महज 16 साल की उम्र में माउंट एवरेस्ट पर फतह हासिल कर इंडिया में सबसे कम उम्र में ऐसा कर इतिहास रचने वाली शिवांगी पाठक के लिए ऐसा कर पाना इतना आसान नहीं था। हरियाणा की रहने वाली शिवांगी ने दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी सागरमाथा (एवरेस्ट) पर फतह कर देश की अन्य लड़कियों के लिए प्रेरणा की एक मिसाल कायम की है। शिवानी पाठक एवरेस्ट की चोटी पर तिरंगा लहराने वाली भारत की सबसे कम उम्र की लड़की है। 

शिवांगी के लिए माउंट एवरेस्ट तक पहुंचने तक का सफर काफी मुश्किल भरा रहा था। जब उनकी फैमली शिवांगी से संपर्क नहीं कर पा रही थी तो कुछ टाइम के लिए उन्हें लगा कि शायद उन्हें कुछ हो गया है लेकिन 10 घंटे बाद पर्वत शिखर से खबर मिली कि शिवांगी एवरेस्ट फतह करने वाली सबसे कम उम्र की भारतीय किशोरी बन गई है।

shivangi pathak  mount everest

शिवांगी की मां करती हैं उन पर गर्व 

शिवांगी की मां आरती ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, "हम उसकी सुरक्षा को लेकर काफी चिंतित थे। हमारे पूरे परिवार में किसी ने अन्न-जल ग्रहण नहीं किया। सभी ईश्वर से दुआ कर रहे थे लेकिन वह शिखर पर पहुंच चुकी थी। इस बात को जानकर हमें जो खुशी मिली उसे मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकती। हमें उस पर गर्व है। उसने जो ठाना उसे पूरा किया।"

Read more: सादगी से भरी सोनिया की इंदिरा गांधी से कैसी थी पहली और आखिरी मुलाकात

पूरे भारत में अब एक मशहूर शख्सियत बन चुकी महत्वाकांक्षी लड़की शिवांगी की यह यात्रा उसकी मां के द्वारा किए गए एक परिहास से आरंभ हुई। आरती ने बताया, "हमने एवरेस्ट फतह करने वाली ममता सोधा को पुलिस उपाधीक्षक नियुक्त किए जाने की खबर सुनी। हमने परिहास में शिवांगी से कहा कि वह ऐसा ही कोई बड़ा काम कर दिखाए।" बाद में शिवांगी ने भारत की पहली विकलांग महिला के एवरेस्ट फतह के कुछ वीडियो देखे, जिससे प्रेरणा पाकर उसने नवंबर 2016 में एवरेस्ट की चढ़ाई करने का फैसला लिया। इस चुनौती को स्वीकार करने की तैयारी में उसने खुद को प्रशिक्षित किया। शिवांगी ने अपने इस सफर की शुरुआत को याद करते हुए बताया, "मेरी प्रशिक्षिका ने तो पहले मेरे बालों के स्टाइल पर तंज कसा और कहा कि क्या तुम खेल के मैदान में आई हो या फैशन वॉक करने। मैं मोटी थी और मेरे बाल लंबे थे। मुझे चोट पहुंची लेकिन मैंने इसकी परवाह नहीं की क्योंकि मैं बड़ा सपना देख रही थी।"

Read more: बेटियों के सपनों के लिए किस हद तक गुजर जाती है एक मां, इसकी मिसाल है यह महिला

shivangi pathak  mount everest

कठिन परिश्रम और लगन से आखिरकार उसका सपना साकार हुआ। उसने अपने बाल छोटे करवाए और अपने लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में कड़ी मेहनत करने लगी। 

शिवांगी ने एवरेस्ट के लिए ऐसे किया खुद को तैयार 

पहले शिवांगी का वजन 65 किलोग्राम था जो दो साल बाद चोटी की चढ़ाई करते समय घटकर महज 48 किलोग्राम रह गया। शिवांगी ने बताया, "पर्वतारोहण की जरूरतों के अनुसार मैंने अपने आपको ढाला। मैंने बाल छोटे करवाए और उसी प्रशिक्षिका रिंकू पन्नू के निर्देशन में प्रशिक्षण लेना शुरू किया। वह मेरी गुरु है। उन्होंने मेरा उत्साह बढ़ाया। मैं उनकी बहुत आभारी हूं।" मुस्कराती हुई शिवांगी ने बताया, "मेरे बाल बहुत छोटे थे, मैदान में लड़कियां मुझे लड़का समझ लेती थी और मेरे ऊपर ताने मारती थी।" रोज वह 6 से 7 घंटे प्रशिक्षण लेती थी इसलिए वह स्कूल नहीं जा पाती थी और अपना पूरा वक्त एवरेस्ट की चढ़ाई की तैयारी में ही गुजारती थी।

