• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

इन टिप्स के जरिए आप रख सकती हैं अपने बच्चे की आंखों का ख्याल, जानें एक्सपर्ट से

आजकल बच्चों का ज्यादा समय मोबाइल या लैपटॉप के साथ बीत रहा है, ऐसे में एक्सपर्ट से जानें कि बच्चों की आंखों की देखभाल के लिए कौन सी बातें बेहद जरूरी हैं।
author-profile
Next
Article
expert eyecare tips

मोबाइल आज हमारे जीवन में बहुत जरूरी होता जा रहा है। यही वजह है कि बच्चों का ज्यादातर समय मोबाइल की स्क्रीन के साथ बिताता है। कोरोना काल आने के बाद से बच्चों की क्लास हो या इंटरटेनमेंट दोनों ही ऑनलाइन माध्यम पर निर्भर हो गए हैं, ऐसे में बच्चों की आंखों से जुड़ी कई समस्याएं देखने को मिलती हैं। बच्चों की आंखों में हो रही कमजोरी के शुरुआती लक्षणों पर उनके माता-पिता भी नहीं ध्यान दे पाते हैं, यही कारण है कि आज छोटे-छोटे बच्चों को भी हाई पावर के चश्मे लग जाते हैं। बच्चों की आंखों से जुड़ी समस्या को लेकर हमने हमारे आज के एक्सपर्ट डॉक्टर ए.के द्विवेदी से बात की, जो कि एक वरिष्ठ आई सर्जन हैं।

 

एक्सपर्ट ने हमें बताया कि काफी समय से बच्चों का स्क्रीन टाइम बढ़ता जा रहा है, यही वजह है कि बच्चों की आंखों में एलर्जी और आई ड्राइनेस की प्रॉब्लम देखने को मिलती है। ऐसे में डॉक्टर की सहाल के साथ-साथ पेरेंट्स को खुद भी बच्चों की आंखों का ख्याल रखना चाहिए, जिसके लिए आपको इन बातों का ध्यान रखना होगा। 

इस तरह से करें बच्चे की कमजोर आंखों की पहचान- 

expert tips for eye care

ज्यादातर बच्चे खुद भी यह नहीं समझ पाते हैं कि उनकी आंखें कमजोर हो रही हैं। ऐसे में कुछ शुरुआती लक्षण देखकर ही आप पता लगा सकती हैं, कि आपके बच्चे की आंखों में समस्या हो रही है। 

  • कई बार आखें जब कमजोर हो रही होती हैं तो उनमें जलन और खुजली होने लगती है। ऐसे में बच्चे बार-बार अपनी आंखों को मसलने लगते हैं। इसलिए अगर आपका बच्चा ज्यादा समय तक आंखों को मसलता है तो उसे डॉक्टर के पास जरूर ले जाएं।
  • अगर आपका बच्चा अक्सर सिर दर्द की शिकायत करता है तो यह भी आंखों के कमजोर होने के शुरुआती लक्षणों में से एक होता है। ऐसे में अगर रेगुलर बेसिस पर आपके बच्चे के सिर में दर्द हो रहा है तो आंखों का चेकअप जरूर कराएं।
  • अगर आपका बच्चा किसी भी चीज को ज्यादा पास से पढ़ने या देखने की कोशिश करता है तो यह भी आंखों की कमजोरी के लक्षणों में से एक है। इसके अलावा हम आपको कुछ टिप्स भी बताएंगे जो आंखों की देखभाल के लिए काफी फायदेमंद होते हैं।

समय-समय पर करवाएं आई चेकअप- 

eye care tips for kids

आंखों में कमजोरी किसी भी समय आ सकती है। ऐसे में समय समय पर चेकअप कराने से आपके बच्चे की आंखों की रौशनी की जानकारी मिल जाती है, ऐसे में चेकअप कराने से आप जान सकती हैं कि कहीं आपके बच्चे को चश्मे की जरूरत तो नहीं।

इसे भी पढ़ें - आयुर्वेद के अनुसार आंखों को साफ करने के तरीके आप भी जानें

निर्धारित करें स्क्रीन टाइमिंग- 

kids eye care tips

अगर आपका बच्चा ज्यादा देर तक स्क्रीन के साथ ज्यादा समय बिताता है, तो उसके लिए आप एक निर्धारित स्क्रीन टाइमिंग तय कर सकती हैं, इससे बच्चों की आंखों ज्यादा नुकसान नहीं होगा। अगर आपके बच्चे की ऑनलाइन क्लास की टाइमिंग ज्यादा देर तक ही है तो आपको उसे कुछ देर का ब्रेक लेने के लिए कहना चाहिए, इससे बच्चे की आंखों को रेस्ट मिलता है।

बड़ी स्क्रीन में करें वर्क- 

eye care tips for your kids

ऑनलाइन क्लास के दौरान बच्चे को फोन की जगह लैपटॉप या टेबलेट से क्लास करने को कहें। स्क्रीन छोटी होने के कारण बच्चे को पढ़ने के लिए ज्यादा फोकस करना पड़ता है, जिस वजह से आंखों पर ज्यादा दबाव पड़ता है। 

इसे भी पढ़ें- अपने बच्चे को हेल्दी और स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए उसे दें संपूर्ण आहार

नियमित रुप से बच्चे को पहनाएं चश्मा- 

eye care easy tips for kids

अगर आपके बच्चे को चश्मा लग चुका है, तो इस बात का ध्यान रखें कि वह नियमित रूप से चश्मा लगाए। वहीं स्क्रीन को देखते वक्त बच्चे को चश्मा जरूर पहनवाएं, ऐसा करने से आपके बच्चे का चश्मा हट भी सकता है।

एक्सरसाइज का रखें खास ध्यान- 

आंखों की कई ऐसी आसान एक्सरसाइज हैं जिनकी मदद से बच्चों की आंखों की रौशनी बेहतर हो सकती है। इसलिए अपने बच्चे से खाली समय में आई एक्सरसाइज जरूर करवाएं, अगर उनका मन इन एक्सरसाइज में नहीं लगता तो आप उन्हें मोटिवेट करें और एक्सरसाइज के फायदे समझाएं। एक्सपर्ट नें हमें बताया कि पेन की टिप को लगातार देखने से आंखों का फोकस बेहतर होता हैं, वहीं आप उंगली की मदद से भी यह एक्सरसाइज करवा सकती हैं। 

यह एक्सरसाइज करने के लिए अपनी उंगली को बच्चे की दोनों आंखों के बीच में रखें और आगे-पीछे मूव करें, यह बहुत ही आसान ट्रिक है, जो आपके लिए हेल्पफुल साबित हो सकती है।

खाने में शामिल करें पौष्टिक फल और सब्जियां- 

eye care diet for kids

किसी भी व्यक्ति के लिए सबसे ज्यादा जरूरी चीज है पौष्टिक भोजन, जो आजकल की लाइफस्टाइल के चलते एक मुश्किल टास्क बन गया है। अगर आप अपने बच्चे के खाने में ये चीजें शामिल करती हैं, तो बच्चों की आंखों पर इन फूड्स का बेहतर असर होगा। इसलिए आंखों की रौशनी बेहतर बनाने के लिए आपको फिश, दूध, अंडा, चिकन, हरी सब्जियां और फल आदि खानें चाहिए।

तो यह थीं कुछ टिप्स जिनकी मदद से आप अपने बच्चों के आंखों की देखभाल कर सकती हैं। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

image credit- freepik and unsplash

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।