भारतीय महिलाएं हमेशा से ही राजनीति में सक्रिय भूमिका में रही हैं। चाहे वह प्राचीन काल की राजकुमारियां रही हों या आज की नेता नगरी की महिला राजनितिज्ञ। हांलाकि इन महिलाओं की संख्या बहुत कम है पर इनसे जुड़ा संघर्ष दूसरी महिलाओं को सशक्त बनने की प्रेरणा देता है। इनमें से कई महिलाएं ऐसी हैं जो आम परिवारों से आती थीं, इस कारण यहां तक पहुंचने के लिए भी इन महिलाओं को बहुत संघर्ष से गुजरना पड़ा।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको ऐसी ही भारतीय महिला पॉलिटिशियंस के बारे में बताएंगे जो दुनियाभर में जानी जाती हैं। राजनीति में इनका बहुत बड़ा नाम है, सिर्फ एक पार्टी ही नहीं बल्कि देश का एक बड़ा तबका इन राजनीतिज्ञ महिलाओं को सर-आंखों पर बिठाकर रखता है।

सुषमा स्वराज-  

shushma swaraj

सुषमा स्वराज एक ऐसी शक्तिशाली महिला रही हैं जिनका देश के प्रति बहुत महत्वपूर्ण योगदान रहा है। सुषमा राजनीति से पहले सुप्रीम कोर्ट की लॉयर के तौर पर रहीं। इसके बाद उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को ज्वाइन किया, उसी दौरान 2014 से 2019 तक सुषमा एक्सटर्नल अफेयर्स मिनिस्टर के पद पर भी रहीं।

इंदिरा गांधी के बाद सुषमा दूसरी महिला थी जिन्होंने यह पद संभाला था। सुषमा लगातार 7 बार पार्लियामेंट की सदस्य रहीं है, इसके अलावा 3 बार मेंबर ऑफ लेजिस्लेटिव असेंबली के तौर पर रहीं। सुषमा 25 साल की उम्र में कैबिनेट मिनिस्टर बनने वाली पहली महिला बनीं।

इसके अलावा 1998 के दौरान सुषमा दिल्ली की मुख्यमंत्री रही। सुषमा जब एक्सटर्नल मिनिस्टर के पद पर थीं तब उन्हें देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी बहुत सम्मान और प्यार मिला।

इसे भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सेना की 39 महिला अफसरों को मिलेगा परमानेंट कमीशन,जानें पूरी खबर

ममता बनर्जी-

powerful politician

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  सबसे मजबूल महिलाओं में से एक हैं। ममता 2011 में पहली बार बंगाल की मुख्यमंत्री बनीं थीं। 1998 में कांग्रेस से अलग होने के बाद ममता ने बंगाल की रीजनल पार्टी त्रिमूल कांग्रेस की स्थापना की। बंगाल में ममता इतनी प्रसिद्ध हैं कि उन्हें प्यार से दीदी बुलाया जाता है। ममता ने दो बार रेलवे मिनिस्ट्री की कमान संभाली है।

इसके अलावा ममता कोयला मंत्रालय, महिला और बाल विकास मंत्रालय भी संभाल चुकी हैं। ममता बंगाल की सबसे पावरफुल महिला हैं, जिन्होंने अपने दम पर पार्टी को खड़ा किया और 10 सालों से भी ज्यादा सालों तक मंत्री पद पर रह चुकी हैं।

इसे भी पढ़े- Inspiring: मनाली से लेह अल्ट्रा-मैराथन पूरी करने वाली पहली महिला रनर बनीं सूफिया खान

जयललिता-

Jai lalita

साउथ में अम्मा के नाम से पुकारी जाने वाली जयललिता दक्षिण भारत की सबसे प्रसिद्ध हस्तियों में से एक थीं। जयललिता तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रह चुकी हैं।

दक्षिण भारत की रीजनल पार्टी "ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम " की सचिव के पद पर रह चुकी हैं। जयललिता शुरुआत से ही नेता नगरी का हिस्सा नहीं थी, इससे पहले वो एक अदाकारा के रूप में देश भर में जानी जाती थीं।

उन्होंने तेलगु, कन्नड़ और हिंदी की फिल्मों में काम किया है। जब जयललिता मात्र 15 साल की थी तब उन्होंने एक कन्नड़ फिल्म में बतौर हिरोइन काम किया था। फिल्मों में नाम कमाने के बाद जया राजनीति में आईं और राजनीति में भी खूब नाम कमाया।

1991 से 1996 तक जया मुख्यमंत्री के पद पर रहीं। साउथ के लोग उन्हें बहुत मानते हैं इसका नजारा हमें उनकी मृत्यु के बाद देखने को मिला।

Recommended Video


मायावती-

mayavati

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती उत्तर प्रदेश की सबसे प्रसिद्ध महिला राजनीतिज्ञ में से एक हैं। बहुजन समाज पार्टी भारत के सबसे कमजोर वर्गों  के लिए मंच रखने वाली पार्टी है। मायावती चार बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। मायावती को उनके समर्थक बहन के नाम से बुलाते हैं। मायावती को राजनीति में लाने वाले काशीराम थे उनसे ही प्रेरित होकर मायावती ने राजनीति में आने का फैसला लिया।

इसके अलावा भी कई अन्य महिला राजनीतिज्ञ रह चुकी हैं जैसे कि इंदिरा गांधी(जानें इंदिरा गांधी से जुड़ी रोचक बातें), सोनिया गांधी, वसुंधरा राजे, प्रतिभा पाटिल और राबड़ी देवी। हमारा आज का यह आर्टिकल अगर आपको पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें। साथ ही ऐसी जानकारियों से अपडेट रहने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit- wikipedia, google search