अगर किसी भारतीय व्यक्ति या महिला से ये सवाल पूछा जाए कि आपको संस्कृत विषय पढ़ना कैसा लगता है?, तो संभवत उत्तर होगा कि इस विषय में मेरा या मेरी बहुत कम रूचि पहले भी थी और आज भी है। संस्कृत एक ऐसा विषय है जिसे बहुत कम लोग ही पढ़ना पसंद करते हैं। 

जब किसी विदेशी शख्स से हिंदी भाषा सुनते हैं, तो गर्व की अनुभूति होती है। लेकिन जब उसी शख्स से संस्कृत भाषा सुनते हैं तो फिर कुछ समय के लिए चकित हो जाते हैं कि क्या जो हम सुन रहे हैं वो सही है या गलत। जी हां, आज इस लेख में हम आपको एक ऐसी विदेशी महिला के बारे में बताने जा रहे हैं, तो सिर्फ संस्कृत ही नहीं बोलती हैं, बल्कि वह हाल ही में संस्कृत विषय में टॉप भी किया हैं। 

मारिया रूईस 

spain sanskrit gold medalist maria ruis inside

मूल रूप से स्पेन की रहने वाली मारिया रूईस ने हाल में ही सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय से संस्कृत विषय में टॉप करने के साथ-साथ आचार्य की डिग्री भी हासिल किया है। मारिया ने संस्कृत के पूर्वमीमांसा विषय में टॉप करने के साथ गोल्ड मेडल भी जीता है। उन्होंने यहीं से शास्त्री की भी डिग्री ली हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर में है।

इसे भी पढ़ें: मिलिए देश की सबसे छोटे कद की वकील हरविंदर कौर से, कभी लोग बनाते थे मजाक

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

spain sanskrit gold medalist maria ruis inside

हाल में ही विश्वविद्यालय में 38वें दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया था जहां राज्य की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मारिया को प्रमाण पत्र के साथ गोल्ड मेडल भी प्रदान किया था। विश्वविद्यालय के इस दीक्षांत समारोह में गोल्ड मेडल से सम्मानित होने वाली मारिया रूईस अकेली महिला थी। इस सम्मान के बाद एक मीडिया हाउस से बात करते हुए उन्होंने जानकारी दी थी कि 'आगे वो इसी विषय में पीएचडी भी करने वाली हैं'। (भारतीय मूल की मनदीप कौर सिद्धू न्यूजीलैंड में बनी पुलिस अधिकारी)

Recommended Video

अन्य भाषाओं की भी है जानकारी

spain sanskrit gold medalist maria ruis inside

मारिया को बचपन से ही अलग-अलग विषय और भाषाओं में रूचि रखना बेहद पसंद रहा है। मारिया अपनी मातृ भाषा स्पेनिश के साथ अन्य भाषाओं के बारे में भी बहुत अच्छे से बोल और लिख लेती हैं। वो संस्कृत के अलावा हिंदी, जर्मन, इटालियन और अंग्रेजी भाषाओं के बारे में भी अच्छे से जानती हैं। एक खबर में मुताबिक संस्कृत पढ़ने के लिए पहले वो ऋषिकेश गईं फिर ऋषिकेश से वाराणसी चली गई।    

इसे भी पढ़ें: समुद्र में 36 किमी तैरकर 12 साल की जिया राय ने बनाया रिकॉर्ड

सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के बारे में जानकारी 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय की स्थापना साल 1971 में हुई थी। इस विश्वविद्यालय में हर यहां पर साल हजारों विदेशी स्टूडेंट पढ़ने के लिए आते हैं और विश्वविद्यालय में संस्कृत के अलावा फ्रेन्च, जर्मन, नेपाली, तिब्बती रूसी, आदि विषयों की भी पढाई करने आते हैं। मारिया भी साल 2012 के आसपास संस्कृत विषय पढ़ने के लिए काशी आई थी। (मिताली राज ने क्रिकेट के क्षेत्र में कायम की मिसाल

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@images.bhaskarassets.com,www.varanasimirror.com)