महाराष्ट्री के सतारा की रहने वाली प्रियंका बचपन से ही कुछ बड़ा करना चाहती थीं। उन्होंने अपने पर्वतारोहण के सपने को पूरा करने के लिए मेहनत करना शुरू किया और एक बाद एक कई उपलब्धियों को अपने नाम किया। उनके नाम न जानें कितने रिकॉर्ड्स हैं। अभी कुछ दिनों पहले उन्होंने माउंट अन्नपूर्णा पर फतह हासिल की। आइए जानें उनके बारे में।

प्रियंका ने लहराया परचम

picture of priyanaka mohite

प्रियंका मोहिते, शुक्रवार 16  अप्रैल को दुनिया की दसवीं सबसे ऊंची चोटी अन्नपूर्णा फतह करने वाली पहली भारतीय महिला बन चुकी हैं। प्रियंका, इससे पहले 8,485 मीटर पर स्थित दुनिया के पांचवें सबसे ऊंचे पर्वत माउंट मकालू पर चढ़ने वाली भारत की पहली महिला होने का रिकॉर्ड भी रखती हैं। महाराष्ट्र के सतारा की 26 वर्षीया पर्वतारोही ने मई 2019 में यह उपलब्धि हासिल की थी। पर्वतारोहण प्रियंका का बचपन का सपना था। इसी जुनून के चलते प्रियंका ने बचपन में महाराष्ट्र के सह्याद्री रेंज के पहाड़ों पर चढ़ना शुरू किया था। उन्होंने साल 2012 में पश्चिमी हिमालय की चोटी बंदरपूंछ पर चढ़ाई की थी। यह चोटी उत्तराखंड में स्थित है।

ट्विटर पर मिली शुभकामनाएं

उनकी इस नई उपलब्धि के लिए बायोकॉन की संस्थापक और चेयरपर्सन किरण मजूमदार शॉ ने ट्विटर पर उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दी। प्रियंका बायोकॉन की सहायक कंपनी syngene इंटरनेशनल की एक कर्मचारी हैं। किरण मजूमदार शॉ ने लिखा, ‘हमारी सहकर्मी प्रियंका मोहिते ने 16 अप्रैल 2021 को दोपहर 1:30 बजे माउंट अन्नपूर्णा (8091 मीटर्स) दुनिया का दसवां सबसे ऊंचा पर्वत फतह किया है। ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय महिला बनीं। हमें उन पर बहुत गर्व है!’ मजूमदार-शॉ ने चोटी फतह करने पर झंडा फहराते हुए प्रियंका की एक फोटो शेयर की है।

किरण मजूमदार शॉ के इस ट्वीट के बाद, प्रिंयका मोहिते ने भी मजूमदार-शॉ के ट्वीट को रीट्वीट करके उन्हें धन्यवाद दिया।

इससे पहले भी कर चुकी हैं कई रिकॉर्ड अपने नाम

priyanaka mohite hold records

प्रियंका इससे पहले 2013 में माउंट एवरेस्ट और 2018 में माउंट ल्होत्से भी चढ़ चुकी हैं। 21 साल की उम्र में ऐसा करने वाली वह तीसरी सबसे कम उम्र की भारतीय बन गईं। माउंट अन्नपूर्णा नेपाल में स्थित हिमालय की एक पर्वत माला है। इसे चढ़ने के लिए सबसे कठिन चोटियों में से एक माना जाता है। 2015 में प्रियंका ने माउंट मेन्थोसा की भी चढ़ाई की थी, जो 6,443 मीटर पर स्थित हिमाचल प्रदेश के लाहौल स्पीति जिले में दूसरी सबसे ऊंची चोटी है। इतना ही नहीं, साल 2017-18 में उन्हें साहसिक खेलों के लिए महाराष्ट्र सरकार के शिवाजी छत्रपति अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार को 68 महिलाओं ने माउंट अन्नपूर्णा की चढ़ाई की थी। एक ही दिन में चोटी पर पहुंचने वाले पर्वतारोहियों की यह अब तक सबसे ज्यादा संख्या है।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें। ऐसे अन्य आर्टिकल के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी के साथ।

image credit : twitter