ज्यादातर महिलाएं अपने पीरियड्स और प्रेग्नेंसी को लेकर काफी परेशान रहती हैं। चिंता तब दोगुनी हो जाती है जब आपकी सेक्शुअल एक्टिविटी बढ़ जाती हैं और इसका आनंद लेने के बजाय महिलाएं अनचाहे गर्भ को लेकर परेशान हो जाती हैं जो कभी भी दस्तक दे सकता है। लेकिन झल्लाहट क्यों, जब आप कई तरह के बर्थ कंट्रोल तरीकों में से एक का चुनाव आसानी से कर सकती हैं? आज हम आपको 10 बेस्‍ट बर्थ कंट्रोल तरीकों के बारे में बता रहे है, इन तरीकों से आप जब तक चाहें, तब तक प्रेग्नेंसी पर रोक लगा सकती हैं। लेकिन इनमें से किसी भी तरीके को चुनने से पहले आपको एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें: गर्भनिरोधक गोलियों से जुड़े ये 6 facts हर महिला के लिए जानना है जरूरी

1. गर्भनिरोधक गोलियां
birth control methods card ()

अब तक के सबसे लोकप्रिय गर्भनिरोधक विकल्प के रूप में, गोली का उपयोग मुख्य रूप से किया जाता है क्योंकि इसे लेना बेहद ही आसान है।
फायदे- यह आसानी से उपलब्ध और प्रभावी हैं और आपके पीरियड्स को रेगुलर करने में भी मदद करते हैं।
नुकसान- गर्भनिरोधक गोलियां प्रभावी रूप से तभी काम करती है जब रोजाना इसे एक ही समय पर लिया जाए।

2. प्रोजेस्टिन गोली

ये मिनी गोली के रूप में भी जानी जाती है, ये बिना किसी एस्ट्रोजेन के आती हैं और इसलिए स्मोकिंग करने वालों, हार्ट डिजीज और डायबिटीज के रोगियों और अन्य लोगों के लिए सुरक्षित होती हैं जिन्हें ब्ल्ड क्लॉट का खतरा होता है।
फायदे- सु‍रक्षित उपाय है।
नुकसान- लेकिन आपको अच्छे रिजल्ट के लिए इसे रोजाना एक ही समय पर लेने की जरूरत है।

3. वेजाइनल रिंग
birth control methods viginal  ring

फ्लैक्सीबल प्लास्टिक से बनी, यह रिंग बर्थ कंट्रोल गोली के तरह एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टिन का वितरण करती है। इसे अपनी वेजाइना में तीन हफ्ते के लिए रखा जाना चाहिए और अपने पीरियड्स के दौरान अगले एक हफ्ते के लिए हटा देना चाहिए।
फायदे- इससे पीरियड्स ज्यादा रेग्युलर और लाइट होते हैं। सिर्फ महीने में एक बार बदलना पड़ता है।
नुकसान- वेजाइनल जलन हो सकती है और पिल या पैच जैसे साइड इफ़ेक्ट्स हो सकते हैं। एसटीडी से सुरक्षा नहीं मिलती।

4. कंडोम

कंडोम पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए उपलब्ध है ये भी बर्थ कंट्रोल का एक पसंदीदा तरीका है। ये न केवल प्रेग्नेंसी को रोकते हैं बल्कि आपको यौन संचारित रोगों जैसे एचआईवी से भी दूर रखते हैं। इसलिए, कंडोम को रेगुलर इस्तेमाल की सलाह भी दी जाती है। कंडोम सस्ते होते हैं।
फायदे- कंडोम सस्ते होते हैं।
नुकसान- लेकिन प्रेग्नेंसी से 100 प्रतिशत रोकथाम की गारंटी नहीं देते हैं।

5. हार्मोनल शॉट्स
birth control methods shots

हार्मोनल शॉट्स हमारे रेगुलर इंजेक्शन की तरह होते हैं लेकिन प्रोजेस्टिन के साथ, ये महिलाओं में ओवुलेशन को रोककर प्रेग्नेंसी को रोकने में हेल्प करते है। यह शुक्राणु को अवरुद्ध करने के लिए सर्वाइकल म्यूक्स को भी गाढ़ा करता है, और गर्भाशय के अस्तर को पतला करता है, जो एक अंडे को प्रत्यारोपित होने से रोकता   है।
फायदे- यह बर्थ कंट्रोल की एक सुरक्षित विधि है और एक शाट्स तीन महीने तक चलता है।
नुकसान- कुछ साइड इफ़ेक्ट्स हो सकते हैं और एसटीडी से भी सुरक्षा नहीं देता है।

