• ENG | தமிழ்
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

गोरा बनाने वाली क्रीम कहीं आपको ना बना दें बीमार

महिलाएं गोरी और सुंदर दिखने की चाह में महंगी स्किन लाइटनिंग क्रीमें खरीदती हैं, लेकिन इस दौरान वे इस बारे में नहीं सोचतीं कि इससे उनकी स्किन को कितना ...
author-profile
Published -28 Jul 2018, 07:41 ISTUpdated -30 Jul 2018, 09:58 IST
Next
Article
skin lightening cream article

आजकल गोरा दिखने का क्रेज बढ़ता जा रहा है। हर महिला चाहती है कि उसके चेहरा दमकता हुआ नजर आए। वह जहां भी जाए, लोग उसकी खूबसूरती के चर्चे करते नजर आएं। इसी ख्वाहिश को पूरा करने के लिए महिलाएं अपनी त्वचा का विशेष खयाल रखती हैं। बहुत सी महिलाएं इसके लिए स्किन लाइटनिंग यानी गोरा बनाने वाली क्रीमों का सहारा भी लेती हैं।

गोरा बनाने वाली क्रीमों से चेहरे पर नजर आने वाले दाग-धब्बे हल्के हो जाते हैं और पूरी त्वचा ग्लो करती हुई ही नजर आती है। महिलाएं इस तरह की महंगे ब्रांड वाली क्रीम खरीदना अपनी शान समझती हैं, लेकिन उन्हें ये नहीं पता कि इस तरह की क्रीम लगाने से किस तरह के नुकसान हो सकते हैं। 

skin lightening cream inside

इस शोध से डॉक्टर दे सकेंगे बेहतर दवाइयों का परामर्श

बॉस्टन यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं ने उन लोगों के बारे में स्टडी की, जो ये क्रीम लगाते हैं। इन शोधकर्ताओं ने उन वजहों को तलाशने की कोशिश की, जिनके चलते लोग इन क्रीमों को लगाने के लिए प्रेरित होते हैं। साथ ही उन्होंने इस बात पर ध्यान दिया कि ये क्रीम कैसे काम करती है। इन जानकारियों के आधार पर डॉक्टरों को मदद मिल सकती है और वे अपने मरीजों को बेहतर दवाइयों की सलाह दे सकते हैं, जो इस्तेमाल में सुरक्षित हों और जिसका हानिकारक असर भी ना हो। 

गोरा बनाने वाली क्रीमों से हो सकती है स्किन डिजीज

गोरा बनाने वाली क्रीमों पर पर शोधकर्ताओं ने 406 एडल्ट्स से बात की, जिन्हें काफी ज्यादा दानों की वजह से डर्मेटोलॉजी क्लीनिक में इलाज करा रहे थे। इस दौरान मरीजों के गोरा बनाने क्रीम के जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करने की बात सामने आई, जो त्वचा को बहुत ज्यादा खूबसूरत बना देने का दावा करती हैं। स्टडी में शामिल सभी लोगों की स्किन टाइप की डायग्नोसिस हुआ और यह भी पता लगाया गया कि उनकी बीमारी कितनी गंभीर थी। स्किन लाइटनिंग से ज्यादातर मरीजों में मेलास्मा (कत्थई से लेकर भूरे-कत्थई पैच त्वचा पर नजर आना ) और पोस्ट इन्फ्लेमेटरी हाइपरपिगमेंटेशन की समस्या देखी गई। आधे से भी कम मरीजों ने गोरा बनाने वाली इन कीमों से त्वचा थोड़ी बेहतर दिखने की बात कही। जिन लोगों ने इस तरह की क्रीम का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल किया था, उनमें से 27 फीसदी ही नतीजों से संतुष्ट थे। ध्यान देने वाली बात ये है कि जिन लोगों को अपने इलाज में स्थितियां बेहतर होती नजर आईं, उनके लिए ट्रिपल कॉम्बिनेशन क्रीम इस्तेमाल में काफी प्रभावी रही। 

Recommended Video

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।