• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

सर्वाइकल कैंसर वैक्‍सीन से जुड़ी ये बातें हर महिला के लिए जानना है बेहद जरूरी

आज हमारे एक्‍सपर्ट आपको सर्वाइकल कैंसर वैक्‍सीन से जुड़ी कुछ जरूरी बातों के बारे में बता रहे हैं। 
author-profile
Published -04 Jul 2022, 17:58 ISTUpdated -05 Jul 2022, 10:13 IST
Next
Article
cervical cancer vaccination tips

हालांकि, भारतीय महिलाओं में कैंसर से होने वाली मौत का सबसे आम कारण सर्वाइकल कैंसर है। लेकिन ये एक ऐसा कैंसर है जिससे आसानी से बचा जा सकता है और इसका इलाज भी संभव है। जी हां, सर्वाइकल कैंसर दुनिया भर में चौथा सबसे आम कैंसर है। भारत में हर साल हजारों नए मामले सामने आते हैं और जागरुकता के अभाव में कई महिलाएं अपनी जान गवां देती हैं। 

लेकिन, यदि सही समय पर इसकी जानकारी मिल जाए तो महिलाएं वैक्‍सीन लगवाकर, जांच करवाकर और सही समय पर इलाज पाकर अपनी जान बचा सकती हैं। इसलिए आज हम आपको सर्वाइकल कैंसर वैक्‍सीन से जुड़ी कुछ जरूरी बातों के बारे में बता रहे हैं जो लगभग हर महिला के बारे में जानना बेहद जरूरी है। M.B.BS, MD (Obgyn) डॉक्टर अमीना खालिद ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर इससे जुड़ी जानकारी शेयर की है।

क्‍या है सर्वाइकल कैंसर

सर्वाइकल कैंसर महिलाओं में सर्विक्स के सेल्‍स को इफेक्‍ट करता है। सर्विक्स यूट्रस के निचले भाग का हिस्सा है जो वेजाइना से जुड़ा होता है। सर्वाइकल कैंसर इस हिस्‍से की सेल्‍स को इफेक्‍ट करता है। सर्वाइकल कैंसर के ज्‍यादातर मामले ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) के अलग-अलग तरह के एचपीवी स्ट्रेन्स के कारण होते हैं। एचपीवी एक बहुत ही आम यौन रोग है जो जननांग में मस्‍से के रूप में दिखता है। धीरे-धीरे ये सर्वाइकल सेल्‍स को कैंसर सेल्‍स में बदल देते हैं।

एक्‍सपर्ट की राय

सर्वाइकल कैंसर महिलाओं में होने वाला चौथा सबसे आम कैंसर है जो एचपीवी (ह्यूमन पैपिलोमा वायरस) के कारण होता है जो यौन संचारित होता है। अकेले भारत में, हर साल लगभग 120 हजार महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर का पता चलता है, जिससे लगभग 67 हजार मौतें होती हैं। स्थिति कितनी गंभीर है!

अधिकांश एचपीवी संक्रमण में आमतौर पर कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं और अपने आप दूर हो सकते हैं। लेकिन कुछ वास्तव में घातक हो सकते हैं। एचपीवी के 100 से अधिक प्रकार हैं, जिनमें से लगभग 40 जेनिटल एरिया को प्रभावित कर सकते हैं।

इसे जरूर पढ़ें:सर्वाइकल कैंसर के खतरे से बचना चाहती हैं तो आज ही लगवाएं वैक्‍सीन

सर्वाइकल कैंसर वैक्‍सीन से जुड़ी बातें 

इन दिनों उपलब्ध वैक्‍सीन्‍स इसके कारण होने वाले सर्वाइकल, वेजाइनल, वुल्वर और एनोजेनिटल कैंसर के अधिकांश मामलों को रोक सकते हैं। यह जेनिटल वार्टस के जोखिमको भी काफी कम करता है।

व्यापक रूप से 3 प्रकार के वैक्‍सीन उपलब्ध हैं-

  • सेर्वेरिक्स: एचपीवी 16 और 18 से बचाता है।
  • गार्डासिल: एचपीवी 6,11,16 और 18 से बचाता है।
  • वैलेंट 9: एचपीवी के 9 स्‍ट्रेन्‍स 6,11,16,18, 31,33,45,52 और 58 से बचाता है।
cervical cancer vaccine tips

यहां कुछ प्रमुख बिंदु दिए गए हैं जिन्हें आपको एचपीवी वैक्‍सीन्‍स के बारे में जानना जरूरी है-

  • 11-12 वर्ष की आयु के लड़कियों और लड़कों के लिए अनुशंसित, लेकिन 26 वर्ष की आयु तक दिया जा सकता है।
  • 26 साल से अधिक उम्र की महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर से बचाव का सबसे अच्छा तरीका है कि सर्वाइकल कैंसर की नियमित जांच हो।
  • वैक्‍सीन लगने के बाद भी महिलाओं को नियमित सर्वाइकल कैंसर जांच की आवश्यकता होती है।
  • आदर्श रूप से महिला के सेक्‍सुअल एक्टिव होने और एचपीवी के संपर्क में आने से पहले वैक्‍सीन लगाया जाना चाहिए। 
  • लेकिन सेक्‍सुअल एक्टिव महिलाएं भी इसका लाभ उठा सकती हैं, भले ही यह थोड़ा कम प्रभावकारी हो।
  • यह वैक्‍सीन प्रेग्‍नेंसी के दौरान नहीं देना चाहिए। यदि प्रेग्‍नेंसी के कारण डोज नहीं ली जाती है, तो इसे बाद में फिर से शुरू किया जाना चाहिए।
  • सर्वाइकल कैंसर वैक्‍सीन 26 वर्ष से कम उम्र की ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिलाओं को दिया जा सकता है और दिया जाना चाहिए।
who needs hpv vaccination

एचपीवी के विभिन्न प्रकार यौन संपर्क से फैलते हैं और सर्वाइकल कैंसर के अधिकांश मामलों से जुड़े होते हैं। गार्डासिल 9 HPV वैक्‍सीन का उपयोग लड़कियों और लड़कों दोनों के लिए किया जा सकता है। यदि वैक्‍सीन लड़कियों या महिलाओं के वायरस के संपर्क में आने से पहले दिया जाता है तो यह वैक्‍सीन सर्वाइकल कैंसर के अधिकांश मामलों को रोक सकता है।  

इसे जरूर पढ़ें:सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए HPV Vaccine के बारे में जरूर जानिए

Recommended Video

 

यह वैक्‍सीन वेजाइना और वुल्वर कैंसर को भी रोक सकता है। इसके अलावा, वैक्‍सीन महिलाओं और पुरुषों में जेनिटल वार्टस, गुदा कैंसर और मुंह, गले, सिर और गर्दन के कैंसर को रोक सकता है। सिद्धांत रूप में, सर्वाइकल कैंसर से जुड़े एचपीवी के प्रकारों के खिलाफ लड़कों का वैक्‍सीनेशन संभवतः संचरण को कम करके लड़कियों को वायरस से बचाने में मदद कर सकता है।

अभी अपना वैक्‍सीन लगवाएं और जानकारी फैलाएं!

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। हेल्‍थ से जुड़ी ऐसी ही जानकारी के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।