खूबसूरत इंडियन-अमेरिकन मॉडल, एक्ट्रेस और टीवी होस्ट पद्मा लक्ष्मी आज के दौर की ऐसी कामयाब महिलाओं में शुमार हैं, जिनसे हर भारतीय महिला इंस्पिरेशन ले सकती है। पद्मालक्ष्मी बेहतरीन मॉडल रही हैं। उनका जन्म चेन्नई में हुआ था और उनकी मां न्यूयॉर्क में रहती थीं, इसीलिए वह अक्सर अमेरिका आती जाती रहती थीं और बाद में वह अमेरिका ही सेटल हो गईं। चर्चित उपन्यासकार सलमान रुश्दी के साथ उनकी शादी को लेकर भी काफी चर्चा हुई थी, लेकिन इसके अलावा पद्मा लक्ष्मी के बारे में बहुत ज्यादा चर्चा नहीं होती। आज उनके बर्थडे पर जानते हैं ऐसी बातें, जिन्हें जानने के बार आप हो जाएंगी पद्मा लक्ष्मी की मुरीद-

बेटी कृष्णा के साथ गुलजार है जिंदगी

padma laksmi with her daughter inside

पद्मा लक्ष्मी 1 सितंबर को अपना बर्थडे सेलिब्रेट करती हैं, लेकिन उनकी उम्र 30 से ज्यादा की नजर नहीं आती। पद्मा लक्ष्मी अमेरिका की कामयाब महिला और इंस्पिरेशनल मां के तौर पर जानी जाती हैं। वेंचर केपिटलिस्ट एडम डेल के साथ उनकी एक खूबसूरत बेटी हुई, जिसका नाम Krishna Thea Lakshmi Dell है। 

इसे जरूर पढ़ें: फूड के पॉपुलर यू-ट्यूब चैनलों से इन 3 मास्टर शेफ्स ने पाई शोहरत

ये था पद्मा लक्ष्मी का रियल नेम

पद्मा लक्ष्मी का वास्तविक नाम पद्मा पार्वती लक्ष्मी वैद्यनाथन है। कॉलेज जाने के समय तक वह एंजलिक के नाम से जानी जाती रहीं, इसके बाद औपचारिक रूप से अमेरिका की नागरिकता ग्रहण करने पर मां के सम्मान की खातिर उन्होंने अपना नाम पद्मा लक्ष्मी रख लिया, जिन्होंने अपने पति से तलाक लेने पर उनका नाम विदजया लक्ष्मी रखा था। 

इसे जरूर पढ़ें: रियलिटी शोज के साथ रियल लाइफ में भी विनर रहीं शिल्पा शिंदे

कॉलेज में थिएटर के लिए हुईं पैशनेट

padma laksmi women of substance inside

पद्मा लक्ष्मी ने कुकरी के अपने कौशल का उदाहरण पेश करते हुए कई शोज किए, लेकिन उससे पहले कॉलेज के दौरान थिएटर करना उन्हें बहुत रास आया था। इस दौरान उन्होंने कई नाटकों में हिस्सा लिया। 

5 भाषाओं की जानकार

किसी भाषा की समझ होने पर ज्ञान का दायरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। अगर पद्मा लक्ष्मी की बात करें तो उन्हें एक-दो नहीं बल्कि 5 भाषाएं आती हैं। अपने मल्टी कल्चरल बैकग्राउंड के कारण पद्मा लक्ष्मी इंग्लिश, हिंदी, तमिल, स्पेनिश और इतालवी भाषा आसानी से बोल लेती हैं। जाहिर है इन भाषाओं को जानने के साथ-साथ वह इन संस्कृतियों की भी गहरी समझ रखती हैं। 

बचपन से ही थी पाक कला में दिलचस्पी

 

पद्मा लक्ष्मी अपनी दादी मां से काफी प्रभावित थीं। दादी मां उन्हें चूल्हे से दूर रखती थीं। वह कहा करती थीं कि जब तक वह मिडिल स्कूल में ना पहुंच जाएं तब तक उन्हें चूल्हा जलाने की जरूरत नहीं है। एक मीडिया इंटरव्यू में पद्मा ने अपनी दादी के बारे में बताया था, ' इसके बाद जब पद्मा थोड़ी और बड़ी हुईं तो उनकी दादी कहा करती थीं कि जब तक पद्मा कॉलेज जाने लायक नहीं हो जातीं, तब तक उन्हें किचन में खाना पकाने की जरूरत नहीं है। लेकिन दादी मां जिस तरह से खाना पकाती थीं, उसे नन्ही पद्मा बहुत ध्यान से देखा करती थीं और यहीं से कुकिंग का उनका शौक जागा। 

Endometriosis Foundation of America की स्थापना की

padma laksmi tv presenter inside  

पद्मा लक्ष्मी ने Endometriosis Foundation of America की स्थापना की। यह संस्था Endometriosis के बारे में जागरूकता फैलाती है। दरअसल Endometriosis एक inflammatory disease है, जो महिलाओं की प्रजनन क्षमता और उनकी फिजिकल हेल्थ को प्रभावित करती है। लक्ष्मी स्वयं इस समस्या से पीड़ित रही हैं, जिसमें काफी ज्यादा क्रैपिंग महसूस होती है और इसके अलावा भी दूसरी तकलीफों का सामना करना पड़ता है। यह प्रॉब्लम उन्हें 13 साल की उम्र में ही शुरू हो गई थी और इसका पता उन्हें 36 साल में लग पाया था। 

पद्मा लक्ष्मी की चार बुक्स हो चुकी हैं प्रकाशित

 
 
 
View this post on Instagram

When you’re a teenager or preteen, knowing that you’re not the only one going through something makes you feel considerably less alone. ⁣⁣⁣ ⁣⁣⁣ My dear friend @susanroxborough published this reference guide: “Better With Books” with corresponding fiction and memoir recommendations to deal with all of the issues and insecurities that young people (and adults!) face. The goal is to inspire greater empathy for themselves, their peers and the world around them. ⁣⁣⁣ ⁣⁣⁣ It’s super thorough and helpful and I will definitely be referencing it as #littlehands grows up. Link in bio if you want to check it out.⁣ ⁣ Sidebar: Can we ever take a nice photo??? 😂 #betterwithbooks #bookclub #reads

A post shared by Padma Lakshmi (@padmalakshmi) onMay 15, 2019 at 9:02am PDT

पद्मा लक्ष्मी ने अपने अब तक के करियर में दो कुकबुक्स, एक संस्मरण और एक किताब मसालों, हर्ब्स, नमक, काली मिर्च और कई तरह के मिश्रित मसालों पर लिखी है। इस किताब को पढ़कर पद्मा लक्ष्मी के पाक कौशल का अंदाजा लगाया जा सकता है।