जहां तक बात गायनेकोलॉजिस्ट की होती है तो भारत में अधिकतर महिलाएं इसे सीरियसली नहीं लेती हैं। उनके लिए गायनेकोलॉजिस्ट के पास जाना किसी काम से कम नहीं होता है और वो ये कोशिश करती हैं कि ऐसा ना करना पड़े। जहां तक महिलाओं की बात है तो उन्हें हमेशा ऐसा ही लगता है कि गायनेकोलॉजिस्ट के पास जाना किसी तरह की झेंप की बात है और रेगुलर चेकअप नहीं करवाना ही बेहतर है। वो ये भी नहीं समझतीं कि किस तरह की बातों को डॉक्टर से कंसल्ट करना बहुत जरूरी है। 

जहां अधिकतर महिलाएं ऐसा करने में नर्वस फील करती हैं वहीं कई अगर हिम्मत करके चली भी जाती हैं तो भी वो बता नहीं पातीं कि उन्हें समस्या क्या है। मगर ऐसे समय में अपनी अंदरूनी समस्याओं के बारे में बताना बहुत जरूरी होता है। 

हमने नोएडा के मदरहुड अस्पताल की सीनियर कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्ट और ऑब्सटेट्रिशियन डॉक्टर तनवीर औज्ला से बात की। उन्होंने हमें उन बातों के बारे में बताया जिन्हें कभी भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और अपनी गायनेकोलॉजिस्ट से जरूर डिस्कस करनी चाहिए। 

doctor and gyno issues you should consult

इसे जरूर पढ़ें- अगर आप भी हैं PCOS से परेशान तो बिल्कुल ना करें ये काम

1. दर्द भरे पीरियड्स के बारे में-

आपको हमेशा अपनी गायनेकोलॉजिस्ट से दर्द भरे पीरियड्स के बारे में बात करनी चाहिए। अगर उन दिनों में कई तरह के दर्द हो रहे हैं, ब्रेस्ट में तकलीफ, क्रैम्प्स, उल्टी और जी-मिचलाना आदि हो रहे हैं तो ये बातें जरूर बताएं। अगर ये समस्याएं ऐसी हैं कि आपको बेहोशी और चक्कर आ रहे हैं तब तो देर करनी ही नहीं चाहिए। 

ऐसा इसलिए क्योंकि ये समस्या फाइब्रॉइड्स या एंडोमेट्रिओसिस की निशानी हो सकती हैं। डॉक्टर आपके टेस्ट्स कर ये बता सकता है कि आखिर आपको ऐसा क्यों हो रहा है और असली समस्या कहां है। 

2. अनियमित पीरियड्स-

जिस तरह पीरियड्स में दर्द होना एक बड़ी समस्या होती है उसी तरह अनियमित पीरियड्स भी होते हैं।  इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे कैलोरीज का कम इनटेक, जरूरत से ज्यादा डाइट में बदलाव, हार्मोनल समस्याएं आदि के कारण होता है। ये कॉन्ट्रासेप्शन पिल्स के कारण भी हो सकता है या फिर अगर आप किसी तरह की बीमारी से पीड़ित हों ऐसा भी हो सकता है। वैसे तो कभी-कभी बिना किसी कारण भी पीरियड्स डिले हो सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा बार-बार हो रहा है तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

Recommended Video

3. वेजाइनल बदबू-

जहां एक ओर वेजाइना की अपनी अलग स्मेल हो सकती है वहीं दूसरी ओर ये भी ध्यान देना जरूरी है कि अगर ये स्मेल जरूरत से ज्यादा है तो इसे इग्नोर नहीं करना है। कई लड़कियों को दिक्कत होती है कि वो अपने डॉक्टर से ये बात कह नहीं पाती हैं। हालांकि, ये समझिए कि ये बहुत ही आम समस्या है और ये लगभग सभी महिलाओं के साथ होती है। किसी न किसी समय पर उन्हें इससे परेशान होना पड़ता है। डॉक्टर ये बता सकता है कि कहीं ये किसी तरह के बैक्टीरियल इन्फेक्शन की वजह से तो नहीं हो रहा है। 

4. वेजाइना के आस-पास बंप्स-

वेजाइना के आस-पास किसी तरह के बंप्स हो जाएं या फिर आपको कुछ ऐसी चीजें दिखें जो नहीं होनी चाहिए तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। वेजाइना के आस-पास किसी भी तरह की ग्रोथ अगर दिखती है तो लोगों को परेशानी होने लगती है। कई बार सिर्फ वैक्सिंग की वजह से ही ये परेशानी होती है, लेकिन कई बार ये समस्या ज्यादा बड़ी होती है। ऐसे समय में आपको डॉक्टर से बात जरूर करनी चाहिए। ये हर्पीज, बार्थोलिन सिस्ट, स्किन सिस्ट आदि कई तरह की चीजें हो सकती हैं। 

5. वेजाइनल ड्राईनेस- 

इस समस्या से कई लड़कियां परेशान रहती हैं और अगर उनकी वेजाइना सही से ल्यूब्रिकेट नहीं होती है तो उनकी वेजाइना में सेक्शुअल एक्टिविटी के दौरान परेशानी हो सकती है। इससे खुजली जलन और चोट लगने की समस्या भी हो सकती है। वेजाइनल ड्राईनेस कई कारणों से होती है और कई बार ये कॉन्ट्रासेप्शन पिल्स, शरीर में एस्ट्रोजन की कमी आदि। इसके बारे में डॉक्टर से संपर्क करें और जानें कि आखिर क्या कारण है।  

इसे जरूर पढ़ें- पीरियड से जुड़ी ये समस्याएं हो सकती हैं खतरे की घंटी, ना करें इग्नोर 

6. वेजाइनल खुजली- 

वेजाइना में खुजली बहुत ही असहज महसूस करवा सकती है और साथ ही साथ ये किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकती है। ऐसा इसलिए भी हो सकता है क्योंकि वेजाइनल इरिटेशन, इन्फेक्शन, एसटीडी जैसी किसी समस्या से आप ग्रस्त हों। एक ऐसी स्थिति भी हो सकती है जिसमें ये वल्वा का कैंसर हो, लेकिन ये सिर्फ कुछ गंभीर मामलों में ही होता है।  

महिलाओं को वेजाइनल खुजली को नॉर्मल नहीं समझना चाहिए और इसके बारे में डॉक्टर से संपर्क जरूर करना चाहिए।  

7. वेजाइनल डिस्चार्ज- 

वेजाइना खुद ही अपने आप अपनी सफाई करती है और थोड़ा बहुत डिस्चार्ज आम बात है जिसे आप अपने अंडरवियर में नोटिस करती होंगी। लेकिन अगर ये जरूरत से ज्यादा हो रहा है और उसमें से बदबू भी आ रही है तो आपको इसे लेकर डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। जब आपकी मंथली साइकिल शुरू होने वाली होती है तब ऐसा हो सकता है कि वेजाइनल डिस्चार्ज थोड़ा ज्यादा हो, लेकिन अगर ये बहुत ज्यादा हो रहा है, जलन, दर्द, रैशेज, सूजन, बदबू जैसी समस्याएं भी साथ में हो रही हैं तो ये चिंता की बात है।  

ये सारी समस्याएं कई महिलाओं को होती हैं, लेकिन वो अपनी बातें खुद ही छुपा लेती हैं। ऐसा किए बिना उन्हें डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए और अपनी परेशानी को बताना चाहिए। ये शारीरिक ही नहीं बल्कि मानसिक तकलीफों का भी कारण बन सकती हैं।   

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।