जब ये सोच लिया जाए कि जो काम हम कर रहे हैं, उस काम को समाज पसंद नहीं करता है, तो शायद ही उस कार्य में सफलता मिलती है। लेकिन, जब उसी काम को लेकर ये सोचे कि दुनिया क्या बोल रही है, उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है और जब दिल से करने लिए जज्बात है, तो फिर क्या-भला और क्या बुरा। काम कोई भी हो बस हौसला बरक़रार रखना बहुत ज़रूरी है। कुछ इसी तरह की मिसाल पेश की हैं जम्मू-कश्मीर की पूजा देवी ने।

एक साधारण परिवार से आने वाली पूजा देवी जम्मू-कश्मीर में पहली महिला ड्राइवर बन गई हैं। मूल रूप से जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले की रहने वाली पूजा आज लाखों महिलाओं के लिए प्रेरणा के काबिल हैं। उन्होंने बिना किसी दबाव में अपनी एक नई जिदंगी का चुनाव किया है, जो आज उनके इस कार्य पर घरवाले भी फर्क महसूस करते हैं। आज इस लेख में हम आपको पूजा देवी के जीवन के बारे में कुछ बताने जा रहे हैं। तो चलिए जानते हैं। 

पूजा देवी के बारें में 

meet pooja devi first woman bus driver of jammu and kashmir inside

जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले की रहने वाली हैं पूजा देवी। पहली महिला बस ड्राइवर पूजा देवी लगभग तीस वर्ष की हैं और पूजा देवी तीन बच्चों की मां भी है। आज पूजा देवी लाखों कश्मीरी महिलाओं के लिए प्रेरणा के काबिल है। कहा जाता है उनका बीटा भी उसके साथ इस बस में काम करता है। कहा जा रहा कि पूजा अधिक पढ़ी लिखी नहीं और इसके वजह से ही उन्होंने इस कार्य को चुना।

इसे भी पढ़े: झारखंड की जीतन देवी बांस से बना रही है ईको-फ्रेंडली प्रॉडक्ट्स, आप भी देखें तस्वीरें

घरवाले थे खिलाफ  

pooja devi first woman bus driver of jammu and kashmir inside

कठुआ जिले के संधार-बसोहणी गांव की रहने वाली पूजा के लिए मुख्य रूप से ड्राइवर के काम का चुनाव करना आसान नहीं था। कहा जा रहा है कि पूजा देवी के इस काम से उनके ससुराल वालों के साथ-साथ पति और उनके परिवार के अन्य सदस्य भी खिलाफ थे। लेकिन, पूजा ने सबकी बातों को किनारा करते हुए और तमाम दिक्कतों को पार करते हुए आज जम्मू-कश्मीर की पहली महिला बस ड्राइवर बन गई हैं। (देश की पहली 'वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर')

Recommended Video

मामा से सीखी थी गाड़ी चलना 

pooja devi first woman bus driver inside

कहा जा रहा है कि शुरुआत में पूजा बस शौकिया तौर पर गाड़ी चलना सिख रही थी, लेकिन परिवार के बढ़ते गरीबी और घर में अधिक पैसा न होने की वजह से गाड़ी चलाने लगी। गाड़ी चलाने और सिखाने का काम पूजा देवी ने अपने मामा जी ने ली है। एक मीडिया में बात करते हुए पूजा देवी ने कहा था कि 'एक महिला प्लेन उड़ा सकती हैं, एक महिला ट्रेन चला सकती हैं, तो फिर मैं बस क्यों नहीं चला सकती हूं'। (देश की पहली महिला एंबुलेंस)

इसे भी पढ़े: पुणे की ये महिला लाखों महिलाओं के लिए हैं प्रेरणास्रोत, जानें क्यों!

सोशल मीडिया      

 

सोशल मिडिया पर भी पूजा देवी के इस काम को लेकर खूब तारीफे रही है। पूजा देवी के इस काम को देखते हुए केन्द्रीय मंत्री सहित अन्य हजारों लोगों ने भी उनके इस काम के लिए बधाई दी है। सोशल मीडिया पर इस खबर के आने के बाद बस चलाने की तस्वीरें और वीडियो खूब वायरल हो रहे हैं। लोग पूजा देवी के इस काम को खूब सराहना भी कर रहे हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@i.ytimg.com,www.jagranimages.com)