के जीवन पर आधारित है। आप चाहें तो यह फिल्म अमेजन प्राइम पर देख सकते हैं।

तो ये थी शकुंतला देवी की कहानी, जो यह बताती है कि महिलाएं महिलाएं किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी के साथ।

Image Credit- twitter

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।