6. आईयूडी

आईयूडी जैसा कि आमतौर पर जाना जाता है, एक टी-आकार का उपकरण है जिसे डॉक्टर द्वारा प्रेग्नेंसी में रखा जाता है। कॉपर आईयूडी या हार्मोन प्रोजेस्टिन जैसे विकल्प उपलब्ध हैं, जिन्हें हाई सफलता रेट के लिए जाना जाता है।
फ़ायदे- लंबे समय तक चलने वाला और लो मेंटेनेंस।
नुकसान- पीरियड्स अनियमित या हैवी होना हैं। इसे लगवाना ज्यादा महंगा होता है और इसके बाहर आने का खतरा भी रहता है।

7. इमरजेंसी पिल

इसे आई-पिल या आफ्टर पिल के रूप में जाना जाता है। जब आप नियमित सावधानी नहीं बरत रहे हैं तो यह आपातकालीन स्थिति में आपका बैकअप विकल्प है। इसमें प्रोजेस्टिन जैसे हार्मोन की एक हाई डोज होती है और ये सेक्स करने के 72 घंटों के भीतर काम करती है।
फायदे- असुरक्षित सेक्स के 24 घंटे के अंदर इसे खाने से इसके असर करने की संभावना 95 प्रतिशत होती है।
नुकसान- यह गोली आपके पीरियड्स को प्रभावित करती है और इसके कुछ साइड इफेक्ट में जी मचलना, पीरियड्स में हैवी ब्‍लीडिंग, थकान, डायरिया और पेट में दर्द शामिल हैं।

8. डायाफ्राम
birth control methods diaphragm

डायाफ्राम एक डिवाइस है जो रबर से बना होता है और गुंबद के आकार का होता है। यह गर्भाशय ग्रीवा को कवर करता है और शुक्राणु को अंडे तक पहुंचने से रोकता है। एक डॉक्टर आपको इसे सही तरीके से फिट करने में मदद कर सकेगा और समझाएगा कि इसका उपयोग कैसे किया जा सकता है।
फायदे- यह थोड़ा महंगा है लेकिन एक डिवाइस का इस्‍तेमाल आप दो साल तक कर सकती हैं।
नुकसान- इसे कोई डॉक्‍टर ही फिट कर सकता है। यह एसटीडी से बचाव नही करता है।

9. स्टरलाइजेशन

यह एक अपरिवर्तनीय विकल्प है जो आपको फिर कभी प्रेग्नेंट नहीं होने देता है। इसलिए अगर आप एक स्थायी विकल्प की तलाश कर रही हैं तो आप इस पर विचार कर सकती है। नसबंदी के लिए महिलाओं को ट्यूबल बंधाव से गुजरना पड़ता है, जो बस एक शल्य प्रक्रिया है जो फैलोपियन ट्यूब को अवरुद्ध करती है। इस तरह से अंडे को यूटरस तक नहीं ले जाया जाता है।
फायदे- यह एक स्‍थायी विकल्‍प है।
नुकसान- इसका सबसे बड़ा नुकसान यह है इसे एक बार करवाने के बाद आप दोबारा कभी प्रेग्‍नेंट नहीं हो सकती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: बर्थ कंट्रोल से जुड़े इन 5 मिथ के कारण प्रेग्‍नेंट हो सकती हैं आप, जानिए क्‍या है सच

10. फर्टिलिटी काउंट

अपने चक्र को अच्छी तरह से जानना प्रेग्नेंसी से बचने का एक और तरीका है। आप अपने फर्टाइल दिनों की गणना कर सकती हैं और प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए कंडोम जैसे अवरोध विधियों का उपयोग कर सकती हैं।
नुकसान- लेकिन यह जोखिम भरपूर हो सकता है क्योंकि आप अपने चक्र के बारे में भूल सकती हैं, जबकि इसे हर दिन ट्रैक करने की जरूरत होती है।