ज्यादातर पैरेंट्स अपनी बेटियों को ऐसी चीजें सिखाना चाहते हैं जो उनके काम आएं या नहीं लेकिन दूसरों के काम जरूर आनी चाहिए। जैसे रोटी गोल होनी चाहिए हालांकि बेटी को समझ में भी नहीं आता हो कि रोटी को परांठे की तरह बनाने में हर्ज क्या है? इसके बावजूद भी उसे रोटी गोल बनानी सीखनी पड़ती हैं क्योंकि खाना खाने वालों को तो गोल रोटी ही पसंद आती हैं! 

यह सिर्फ एक छोटा सा उदाहरण है, इसी की तरह ऐसी और भी चीजें हैं जो ज्यादातर बेटियां अपने घरों में सीखती हैं लेकिन अब टाइम बदल रहा है ऐसे में पैरेंट्स को अपनी बेटी को ये काम की 7 चीजें जरूर सिखानी चाहिए। 

बेटी को फुटबॉल खेलना सिखाएं 

parents daughter relationship inside

Image Courtesy: Imagesbazaar

आप सोच रही होंगी कि बेटी को फुटबॉल सिखाने का क्या लॉजिक हैं, दरअसल जो हम अपने बच्चों को बचपन से सिखाते हैं उसका असर बच्चों पर ज्यादा होता है इसलिए बहुत जरूरी है कि आप अपनी बेटियों को बचपन से ही घर के कामों के बदले बाहर जाकर खेलना सिखाएं। खासतौर पर वो गेम्स जो सिर्फ लड़कों के खेलने के लिए माने जाते हैं। ऐसा करने से आपकी बेटी का बचपन से ही आत्मविश्वास बढ़ेगा। 

Read more: ये 5 सुपरफूड खाएं, वूमेन से सुपर वूमेन बन जाएं

बेटी को उसकी केयर करना सिखाएं 

parents daughter relationship care

Image Courtesy: Imagesbazaar

ज्यादातर बेटियां दूसरों की केयर करने में ही अपनी पूरी जिंदगी निकाल देती हैं ऐसे में बहुत जरूरी है कि आप अपनी बेटियों को दूसरा का ख्याल कैसे रखा जाएं यह सिखाने से पहले खुद का ख्याल रखना सिखाएं। 

Read more: अजीब है यह आइलैंड, जहां पुरुष होते हैं नग्न और महिलाओं को नहीं मिलती एंट्री 

पैसे के साथ आजादी से जीना सिखाएं 

parents daughter relationship money

Image Courtesy: Imagesbazaar

आपको अपनी बेटियों को जरूर सिखाना चाहिए कि कैसे आपकी बेटी अपने करियर पर ध्यान देकर अपने आपको आत्मनिर्भर बना सकती हैं। साथ ही उसे घर का बजट बनाने के अलावा खुद के लिए सेविंग कैसे करना है, यह तो जरूर सिखाएं। 

खुद के लिए लड़ना सिखाएं 

parents daughter relationship fight

Image Courtesy: Imagesbazaar

आजकल की सोसायटी में बहुत जरूरी है कि आपकी बेटी को खुद के लिए लड़ना आना चाहिए ताकि वो अपने लिए सही फैसले ले सकें। जब आपकी बेटी को खुद के लिए लड़ना आता होगा तो आपको उसके लिए यह सोचने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी कि वो आपके बिना कैसे अपने लिए सही फैसले ले पाएगी। 

Read more: गर्मियों में भी चमकेगा चेहरा अगर गुलाब जल की बूंदों का ऐसे करेंगी इस्तेमाल

ना बोलना सिखाएं 

parents daughter relationship decision

Image Courtesy: Imagesbazaar

बहुत बार हम अपनी बेटियों को सब कुछ सिखाते-सिखाते यह भूल जाते हैं कि हमें उन्हें ना बोलना भी सिखाना है। शादी करने का फैसला हो या फिर शादी के बाद मां बनने का फैसला हो आपकी बेटी को सोसायटी को ना बोलना आना चाहिए। 

खुलकर जिंदगी जीना सिखाएं 

parents daughter relationship happy

Image Courtesy: Imagesbazaar

आखिरी पर सबसे ज्यादा जरूरी है कि आपको अपनी बेटी को खुलकर जिंदगी जीना सिखाना चाहिए कि कैसे बिना किसी की परवाह करें उसे अपनी जिंदगी हंसते हुए और खुलकर जीनी है।