एक कहावत है कि 'खुली आंखों से सपने देखने वाले भी अपनी मंजिल तक पहुंच जाते हैं अगर उस कार्य को करने की उनमें लगन हो तो'। जहां एक तरफ हर दिन महिलाओं के साथ कोई न कोई घटना ज़रूर देखने और सुनने में को मिलती है, वहीं कुछ खबर ऐसी भी है जिसके बारे में देख और सुनकर भारतीय होने पर गौरव महसूस होता है। भारतीय मूल की महिलाओं ने विदेशी जमीनों पर हेमशा में भारत का मान बढ़ाया है। आज इस लेख में हम आपको जिस महिला के बारे में बताने जा रहे हैं उनकी भी कहानी देख और सुनकर भारतीय होने पर गौरव महसूस होता है। जी हां, हम बात कर रहे हैं न्यूजीलैंड में भारतीय मूल की मनदीप कौर सिद्धू के टैक्सी ड्राइवर से पुलिस अधिकारी बनने तक की कहानी के बारे में। मनदीप कौर ने सिर्फ भारत के लिए ही नहीं बल्कि करोड़ों महिलाओं के लिए आज प्रेणादायक महिला बन चुकी हैं। चलिए जानते हैं उनके बारे में।

कौन हैं मनदीप कौर सिद्धू

mandeep kaur sidhu first indian woman police in new zealand inside

दो बच्चों की मां मनदीप कौर सिद्धू का जन्म पंजाब के मालवा जिले में हुआ था। लगभग 18 की उम्र में शादी और कुछ सालों बाद शादी टूटने के बाद पंजाब में ही रहने लगी। लेकिन, कुछ वर्षों बाद पंजाब से वो ऑस्ट्रेलिया चली गई। ऑस्ट्रेलिया में कुछ समय तक काम करने के बाद मनदीप कौर सिद्धू काम की तलाश में न्यूजीलैंड चली गई और वो वहीं काम करने लगी। अपने बच्चों को मायके ही छोड़कर काम की तलाश में चली गई थी। 

इसे भी पढ़ें: कौन है ये Bc Aunty-स्नेहिल दीक्षित मेहरा और क्यों है आजकल चर्चा में! 

टैक्सी ड्राइवर से कांस्टेबल   

mandeep kaur sidhu first indian woman police in new zealand inside

एक रिपोर्ट के अनुसार न्यूजीलैंड में आने के बाद मनदीप कौर सिद्धू एक वुमन लॉज में रहती थीं और टैक्सी ड्राइवर का काम कराती थीं। वुमन लॉज में रिसेप्शनिस्ट के तौर पर एक रिटायर्ड पुलिसकर्मी काम करता था, जो जानकारी देता था कि पुलिस कैसे बनना है और पुलिस यहां कैसे काम करती है। यहीं से मनदीप कौर सिद्धू को पुलिस बनने की इच्छा पैदा हुई और धीरे-धीरे देखते ही देखते मनदीप कौर एक कांस्टेबल बनी गई। (जम्मू-कश्मीर की पहली महिला बस ड्राइवर पूजा देवी)

Recommended Video

कांस्टेबल से फ्रंटलाइन अफसर 

mandeep kaur sidhu first indian police in new zealand inside

मनदीप कौर सिद्धू नियमित समय और ईमानदारी से अपना काम करती रही। उनके इसी काम को देखते हुए न्यूजीलैंड पुलिस ने उन्हें अब फ्रंटलाइन अफसर बना दिया है। इस बीच वो कई बार अपने बच्चों को भारत से न्यूजीलैंड लाने की कोशिश भी की और अंतत उनके बच्चे भी न्यूजीलैंड पहुंच चुके हैं। न्यूजीलैंड में मनदीप कौर टैक्सी ड्राइवर के साथ-साथ पढाई भी जारी रखी थीं हालांकि, शुरुआती दिनों में उन्होंने पेट्रोल पंप जैसी जगहों पर भी काम किया है।

इसे भी पढ़ें: दूसरी क्लास में पढ़ने वाली ऋत्विका ने अफ़्रीकी महाद्वीप के सबसे उंचे पर्वत पर चढ़कर रचा इतिहास

पहली भारतीय मूल की महिला 

mandeep kaur sidhu first indian woman police in new zealand inside

भारतीय मूल के रूप ऐसी पहली महिला है जो न्यूजीलैंड के पुलिस में शामिल हैं। निजी और सामाजिक कठिनाइयों के बाद आज मनदीप न्यूजीलैंड पुलिस में सीनियर सार्जेंट के पद पर कार्यरत है। पुलिस में भर्ती होने के लिए मनदीप कौर ने लगभग 20 किलो वजन कम किया था। कड़ी मेहनत बाद उन्हें ये नौकरी मिली थी। आज भी मनदीप कौर अपने काम के साथ-साथ नियमित रूप से गुरुद्वारा भी जाती रहती हैं। फिलहाल वो न्यूजीलैंड के वेलिंग्टन शहर में कार्यरत हैं। (देश की पहली 'वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर' अवार्ड विनर)

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@www.shethepeople.tv,arcpublishing.com)