• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

बॉडी शेमिंग से तन ही नहीं मन भी होता है घायल, जानें कैसे

अगर बढ़ते वजन के चलते आपका भी बनता है मजाक, तो आइए जानें कि वास्तव में 'बॉडी शेमिंग' क्या है और इससे कैसे बचा जा सकता है। 
author-profile
Published -14 Jun 2022, 12:27 ISTUpdated -14 Jun 2022, 12:56 IST
Next
Article
body shaming

हमारा शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य हमारे शरीर की कई अन्य प्रक्रियाओं की तरह आपस में जुड़ा हुआ है। हम कैसा महसूस करते हैं यह अक्सर हमारे शरीर में दिखता है। हम अपने शरीर को कैसे बनाए रखते हैं, यह अक्सर हमारी मानसिक स्थिति को निर्धारित करता है। हाल के दिनों में, दुनिया को अधिक समावेशी समुदाय बनाने के लिए पर्सनली और यहां तक कि सोशल मीडिया पर भी बॉडी शेमिंग के खिलाफ कई तरह के आंदोलन और अभियान चलाए गए हैं। आइए जानें कि वास्तव में 'बॉडी शेमिंग' क्या है और इसका हमारे मन क्‍या असर होता है? इस बारे में हमें एनसो वेलनेस के मेंटल हेल्‍थ काउंसलर और फाउंडर, अरूबा कबीर जी बता रहे हैं। 

बॉडी शेमिंग क्‍या है?

बॉडी शेमिंग किसी के शरीर के बारे में कुछ नेगेटिव कहना है। यह आपके अपने या किसी और के शरीर के बारे में हो सकता है। कमेंट्स किसी व्यक्ति की लंबाई, उम्र, बालों, कपड़ों, बालों या आकर्षण के बारे में या खाने को लेकर भी हो सकते हैं। बॉडी शेमिंग से मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, जिसमें खाने के विकार, डिप्रेशन, चिंता, आत्मसम्मान की कमी और बॉडी डिस्मॉर्फिक डिसऑर्डर के साथ-साथ शरीर से नफरत की भावना भी शामिल है।

what is body shaming,

क्‍या है बॉडी इमेज

इसके विपरीत, बॉडी इमेज का मतलब है कि जब हम अपने मन में स्वयं को चित्रित करते हैं तो हम कैसा सोचते हैं और महसूस करते हैं। इसमें शामिल है कि हम जिस तरह से दिखते हैं, हमारे शरीर, हमारी लंबाई और वजन के बारे में हम कितने सहज हैं। पॉजिटिव बॉडी इमेज वाले लोग अपने नेचुरल बॉडी की सराहना करते हैं और इसकी अनूठी खामियों को महत्व देते हैं। हालांकि, नेगेटिव बॉडी इमेज वाले लोग अक्सर अपनी त्वचा को लेकर शर्मिंदगी महसूस करते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: जरीन खान हो गयी बॉडी शेमिंग की शिकार, क्या आपको भी किया गया है कभी bully

पॉजिटिव बॉडी इमेज आत्मविश्वास और आत्म-सम्मान से भरपूर होने से संबंधित है। जबकि नेगेटिव बॉडी इमेज मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति की ओर ले जाती है और अंततः किसी के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाती है। नेगेटिव बॉडी इमेज रातोंरात नहीं बनती है और आमतौर पर किसी व्यक्ति के जीवन में कई अन्य घटनाओं का प्रतिनिधित्व करती है जैसे:

  • बचपन में छेड़छाड़ या धमकने का शिकार
  • समाज द्वारा आलोचनात्मक बयानों की उपस्थिति
  • अवास्तविक सामाजिक सौंदर्य मानकों को मापने का प्रेशर
  • कम वजन, अधिक वजन या मोटा होना
  • बॉडी डिस्मॉर्फिक डिसऑर्डर का निदान 
body shaming expert tips 

हालांकि, इस दुनिया में यह समझना जरूरी है कि सुंदरता देखने वाले की आंखों में होती है। सुंदरता का कोई सामान्यीकृत मानक नहीं है - कोई त्वचा का रंग, शरीर का अनुपात, चेहरे की विशेषता दूसरे से श्रेष्ठ नहीं है और हम सभी को अपने और दूसरे के व्यक्तित्व को स्वीकार और सम्मान करना चाहिए।

आज के युग में डिजिटल मीडिया अक्सर हमें आदर्श शरीर कैसा होना चाहिए, इसकी इमेज के साथ लगभग लगातार बमबारी करता है। महिलाओं के लिए, पतले, युवा और परफेक्‍शन पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। पुरुषों के लिए, किए गए सर्वेक्षणों के अनुसार आदर्श शरीर को मस्‍कुलर वी-शेप बॉडी, सपाट पेट और नैरो हिप्‍स की विशेषता होती है। 

समस्या इस तथ्य में निहित है कि सुंदरता के ये आदर्श मानक आधारभूत मानक बन गए हैं जिनके द्वारा हम में से कई लोग खुद की तुलना करते हैं, फिर भी विशाल बहुमत के लिए अप्राप्य रहते हैं। और यद्यपि अधिकांश, यदि सभी नहीं, फैशन और अन्य मीडिया में इमेज को डिजिटल रूप से कहीं न कहीं अवचेतन रूप से बदल दिया जाता है, यह हमें इसे देखने के बाद हमारे शरीर में और भी बदतर महसूस कराता है, भले ही केवल थोड़े समय के लिए।

बॉडी शेमिंग से निपटने के कुछ टिप्‍स

mental health effects of body shaming

यहां कुछ उपयोगी टिप्स दिए गए हैं जो बॉडी शेमिंग से निपटने के लिए आधार तैयार करेंगे और उन्हें पीछे छोड़ देंगे

  • सभी स्‍ट्रेच के निशान, कर्व्‍स, चोट के निशान को पहचानें और उन्हें वैसे ही स्वीकार करें जैसे वे हैं।
  • हर उस हिस्से को स्‍वीकार करें, जिस पर तुम्हें शर्म आ रही थी।
  • आपका शरीर आपके लिए जो कुछ भी करता है, उसके लिए आभारी होने पर ध्यान दें।
  • खुद को ऐसे लोगों के आसपास रखें जो आपकी विशिष्टता को पहचानते हैं और आपको वैसे ही स्वीकार करते हैं जैसे आप हैं।
  • अपने विचारों से लेकर मीडिया पर आपके द्वारा देखे जाने वाले पोस्ट तक, उन रूढ़ियों को फ़िल्टर करें जो आपको आत्म-संदेह में संलग्न करती हैं और उन्हें अवरुद्ध करती हैं।
  • दूसरों का उत्थान करें और सकारात्मकता फैलाएं।

अपने स्वास्थ्य को याद रखें - शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य आपके हाथ में है - आपको यह तय करना है कि आप अपने मन और शरीर के साथ क्या करते हैं - आप इसमें रहते हैं, आप इसके साथ रोजमर्रा की जर्नी शुरू करते हैं और इसलिए आपको इसकी सराहना और सम्मान मिलता है।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Shutterstock & Freepik

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।