• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile
  • Geetu Katyal
  • Editorial

काॅलेज क्वीन से लेकर पहली महिला राष्ट्रपति बनने तक का सफर, जानिए प्रतिभा पाटिल के बारे में

भारत की पहली महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल राजस्थान की राज्यपाल भी रह चुकी हैं। उनकी इंस्पायरिंग स्टोरी जानने के लिए पढ़ें पूरा ऑर्टिकल।
author-profile
  • Geetu Katyal
  • Editorial
Published -22 Jun 2022, 16:33 ISTUpdated -22 Jun 2022, 18:07 IST
Next
Article
women president of india

'किसी पद को संभालने के लिए जेंडर नहीं काबिलियत मायने रखती है।' प्रतिभा देवी सिंह पाटिल के जीवन से जुड़े किस्से सुनकर आपको भी इस पंक्ति पर विश्वास हो जाएगा। भारत की पहली महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल का जन्म 19 दिसंबर 1934 को महाराष्ट्र के जलगांव जिले में हुआ था। देश की 12वीं राष्ट्रपति बनने के साथ-साथ वह राजस्थान के राज्यपाल का पद भी संभाल चुकी हैं। उन्होंने मुंबई से एलएलबी की डिग्री प्राप्त की थी। इसके अलावा प्रतिभा पाटिल ने अपनी जिंदगी में क्या-क्या हासिल किया आइए जानते हैं उसके बारे में।

राष्ट्रपति बनने के साथ संभाल चुकी हैं ढेर सारे पद

pratibha patil

इसे भी पढ़ेंः मिलिए कैप्टन मोनिका खन्ना से जिन्होंने बचाई 191 यात्रियों की जान

प्रतिभा पाटिल 1962 में महाराष्ट्र विधानसभा की सदस्य निर्वाचित हुईं थी। इसके बाद उन्होंने 1985  तक लगातार विधायक का पद संभाला। विधायक के पद से आगे बढ़कर वह 1972 में महाराष्ट्र सरकार की समाज कल्याण मंत्री चुनी गयीं। 1974 में उन्होंने जनस्वास्थ्य एवं समाज कल्याण मंत्री, 1975 में संस्कृति व पुनर्वास मंत्री और 1977 में शिक्षा मंत्री का पद संभाला। इतना ही नहीं, वह नगरीय विकास एवं आवासन मंत्री, खाद्य आपूर्ति एवं समाज कल्याण मंत्री, राज्यसभा की उपसभापति और राज्यसभा की विशेषाधिकार समिति की सभापति जैसे पद भी संभाल चुकी हैं।

महिलाओं की प्रतिभा बढ़ाने में दिया योगदान

प्रतिभा पाटिल ने अपने जीवन में जो मुकाम हासिल किया वह समाज की हर लड़की को मोटिवेट करता है। वो एक मजबूत महिला पॉलिटिशियन हैं जिन्होंने अपनी सूझबूझ से कई महत्वपूर्ण निर्णयों में योगदान दिया. उन्होंने महिलाओं को आत्मनिर्भर और सक्षम बनाने के लिए भी कदम उठाए हैं। प्रतिभा पाटिल ने वर्किंग महिलाओं की समस्याएं देखते हुए मुंबई में एक होस्टल की स्थापना की थी। उन्होंने 1995 में बीजिंग में हुए विश्व महिला सम्मेलन में भी भाग लिया था। प्रतिभा पाटिल का मानना है, 'मैं शिक्षा के क्षेत्र के लिए प्रतिबद्ध हूं और मैं हर किसी को शिक्षित देखना चाहती हूं। पुरुष, महिला, लड़का और लड़की, हर व्यक्ति आधुनिक होना चाहिए। राष्ट्र के सशक्तिकरण के लिए महिलाओं का सशक्त होना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।'

इसे भी पढ़ेंः जानें देश की पहली महिला कॉम्बैट एविएटर अभिलाषा बराक के बारे में

प्रतिभा पाटिल द काॅलेज क्वीन

who is pratibha patil

प्रतिभा पाटिल आत्मनिर्भर और सक्षम होने के साथ-साथ काफी सुंदर भी हैं। यही कारण है कि एम.ए के दौरान उन्हें काॅलेज क्विन के अवार्ड से नवाजा गया था। ऐसे में प्रतिभा पाटिल को ब्यूटी विद ब्रेन का परफेक्ट उदाहरण कहा जा सकता है। जीवन में बिना किसी से डरे कुछ अच्छा और बड़ा करने के लिए आप भी प्रतिभा पाटिल से मोटिवेशन ले सकती हैं।

Recommended Video

प्रतिभा पाटिल की जिंदगी किसी मोटिवेशनल स्टोरी से कम नहीं है। किसी ने सही कहा है कि पंखों से नहीं हौसलों से उड़ान होती है। किसी पद को संभालने या कार्य को करने के लिए कुछ चाहिए तो वो है विश्वास और मेहनत। प्रतिभा पाटिल की जिंदगी से मोटिवेशन लेकर हर महिला को कुछ बड़ा करने का प्रयास करना चाहिए।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा तो इसे लाइक और शेयर जरूर करें व इसी तरह इंस्पाइरिंग वीमेन अचिवर के बारे में पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Photo Credit: Jagran

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।