कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो सामान्य कोशिकाओं के कैंसर कोशिकाओं में बदलने या स्वस्थ कोशिकाओं की असामान्य वृद्धि के कारण होती है। जब कैंसर वेजाइना में होता है, तो इसे वेजाइनल कैंसर (Vaginal Cancer) के रूप में जाना जाता है। वल्वर कैंसर (Vulvar Cancer) महिला जननांग की बाहरी सतह को प्रभावित करता है। व्‍यूल्‍वा एक तरह की बाहरी त्वचा है जो मूत्रमार्ग (मूत्रमार्ग) और वेजाइना को घेरती है, और इसमें लेबिया और भगशेफ (Clitoris) शामिल होता है। यह स्थिति ट्यूमर के विकास की ओर ले जाती है, जो छोटी गांठ या घाव जैसी दिख सकती है। जिसमें तीव्र खुजली भी होती है। हालांकि यह एक सामान्य प्रकार का कैंसर नहीं है, लेकिन इसे शुरुआती चरणों में सफल रूप से पहचाना जा सकता है और रिकवरी की उम्‍मीद भी की जा सकती है।

एचपीवी संक्रमण, जिसे मानव पेपिलोमावायरस भी कहा जाता है, भी इस स्थिति को जन्म दे सकता है। यदि किसी मरीज को पहले सर्वाइकल कैंसर हो चुका है। उसे वेजाइनल कैंसर होने का खतरा और भी बढ़ जाता है।

vaginal cancer staging

Vulvar कैंसर के लक्षण 

● दर्दनाक पेशाब

● मोटी त्वचा

● जलन और रक्तस्राव

● संभोग के दौरान खुजली, दर्द

● त्‍वचा में संवेदनशीलता में वृद्धि, कच्चापन और मस्से जैसी वृद्धि

वेजाइना/ वल्वर कैंसर स्क्रीनिंग परीक्षण

पीएपी परीक्षण: यह टेस्‍ट महिला जननांगों में कैंसर कोशिकाओं की उपस्थिति का पता लगाता है। परीक्षण के दौरान, सतह पर कोशिकाओं को धीरे से जांचा जाता है। यह टेस्‍ट थोड़ा असहज हो सकता है, लेकिन इसमें दर्द धीरे-धीरे कम हो जाता है। हालांकि ये परीक्षण गर्भाशय ग्रीवा (cervical cancer) के कैंसर का पता लगाने के लिए होता है, मगर इसे वेजाइनल कैंसर की कोशिकाओं का भी पता लगाया जा सकता है।

कोलपोस्कोपी: कोलपोस्कोपी एक वेजाइना परीक्षण है जिसमें आवर्धक उपकरणों (magnifying equipment)का उपयोग किया जाता है। इस टेस्‍ट में डॉक्टर वेजाइना की सतह को बड़ा करके जांच कर सकता है। तब असामान्य कोशिकाओं (यदि कोई है) की उपस्थिति की जांच करना संभव हो जाता है। इसके अलावा, कोल्पोस्कोपी गर्भाशय ग्रीवा (cervical cancer)  और वेजाइना की पूरी तरह से जांच कर सकता है। यदि मरीज के पीएपी परीक्षण के परिणाम स्पष्ट नहीं है, तो डॉक्टर कोल्पोस्कोपी की सलाह दे सकते हैं। कोल्पोस्कोपी में एक असामान्य सेलुलर क्षेत्र का पता लगाने के बाद, बायोप्सी के लिए प्रभावित टिशूज का एक नमूना एकत्र किया जा सकता है। कोलपोस्कोपी टेस्‍ट जननांग के मस्‍सों का पता लगाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, यह वेजाइना में मौजूद टिशूज में गर्भाशय ग्रीवाशोथ (cervicitis) और प्रारंभिक परिवर्तनों का भी पता लगा सकता है, यदि कोई हैं तो।

vaginal cyst

एचपीवी टेस्ट: मानव पैपिलोमावायरस (एचपीवी) परीक्षण के द्वारा वायरस की उपस्थिति का पता लगाया जाता है। यह वायरस ही जननांग के मस्‍सों का विकास करते हैं।  यदि पीएपी परीक्षण के परिणाम अस्पष्ट हैं, तो इसका पता लगाने के लिए पैप स्मीयर (pap smear ) के साथ डॉक्टर इस परीक्षण की सलाह देते हैं। यह परीक्षण केवल महिलाओं पर किया जा सकता है।

Recommended Video

बायोप्सी: यह एक मेडिकल परीक्षण है जिसमें महिला के शरीर में रोग की उपस्थिति या सीमा की जांच करने और निर्धारित करने के लिए कोशिकाओं या टिशूज का नमूना लिया जाता है।

पेल्विक टेस्‍ट: वेजाइना / वल्वर कैंसर का समय पर पता लगाने के पेल्विक टेस्‍ट किया जाता है। इस परीक्षण के दौरान, डॉक्टर बाहरी जननांग कें भागों की अच्छी तरह से जाँच करता है। इसके अलावा, अंडाशय के साथ-साथ गर्भाशय की जांच के लिए भी परीक्षण किए जाते हैं। डॉक्टर रोगी की वेजाइना में एक स्पेकुलम (एक प्रकार का उपकरण) भी डाल सकते हैं। यह वेजाइना की लिका को खोलने में मदद करता है और डॉक्टर को कैंसर कोशिकाओं के किसी भी असामान्य विकास के लिए वेजाइना और ग्रीवा भागों का निरीक्षण करने में मदद करता है।

निष्कर्ष

महिलाओं को वेजाइना / वल्वर कैंसर से जुड़े विभिन्न जोखिमों वह लक्षणें के बारे में पता होना चाहिए। इसके अलावा उन्‍हें शरीर में हो रहे बदलावों पर नजर रखनी चाहिए। यदि किसी असामान्यता का पता चला है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। ऐसे डॉक्टर व्यक्तिगत रिस्‍क मैनेजमेंट टिप्‍स के साथ-साथ वेजाइनल कैंसर की रोकथाम रणनीति की सलाह दे सकते हैं।

 

डॉ.निरंजन चव्हाण 

एमडी, एफआईसीओजी, एफसीपीएस, डीजीओ, डीएफपी, एमआईसीओजी, डीआईसीओजी, डिप्लोमा इन एंडोस्कोपी (यूएसए), एंडोस्कोपी (यू.के., हैम्पस्टेड) में प्रशिक्षण।  विशेष सलह के लिए धन्यवाद।