आज के समय में बच्चे जिस तरह का लाइफस्टाइल जी रहे हैं, उसके कारण उनके स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। छोटे-छोटे बच्चे आजकल ओवरवेट हैं और इसके लिए माता-पिता बच्चों को ही दोष देते हैं, जबकि इसके पीछे सबसे बड़ा हाथ होता है। आपको शायद यकीन न हो, लेकिन आपका व्यवहार भी बच्चों के वजन को प्रभावित करता है। कुछ समय पहले एक अध्ययन में भी यह बात सामने आई कि माता-पिता के व्यवहार और बच्चों के वजन का आपस में एक गहरा नाता है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ओबेसिटी के जर्नल में छपे इस अध्ययन के अनुसार, माता-पिता के व्यवहार का असर बच्चों के सेल्फ रेग्युलेट स्किल्स व खुद का व्यवहार संयमित करने पर पड़ता है। दरअसल, आजकल पैरेंट्स अधिकतर फास्ट फूड खाना पसंद करते हैं और वह शारीरिक रूप से इतने एक्टिव नहीं होते। माता-पिता का यह व्यवहार बच्चे पर भी असर डालता है। बच्चों के लिए पहले शिक्षक उसके पैरेंट्स ही होते हैं। जब बच्चे पैरेंट्स को ऐसा करते हुए देखते हैं तो वह खुद भी ऐसा ही लाइफस्टाइल अपनाते हैं। जिसके कारण उनके विकास व वजन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। अगर आप चाहती हैं कि आपका बच्चा एक्टिव व हेल्दी रहे तो इसके लिए सबसे पहले आपको अपने व्यवहार में परिवर्तन करना होगा। आप इन टिप्स को अपनाकर बच्चे का हेल्दी वेट मेंटेंन कर सकती हैं-

इसे भी पढ़ें: बच्‍चों में इम्‍यूनिटी बढ़ाते हैं ये 4 नेचुरल तरीके, एक्‍सपर्ट से जानें

हेल्दी ईटिंग

how parents behaviour may affect child's weight inside

बच्चों को हेल्दी बनाने के लिए सबसे पहले आप हेल्दी ईटिंग करना शुरू करें। अगर आप ही बाहर का खाना खाएंगी तो बच्चा भी ऐसा ही करेगा और कुछ वक्त बाद उसे घर का खाना बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगेगा। इसलिए आज से ही घर पर हेल्दी फूड बनाना शुरू करें और बच्चे के साथ मिलकर खाएं। इससे बच्चे ही भी गुड ईटिंग हैबिट्स डेवलप होंगी।

खेलने का समय

how parents behaviour may affect child's weight inside

आज के समय में अगर घर में देखा जाए तो पैरेंट्स लैपटॉप में लगे होते हैं और बच्चे फोन या टीवी में अपना वक्त बिताते हैं। जिसके कारण वह फिजिकली एक्टिव नहीं हो पाते। इसलिए पहले अपना व्यवहार बदलें और घर में स्क्रीन टाइम को सीमित करें। साथ ही कोशिश करें कि आप नियमित रूप से बच्चे के साथ एक घंटा जरूर खेलें। इससे आपकी आपसी बॉन्डिग भी अच्छी होगी और आप दोनों एक एक्टिव व हेल्दी लाइफ भी जीएंगे।

इसे भी पढ़ें: बच्‍चों में मोटापा बढ़ाता है घरों को चमकाने वाला फ्लोर लिक्विड

घर का काम

how parents behaviour may affect child's weight inside

बच्चे के वजन को नियंत्रित करने के लिए आप घर के छोटे-मोटे कामों जैसे क्लीनिंग आदि में उसकी मदद लें। इससे उनका हेल्दी वेट तो मेंटेंन होगा ही, साथ ही आपकी आपसी बॉन्डिंग भी बेहतर होगी। इसके अतिरिक्त इस तरह से उन्हें सेल्फ-रेग्युलेट होने में भी मदद मिलेगी।