योग पूरे शरीर के लिए एक बेहतरीन एक्‍सरसाइज है। योग आसनों में घुमाव, विपरितता, सुपाइन और प्रोन पोज़, पीछे झुकना, आगे मुड़ना और अन्य मुद्राओं की एक विस्तृत श्रृंखला है जो शरीर को 360 डिग्री एक्‍सरसाइज देता है। योग उन महिलाओं के लिए अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है जो डेस्क जॉब पर लंबे समय तक बिताते हैं। अगर आप अपने लैपटॉप या कंप्यूटर के सामने अपने दिन का अधिकांश भाग बिताती हैं तो योग आपके लिए है।

योग न केवल एक बेहतरीन शारीरिक एक्‍सरसाइज है, बल्कि यह तनाव और चिंता से राहत दिलाने के लिए दिमाग को शांत करने में मदद करता है। गतिहीन दिनचर्या (सेडेंटरी लाइफस्टाइल) या यहां तक कि लंबी अवधि के लिए बैठे रहने से शरीर पर काफी प्रेशर पड़ सकता है, खासकर आपकी पीठ पर। योग में पीठ को मजबूत बनाने और इसे और अधिक लचीला बनाने के लिए स्‍पेशल आसन हैं। आपको अपने शरीर को टोन करना चाहिए और लंबे समय में किसी भी स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने के लिए अपने कोर का निर्माण करना चाहिए। योग आपकी सहनशक्ति, लचीलापन, शक्ति, धीरज बढ़ाने और यहां तक कि आपकी इम्‍यूनिटी को बढ़ाने में मदद कर सकता है। यहां कुछ आसन दिए गए हैं जिन्हें आप अपनी नियमित दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। इन योगासन के बारे में हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।

योग पोज़

1. संतुलनासन – प्लैंक पोज़ 

Santolanasana inside

  • इसे करने के लिए कंधों के नीचे अपनी हथेलियों से पेट के बल लेटें।
  • अपने पूरे शरीर को ऊपर उठाएं और घुटनों को सीधा रखें।
  • अपनी पीठ को कलाई, कोहनी और कंधों के साथ सीधा रखें।

2. चतुरंग दंडासन – फोर लिम्बड स्टाफ पोज़ 

chaturanga dandasana inside

  • संतुलनासन से शुरू करें।
  • जब सांस छोड़ते हैं तो शरीर को फर्श के समानांतर रखते हुए आधे पुश-अप में लाएं।
  • कंधों को अंदर खींचें और उन्हें अपने शरीर के साथ संरेखित करें।
  • जब सही ढंग से किया जाता है, तो शरीर एक रॉड या लाठी या छडी जैसा दिखता है।

3. वशिष्ठासन- साइड प्लैंक पोज़ 

vasisthasana inside

  • संतुलनासन से शुरू करें। 
  • शरीर को अपने दाहिने पैर को अपने बाएं पैर पर रखने के लिए दाहिनी ओर मोड़ें।
  • घुटनों, एड़ी और पैरों को एक साथ रखें।
  • दाहिनी बाजुओं को ऊपर उठाकर सुनिश्चित करें कि दोनों हाथ और कंधे संरेखित हैं।
  • अपने सिर को मोड़ें और अपने दाहिने हाथ को देखें।
  • बाईं ओर समान रूप से दोहराएं।

4. चक्रासन- व्हील पोज़ 

chakrasana inside

  • अपनी पीठ के बल लेट जाएं।
  • अपने पैरों को अपने घुटनों पर मोड़ें और सुनिश्चित करें कि आपके पैर फर्श पर मजबूती से रखे हों।
  • अपनी हथेलियों को अपनी हथेलियों के साथ आकाश की ओर रखते हुए मोड़ें। अपनी बाहों को कंधों पर घुमाएं और अपनी हथेलियों को अपने सिर के बगल में दोनों तरफ फर्श पर रखें।
  • श्वास लें, अपनी हथेलियों और पैरों पर प्रेशर डालें और अपने पूरे शरीर को एक घुमाव (आर्च) बनाने के लिए ऊपर उठाएं।
  • पीछे देखें और अपनी गर्दन को आराम दें।

Recommended Video

5. पश्चिमोत्तानासन

paschimottanasana inside  

  • पैरों को आगे की ओर फैलाकर शुरू करें।
  • आप अपने घुटनों को थोड़ा मुड़ा हुआ रख सकते हैं।
  • श्वास लेते हुए अपनी बाजुओं को ऊपर की ओर उठाएं।
  • अपनी रीढ़ को सीधा रखें।
  • ऊपरी शरीर को निचले शरीर पर रखने के लिए सांस छोड़ते और आगे की ओर झुकें।
  • अपनी उंगलियों से अपने बड़े पैर की उंगलियों को पकड़ें।
  • अपने घुटनों को अपनी नाक से छूने की कोशिश करें।

जब शरीर लचीला होता है तो वह ऊर्जावान और गतिशील रहता है। मांसपेशियों की कठोरता कई समस्याएं पैदा कर सकती हैं जो जोड़ों की कमजोरी, सूजन, और यहां तक कि अर्थराइटिस जैसे समस्‍याएं पर भी लाती हैं। हमेशा याद रखें कि अपनी योगाभ्यास की शुरुआत वार्मअप से करें। सूक्ष्म एक्‍सरसाइज पूरे शरीर के लिए ऐसी गति हैं जिसमें आपके शरीर को चोट से सुरक्षित रहने में मदद करने के लिए विभिन्न जोड़ों के सामान्य रोटेशन शामिल हैं। इस तरह की जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।