shivangi pathak  mount everest

प्रशिक्षण सत्र के दौरान वह 10 किलोमीटर की दौड़ लगाती थी और भारोत्तोलन, रस्सीकूद करती थी। वह 20 किलोग्राम का भार पीठ पर लाद कर दौड़ती थी। शिवांगी ने बताया, "मैंने अपनी प्रशिक्षिका से वादा था कि मैं 5,000 बार रस्सी कूद करुंगी मगर मैं उसे पूरा नहीं कर पाई। एक दिन मैं रात 11.30 बजे ही जग गई क्योंकि 200 बार कूदना बाकी रह गया था और उसे आधी रात से पहले पूरा करना था।" 

Read more: क्या आप इंदिरा गांधी से जुड़ी ये 5 खास बातें जानते हैं जिनके लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है

एवरेस्ट पर फतह हासिल करना इतना भी आसान नहीं 

 शिवांगी एक अप्रैल को नेपाल गई और पांच अप्रैल को वहां बेस कैंप पहुंची। दो सप्ताह वहां के वातावरण में रहने के बाद आखिरकार 10 मई को उसका एवरेस्ट मिशन आरंभ हुआ।

शिवांगी ने बताया, "पूरा मार्ग कंकड़-पत्थर से भरा पड़ा था और फिसलन भी काफी ज्यादा थी। आगे कई बाधाएं थीं। शिखर पर पहुंचने के एक दिन पहले पहाड़ी क्षेत्र में तूफान का सामना करना पड़ा। मगर मैं लगातार पूरे उत्साह के साथ बाधाओं को पार करती रही।"उन्होंने बताया, "मार्ग में बर्फ की कड़ी चादर बिछी थी जिसे तोड़ना कठिन था और उसपर पैर फिसल रहे थे। प्रतिकूल मौसमी दशाओं के चलते एक दिन मैं बीमार पड़ गई, लेकिन मैंने हिम्मत नहीं हारी।"शिवांगी के साथ उसका गाइड अंग तेंब शेरपा चल रहा था। उसने बताया, "इस अभियान के दौरान गाइड ही मेरे भगवान थे। वह मुझसे अपनी छोटी बहन की तरह व्यवहार करते थे, जिससे मुझे अपने परिवार से बिछुड़ने का गम नहीं सताया। वह हर मुसीबत में मेरे साथ थे।"

shivangi pathak  mount everest

शिवांगी ने बताया, "15 मई को सुबह आठ बजे जब मैं दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी पर पहुंची तो सबसे पहले मुझे मेरी मां याद आई। मैं उस समय उनसे लिपट जाना चाहती थी। मैं काफी खुश थी कि मैंने उनका गौरव बढ़ाया था।" उसने बताया, "हिमालय की सबसे ऊंची चोटी पर राष्ट्रीय झंडा फहराते हुए गर्व का अहसास हो रहा था। मेरी यह उपलब्धि हरियाणा से लेकर पूरे देश की लड़कियों के लिए प्रेरणादायी थी।" 

एवरेस्ट विजेता शिवांगी ने कहा, "मेरा मानना है कि लड़कियां कुछ भी कर सकती हैं और कहीं भी जा सकती हैं। बस उनको मन में ठान लेना है कि उन्हें यह काम करना है। साथ ही उस काम को पूरा करने के प्रति उनमें दृढ़ इच्छाशक्ति व समर्पण होना चाहिए।"

shivangi pathak  mount everest

उसने हर माता-पिता से अपनी बेटी को प्रोत्साहित करने की अपील की ताकि कोई लड़की अपने आपको किसी काम में लड़के से कम नहीं महसूस करे। शिवांगी ने कहा, "मुझे अपने माता-पिता से सबसे ज्यादा समर्थन मिला। इसलिए मुझे मालूम है कि किसी लड़की के लिए उसके फैसले में माता-पिता के सहयोग की कितनी अहमियत होती है।" 

वह 18 साल की उम्र से पहले दूसरे महादेशों की सबसे ऊंची पर्वत चोटियों की चढ़ाई करने की तमन्ना रखती है। शिवांगी की कोच पन्नू ने कहा कि यह काम उसके लिए काफी आसान है। उन्होंने कहा, "उसने दुनिया की सबसे ऊंची शिखर पर फतह किया है इसलिए दुनिया की अन्य पर्वत शिखरों की चढ़ाई उसके लिए मुश्किल नहीं है।" 

Recommended Video