लखनऊ विश्वविद्यालय की छात्रा आरुषि सिंह ने गोंडा ज़िले के वजीरगंज ब्लॉक के सेहरिया में ग्राम सभा प्रधान पद पर जीत हासिल की है। आरुषि सिंह लखनऊ विश्वविद्यालय से बीए एलएलबी द्वितीय वर्ष की छात्रा हैं। 21 वर्षीय आरुषि सिंह सबसे कम उम्र की प्रधान हैं और उन्होंने महिलाओं में अलग छाप छोड़ी है। प्रधान बनने के बाद आरुषि सिंह ने बताया कि ''यह मेरे लिए सपना सच होने जैसा है। जैसे ही 1:30 बजे मुझे विजेता घोषित किया गया दोस्त और रिश्तेदारों के कॉल आने शुरू हो गये।''

प्रधान बनने के बाद आरुषि ने कहा कि ''अब मेरी ड्यूटी है कि मैं अच्छी इंटरनेट कनेक्टिविटी और बेहतर सार्वजनिक सेवा के साथ इसे एक स्मार्ट गांव बनाऊं। आरुषि ने बताया कि इससे पहले साल 2000 में उनकी दादी विद्यावती सिंह ने इस पद पर चुनाव जीता था और उससे पहले मेरे परदादा यहां चुनाव जीते थे। यह 1500 की आबादी वाला एक छोटा सा गांव है और वे हमसे प्यार करते हैं। मैं परिवार की विरासत को आगे बढ़ाते हुए खुश हूं।''

घर-घर जाकर किया था प्रचार

arushi singh

प्रधान पद के लिए चार प्रतियोगी थे, उन सभी में आरुषि को विजेता घोषित किया गया। बता दें कि आरुषि को 384 मतों से विजेता घोषित किया गया था। वहीं कोविड-19 को लेकर जारी गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए आरुषि सिंह ने 2 मार्च से घर-घर जाकर प्रचार करना शुरू कर दिया था। आरुषि के अनुसार उन्होंने युवाओं और उनके मात-पिता से कोविड-19 में अपने गार्ड को कम नहीं करने के लिए प्रोत्साहित किया। बता दें कि आरुषि सिंह की मां गरिमा सिंह डिस्ट्रिक्ट जज की रिडर हैं जबकि उनके पिता धर्मेंद्र सिंह लखनऊ में पुलिस आयुक्त के स्टेनो हैं। आरुषि के अनुसार वह वकालत में ग्रेजुएशन करने के बाद पीसीएस की परीक्षा की तैयारी शुरू कर देंगी।

इसे भी पढ़ें: मन की शांति के लिए इन मंत्रों का करें जाप, समय का रखें विशेष ध्यान

Recommended Video

आरुषि सिंह ने बताया अपना डेवलपमेंट प्लान

arushi singh news

अपने डेवलपमेंट प्लान के बारे में बात करते हुए आरुषि सिंह ने मीडिया को बताया कि ''वह सबसे पहले लड़के और लड़कियों के लिए एजुकेशन सिस्टम पर फ़ोकस करेंगी इसके साथ ही वह स्वास्थ्य और हाइजीन पर भी विशेष ध्यान देंगी। इसके अलावा लोगों के सामाजिक और आर्थिक स्थिति में सुधार पर भी अपना ध्यान केंद्रित करेंगी।''

इसे भी पढ़ें: घर में आती है बहुत ज्यादा धूल तो ये 5 हैक्स करेंगे सफाई में मदद 

आरुषि ने आगे बताया कि ''वह स्वास्थ्य, रोज़गार, इंफ़्रास्ट्रक्चर और बेसिक ज़रूरतों, पेयजल और स्वस्छता जैसी बुनियादी सुविधाओं पर ध्यान केंद्रित करेंगी। मैं यह सुनिश्चित करूंगी कि मेरे गांव के लोगों को केंद्र और राज्य सरकार द्वारा संचालित सभी योजनाओं का लाभ मिल सके।'' आरुषि सिंह ने बताया कि वह गांव के संपूर्ण विकास के लिए पहले अधिकारियों से बातचीत करेंगी फिर इस पर काम करना शुरू करेंगी।

यह आर्टिकल आपको अच्‍छा लगा हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें, साथ ही इसी तरह सेहत से जुड़े टॉपिक्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।