वॉट्सएप में आजकल कई तरह के फॉर्वर्डेड मैसेज मिलते हैं और इनमें से कई मैसेज ऐसे होते हैं, जिनकी कोई प्रामाणिकता नहीं होती। हाल ही में कई ऐसे मामले सामने आए हैं कि एक वॉट्सएप मैसेज देखकर कुछ लोगों को बुरी तरह पीट दिया जाता है, क्योंकि वे किसी वॉट्सएप वीडियो में बच्चा चुराते हुए नजर आते हैं। एक और समस्या यह है कि इस पर बिना डॉक्टर से प्रमाणित किए हेल्थ से संबंधित मैसेज भी नजर आते हैं। एक मैसेज इन दिनों काफी ज्यादा फॉरवर्ड किया जा रहा है और इसमें सोनाली ब्रेंद्रे को यूट्रस का कैंसर होने की बात कही जा रही है। इसमें यह भी कहा गया है कि गर्मियों में काली ब्रा पहनने और दूसरी कई चीजों से कैंसर हो सकता है। 

sonali bendre viral message inside

सोनाली बेंद्रे को यूट्रस का कैंसर होने की बात है गलत

सोनाली बेंद्रे की तरफ से अब तक सिर्फ यह कहा गया है कि उन्हें हाई ग्रेड कैंसर है, जो मैटास्टेसाइज्ड हो गया है यानी दूसरे अंगों तक फैल गया है, लेकिन उन्होंने यूट्रस का कैंसर होने की बात कहीं नहीं कही है। ऐसे में इस वॉट्सएप मैसेज में कही गई बात गलत है। 

अन्य बातों का भी नहीं है आधार

इस मैसेज में कैंसर से बचाव के लिए एक लंबी लिस्ट दी गई है। यह मैसेज टाटा कैंसर हॉस्पिटल से आने की बात कही जा रही है, वास्तव में टाटा मेमेरियल सेंटर की तरफ से भेजा गया है। इस मैसेज में लिखी हुई ज्यादातर बातों के प्रामाणिक आधार की कमी है। हालांकि अपने शरीर का देखभाल और ब्रा की सफाई का ध्यान रखना चाहिए। इस मैसेज में कहा गया है कि महिलाओं को गर्मियों में ब्लैक ब्रा नहीं पहननी चाहिए। चूंकि काला रंग सबसे ज्यादा गर्मी सोखता और यूवी रेज को भी ज्यादा एब्सॉर्ब कर सकता है, शायद इसीलिए इस मैसेज में ब्रेस्ट कैंसर से बचाव के लिए यह सलाह दी गई है, लेकिन इसके सपोर्ट में कोई ठोस आधार नहीं दिया गया है। 

इसी तरह सोते समय ब्रा ना पहनने, धूप में सीने को दुपट्टे या कपड़े से ढंकने और अंडरवायर्ड ब्रान को अक्सर ना पहनने के पीछे भी कोई वैलिड फैक्ट्स नहीं दिए गए हैं। किसी तरह के साइंटिफिक फैक्ट्स इस दावे को सपोर्ट नहीं करते कि मैसेज में दी गई चीजों से ब्रेस्ट कैंसर बढ़ता है।