इन दिनों हेल्थ को लेकर लोग काफी जागरूक हो गए हैं और ऐसे समय में खाने की न्यूट्रिटिव वैल्यू और हेल्दी लाइफस्टाइल की ओर सभी ध्यान दे रहे हैं।  फल, सब्जियां, दूध और बहुत कुछ अपनी डाइट में शामिल किया जाता है, लेकिन एक बात ये सोचनी भी जरूरी है कि आप जो भी खा रहे हैं क्या इसमें विटामिन और मिनरल्स हैं या नहीं हैं। खाने में भरपूर न्यूट्रिएंट्स हों तभी आपका शरीर सही तरह से चलता है। 

पर आजकल जितना लोग सतर्क हो चुके हैं उतना ही शरीर की न्यूट्रिएंट्स की जरूरत भी बढ़ गई है। इन दिनों फोर्टिफाइड फूड्स का चलन बढ़ गया है और कई लोगों को तो ये पता भी नहीं होता है कि आखिर ये होते क्या हैं। फोर्टिफाइड फूड्स का चलन बढ़ रहा है, लेकिन आपको ये भी पता होना चाहिए कि ये होते क्या हैं और इन्हें खाने से क्या फायदा होता है?

एक रिसर्च कहती है कि पूरी दुनिया में 2 बिलियन से भी ज्यादा लोगों को माइक्रोन्यूट्रिएंट्स की कमी होती है और ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्हें इसकी दैनिक जरूरत के हिसाब से क्वांटिटी नहीं मिलती है। इस समस्या से निपटने में फोर्टिफाइड फूड्स मदद कर सकते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें- पीरियड्स में होता है बहुत दर्द तो एक्सपर्ट के बताए ये होममेड ड्रिंक्स करेंगे मदद

क्या होते हैं फोर्टिफाइड फूड्स?

1930 और 40 के दशक में फोर्टिफाइड और एनरिच फूड्स का इंट्रोडक्शन हुआ था। इनका मुख्य काम ये था कि ये शरीर में विटामिन और मिनरल्स की कमी को पूरा करते हैं। ये कुछ भी हो सकते हैं जैसे अनाज, दूध, सब्जियां, नाश्ते वाले सीरियल आदि। 

food fortification

फोर्टिफाइड फूड्स और एनरिच फूड्स में अंतर?

आपको दो अलग-अलग तरह के टर्म्स देखने को मिलेंगे। एक फोर्टिफाइड और एक एनरिच। दोनों का काम एक ही होता है और इन्हें बनाने का तरीका अलग होता है।  

फोर्टिफाइड फूड्स वो होते हैं जिनमें पहले से कोई न्यूट्रिएंट्स नहीं होते हैं और उनमें वो अलग से डाले जाते हैं। उदाहरण के तौर पर दूध में विटामिन-डी मिलाया जाता है।  फ्रूट जूस में कैल्शियम डाला जा सकता है।  

एनरिच फूड्स वो होते हैं जिनमें पहले से ही विटामिन्स मौजूद होते हैं, लेकिन वो प्रोसेसिंग के दौरान हट जाते हैं। ऐसे में उनमें फिर से इन्हें एड किया जाता है। उदाहरण के तौर पर गेहूं के आटे में फॉलिक एसिड और आयरन प्रोसेसिंग के बाद एड किया जाता है जो इसकी ओरिजनल वैल्यू को ठीक कर देता है।  

क्या होता है इनका फायदा? 

भारत सरकार की फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर खाने और न्यूट्रिशन से जुड़े बहुत जरूरी फैक्ट्स बताए हैं। फोर्टिफाइड फूड्स को लेकर सबसे अच्छी बात ये होती है कि इनमें स्वाद, रंग और टेक्सचर में कोई असर नहीं होता है और ये बिल्कुल नॉर्मल फूड्स जैसे ही लगते हैं।  

  

इसे जरूर पढ़ें- Expert Tips: उम्र हो गई है 40 से पार तो हेल्थ सही रखने के लिए डाइट में शामिल करें ये फूड्स 

किन तरह के फूड्स को कर सकते हैं अपनी डाइट में शामिल? 

अगर आप फोर्टिफाइड फूड्स की बात करें तो अपनी डाइट में आप इन्हें शामिल कर सकते हैं।  

  • फोर्टिफाइड दूध
  • फोर्टिफाइड चावल
  • फोर्टिफाइड आटा
  • फोर्टिफाइड नमक
  • फोर्टिफाइड तेल 

क्या है इन फूड्स का फायदा? 

जैसा कि हम पहले बता चुके हैं कि ये फूड्स आपकी सेहत पर सीधा असर करते हैं और आपके शरीर में वो न्यूट्रिएंट्स पहुंचाते हैं जिसकी उसे जरूरत है। ये फूड्स कैल्शियम, डाइटरी फाइबर, विटामिन-ए, विटामिन-बी, विटामिन-सी आदि न्यूट्रिएंट्स पहुंचाते हैं।  

Recommended Video

ये फायदेमंद तो होते हैं, लेकिन इनकी वजह से शरीर में विटामिन और मिनरल्स का ओवरडोज भी हो जाता है। फोर्टिफाइड फूड्स को आप अपने हिसाब से कन्ज्यूम कर सकते हैं, लेकिन डॉक्टर की सलाह लेना हर मामले में जरूरी है।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।