आज के समय में महिलाएं स्वस्थ रहने के लिए कई तरह की दवाईयों व फूड आइटम्स का सेवन करती हैं। लेकिन अगर एक स्त्री नेचुरली स्वस्थ रहना चाहती है तो उसे दशमूलारिष्ट का सेवन अवश्य करना चाहिए। यह एक आयुर्वेदिक औषधि है और इसलिए इसके सेवन से महिला को किसी भी तरह के विपरीत प्रभाव का सामना करने की संभावना नहीं रहती। आमतौर पर, भारतीय घरों में महिलाओं को प्रसव के बाद दशमूलारिष्ट लेने की सलाह दी जाती है। लेकिन इसके अलावा भी यह महिलाओं को इसका सेवन करना चाहिए। यह समय से पहले मेनोपॉज, माहवारी की अनियमितता सहित पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मददगार है।

दशमूलारिष्ट जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है- दस तरह की जड़ी-बूटियों को मिलाकर तैयार की गई एक औषधि है। विशेष रूप से, महिलाओं के लिए यह किसी चमत्कार से कम नहीं है। हालांकि, अगर आप अभी तक इससे मिलने वाले फायदों से अनजान हैं। तो चलिए आज वुमन हेल्थ रिसर्च फाउंडेशन की प्रेसिडेंट डॉ नेहा वशिष्ट आपको दशमूलारिष्ट से मिलने वाले कुछ बेमिसाल फायदों के बारे में बता रही हैं, जिसे जानने के बाद आप आज से ही इसका सेवन शुरू कर देंगी-

डिलीवरी के बाद जरूरी है इसका सेवन

after delivery dahsmularisht

दशमूलारिष्ट एक नेचुरल पेन रिलीवर की तरह भी काम करता है, इसलिए डिलीवरी के बाद महिलाओं के लिए इसका सेवन अत्यधिक आवश्यक माना गया है। यह ना केवल प्रसव के बाद होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मददगार है, बल्कि यह प्रसव के बाद भूख को बेहतर बनाने में भी मदद करता है। साथ ही यह प्रसव के बाद रक्त स्राव के कारण आई कमजोरी को भी दूर करता है और महिला के दूध में वृद्धि करता है। इतना ही नहीं, कुछ महिलाओं को बच्चे के जन्म के बाद बुखार व अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है और ऐसे में दशमूलारिष्ट का सेवन बेहद लाभदायक होता है। साथ ही, अगर किसी महिला को पीसीओडी की समस्या है तो उसे भी दशमूलारिष्ट का सेवन अवश्य करना चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें: गर्भनिरोधक गोलियां और कॉपर टी, जानिए आपके लिए कौन सा ऑप्शन है सही

स्त्रीत्व को मिलता है बढ़ावा

dashmularisht for women

दशमूलारिष्ट के सेवन का एक सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह महिलाओं में स्त्रीत्व को बढाता है। दरअसल, दशमूलारिष्ट में कुछ ऐसी जड़ी-बूटियां शामिल होती हैं, जो महिलाओं के सेक्स हार्मोन जैसे एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन को बढ़ाने में मदद करती हैं। इसलिए, इससे महिलाओं को समय से पहले मेनोपॉज की समस्या नहीं होती। इसके अलावा, मेनोपॉज पीरियड भी अधिक आरामदायक साबित होता है। 

बेहतर पाचन तंत्र

पाचन तंत्र कमजोर होने के कारण एक महिला को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन अगर एक महिला दशमूलारिष्ट का सेवन करती है तो इससे उसका मेटाबॉलिक रेट बेहतर होता है, जिससे पाचन तंत्र भी अच्छी तरह काम करता है। इसामें कई तरह के विटामिन और खनिजों पाए जाते हैं, जो महिला के शरीर के पोषक तत्वों में सुधार करता है। जिससे महिला की कमजोरी दूर होती है, साथ ही उसे भूख भी अच्छी लगती है।  

इसे जरूर पढ़ें:जानें पीरियड्स क्‍या होते हैं और क्‍यों होते हैं?

बालों व स्किन के लिए भी लाभदायक

dashmuylarisht benefits women hair

दशमूलारिष्ट के सेवन से सिर्फ महिला को सेहत संबंधी लाभ ही प्राप्त नहीं होते, बल्कि इसका सकारात्मक असर उसकी स्किन व बालों पर भी पड़ता है। इसका नियमित सेवन करने से बालों की ग्रोथ बेहतर होती है। साथ ही साथ स्किन को भी इससे लाभ मिलता है। 

Recommended Video

पीरियड्स प्रॉब्लम्स को करे दूर

अगर आप उन महिलाओं में से हैं, जिन्हें अनियमित पीरियड्स या फिर माहवारी के दौरान बहुत अधिक ब्लीडिंग या ब्लड क्लॉट्स या फिर बहुत अधिक दर्द होता है, तो ऐसे में आपको दशमूलारिष्ट का सेवन अवश्य करना चाहिए। दशमूलारिष्ट के सेवन से माहवारी से जुड़ी लगभग हर समस्या से राहत मिलती है।