शायद आप भी नहीं भूले होंगे 16 दिसंबर 2012 की वो रात जिस दिन निर्भया के साथ हुई बर्बता ने पुरे देश का दिल दहला दिया था। उसके अगले दिन से ही पुरे देशभर में निर्भया के इंसाफ के लिए खूब आंदोलन किए गए और एक लंबी क़ानूनी लड़ाई के बाद निर्भया के दोषियों को आख़िरकार 20 मार्च 2020 को सजा दें दी गई। निर्भया के चारों दोषियों को तिहाड़ जेल से फांसी की सजा तक पहुंचाने में अगर सबसे अधिक किसी ने दिन-रात एक की थी, तो उसका नाम है 'सीमा समृधि कुशवाहा'। निर्भया केस की वकील सीमा ने इंसाफ दिलाने के लिए लगातार सात साल तक केस लड़ती रही। आज इस लेख में हम आपको निर्भया केस की वकील सीमा समृधि कुशवाहा के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं-

सीमा कुशवाहा 

meet seema samriddhi kushwaha nirbhaya lawyer inside

सीमा समृधि उत्तर प्रदेश के छोटे से गांव की रहने वाली हैं। कहा जाता है कि उनके पिता एक किसान थे। सीमा बचपन से ही पढ़ाई में काफी तेज थी। सीमा ने प्रारंभिक पढ़ाई गांव के स्कूल से ही की है। गांव से प्रारंभिक शिक्षा लेने के बाद उच्च शिक्षा और वकालत की पढ़ाइ के लिए वो कानपुर चली गई, जहां से उन्होंने वकालत की पढ़ाई पूरी की। 

इसे भी पढ़ें: Nirbhaya Anniversary: 8 साल में भी नहीं दिखा सुधार, जानें 4 दिल दहला देने वाले रेप केसेस

बनना चाहती थीं IAS

meet seema samriddhi kushwaha nirbhaya lawyer inside

सीमा वकालत की पढ़ाई करने के बाद दिल्ली आई थीं IAS की तयारी करने के लिए। IAS तैयारी करने के साथ-साथ वो वकालत की ट्रेनिंग भी कर रहीं थी। कहा जाता है कि जिस वक्त निर्भया के साथ दर्दनाक घटना हुई थी, उस वक्त सीमा कुशवाहा सुप्रीम कोर्ट में वकालत में ट्रेनिंग कर रही थी। जैसे ही उनको इस घटना के बारे में जानकारी मिली उन्होंने बिना पैसे के इस केस को लड़ने का फैसल किया।

Recommended Video

पहला केस था यह 

meet seema samriddhi kushwaha nirbhaya lawyer inside

कहा जाता है निर्भया का केस सीमा के वकालत करियर का पहला केस था। सीमा का हौसला और जज्बा ही था कि आज दोषियों को सजा मिल चुकी है। सीमा कोर्ट के अंदर और बाहर दोनों जगह निर्भया के माता-पिता के साथ हमेशा खड़ा रहती थी। 

इसे भी पढ़ें: Nirbhaya Anniversary: टीनएजर्स की सुरक्षा के लिए सुतापा सानियाल के ये सेफ्टी टिप्‍स अपनाएं

जब बेचनी पड़ी थी पायल 

seema samriddhi kushwaha nirbhaya lawyer inside

कहा जाता है कि एक समय ऐसा भी था जब सीमा के पास कॉलेज की फीस भरने के लिए पैसे नहीं थे। तब सीमा की बुआ ने पायल दी थी, जिसे बेच कर सीमा ने कॉलेज की फीस भरी थी। उन्होंने पैसों के लिए कई बच्चों को ट्यूशन भी पढ़ाया है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें, और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:(@upload.wikimedia.org,www.india.com,images.herzindagi.info)