आज के समय में महिलाएं अपनी अनचाही गर्भावस्था से बचने के लिए कई तरह के उपाय अपना सकती हैं। पिल्स से लेकर इंजेक्शन व कॉपर टी कई ऑप्शन्स महिलाओं के पास मौजूद हैं।  लेकिन अगर सभी गर्भनिरोधक उपायों में से पॉपुलर तरीकों की बात की जाए जो इसमें गर्भनिरोधक गोलियां और कॉपर टी शामिल हैं। वैसे तो यह दोनों की तरीके प्रभावशाली तरीके से महिला को गर्भवती होने से रोकते हैं, लेकिन यह दोनों ही तरीके शरीर पर अलग तरह से काम करते हैं और यही कारण है कि किसी भी तरीके को चुनने से पहले आपको इन दोनों के बारे में अच्छी तरह से जान लेना चाहिए।

अगर आप जल्दी प्रेग्नेंट नहीं होना चाहती हैं और इसलिए एक गर्भनिरोधक उपाय को चुनने पर विचार कर रही हैं। तो चलिए आज फोर्टिस ला फेमे दिल्ली के प्रसूति एवं स्त्री रोग डिपार्टमेंट की एसोसिएट डायरेक्टर डॉ. अनीता गुप्ता आपको बता रही हैं कि गर्भनिरोधक गोलियां और कॉपर टी दोनों में से आपके लिए कौन सा ऑप्शन सही है-

क्या होती है गर्भनिरोधक गोलियां 

गर्भनिरोधक गोलियां वास्तव में एक हार्मोनल टैबलेट होती हैं, जो एग बनने की प्रक्रिया को रोकती है। दरअसल, यह गोलियां ओवुलेशन के दौरान अंडों को अंडाशय से बाहर निकलने से रोकने का काम करती हैं। साथ ही यह स्पर्म को गर्भाशय तक पहुंचने से रोकने के लिए वे गर्भाशय ग्रीवा में म्यूकस को थिक भी करते हैं। इस तरह इन गोलियों के सेवन से महिला के गर्भवती होने की संभावना नहीं रहतीं। 

gyno copper t

अगर आप गर्भनिरोधक दवाओं का सेवन कर रही हैं तो इसके लिए आपको अपनी दवाई के प्रति बेहद सतर्क होना पड़ता है। मसलन, इसमें हर दिन एक गोली का सेवन किया जाता है। साथ ही महिला को यह भी सलाह दी जाती है कि वह निश्चित समय पर दवाई को सेवन करे ताकि दो गोलियों के बीच में 24 घंटे का गैप हो। अगर महिला दवा लेना भूल जाती है या फिर अपनी दवाई को स्किप करती है तो इससे उसके लिए समस्या पैदा हो सकती है।

इसे जरूर पढ़ें- प्रेग्‍नेंसी में मां और बच्‍चे की हेल्‍थ के लिए बेस्‍ट हैं ये फूड्स 

क्या है कॉपर टी 

कॉपर टी एक आईयूडी होता है, जिसमें कॉपर मौजूद होता है। आईयूडी अंडे के लिए गर्भाशय की परत से चिपकना मुश्किल बनाते हैं, जिससे भी गर्भधारण होना मुश्किल हो जाता है। आसान शब्दों में कहा जाए जो कॉपर टी आपके यूट्रस में कुछ ऐसे चेंज करती है, जिससे गर्भ ठहर ही नहीं पाता। 

आप अपनी सुविधानुसार के अनुसार, दो साल से पांच साल तक कॉपर टी लगवा सकती हैं। एक बार आपकी बॉडी को सूट करने के बाद फिर आपको कोई समस्या नहीं होती। यहां आपको यह भी समझना चाहिए कि कॉपर आईयूडी कॉपर को रिलीज नहीं करती है। बल्कि वास्तव में, इसमें मौजूद कॉपर गर्भनिरोधक प्रभाव देती है।

gyno copper t protection

कौन सा ऑप्शन है बेहतर

अब सवाल यह उठता है कि आपके लिए इन दोनों में से कौन सा ऑप्शन बेहतर है तो इसके लिए आपको पहले अपनी स्थिति के बारे में जानना होगा। मसलन-

अगर आप अभी तक प्रेग्नेंट नहीं हुई हैं और कुछ समय के लिए प्रेग्नेंसी टालना चाहती हैं तो ऐसे में गर्भनिरोधक गोलियां का सेवन आपके लिए अधिक बेहतर ऑप्शन रहेगा, क्योंकि कॉपर टी आपके यूटरस में कुछ बदलाव कर सकता है। 

gyno pregnancy problems

इसे जरूर पढ़ें- आईवीएफ से मां बनना है आसान, इसके 5 चरणों के बारे में जानें 

Recommended Video

वहीं डिलीवरी के बाद गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे आपके भीतर हार्मोनल बदलाव हो सकते हैं और यह आपके और नवजात शिशु के लिए अच्छा नहीं है। ऐसे में आपके लिए कॉपर टी अच्छा ऑप्शन है। 

वहीं, अगर आप पहले प्रेग्नेंट हो चुकी हैं। मसलन, आपके पहले से ही बच्चा है तो ऐसे में आप कॉपर टी के ऑप्शन पर विचार कर सकती हैं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।