काबुली चने का किसी न किसी रूप में सेवन आप सभी ने किया होगा। कभी आपके स्वादिष्ट छोले के रूप में, तो कभी चाट के रूप में ,यही नहीं अपने पोषण से भरपूर गुणों के कारण इनका इस्तेमाल सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद भी है। लेकिन यदि आप नियमित रूप से और ज्यादा मात्रा में काबुली चने का सेवन करती हैं तो ये कुछ कारणों से आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी साबित हो सकते हैं। 

वैसे तो मुख्य रूप से काबुली चने कई पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं जैसे इन चनों में प्रोटीन और विटामिन -बी 6 भरपूर मात्रा में पाया जाता है और इसमें  फोलेट, मैंगनीज और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्वों की भी भरपूर मात्रा भी पाई जाती है। यही नहीं अगर इन्हें सही तरीके से डाइट में शामिल किया जाए तो ये आयरन का अच्छा स्रोत भी होते हैं। लेकिन यदि हम इन चनों को ज्यादा मात्रा में खाते हैं तो ये हमारी सेहत के लिए नुकसानदेह साबित हो सकते हैं। इसलिए इनके अधिक सेवन से पहले विशेषज्ञ की सलाह लेनी जरूरी है। आइए नई दिल्ली की डॉक्टर आकांक्षा अग्रवाल (BHMS) से जानें काबुली चनों के सेहत से जुड़े कुछ नुकसानों के बारे में। 

गैस की समस्या का कारण बन सकते हैं काबुली चने 

gastic problem chikpeas

काबुली चने में मुख्य रूप से प्रोटीन और फाइबर की ज्यादा मात्रा पाई जाती है। इसलिए इन्हें ज्यादा खाने से गैस, पेट में सूजन व ऐंठन हो सकती है भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए इसके ज्यादा  सेवन से गैस जैसी समस्याएं होने लगती हैं। इसे किसी भी रूप में खाने के बाद गैस बनना एक आम समस्या है लेकिन कई बार कमजोर पाचन वाले लोगों में इसके ज्यादा सेवन से आंतों में गैस की समस्या बढ़ जाती है। खासतौर पर छोटे बच्चों या नवजात शिशुओं को यदि ज्यादा मात्रा में काबुली चने खिलाए जाते हैं तो ये समस्या मुख्य रूप से सामने आती है। यही नहीं इसके सेवन से कब्ज, खट्टी डकार और पेट दर्द जैसी अन्य समस्याएं भी हो सकती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: खाने की इन 10 चीज़ों से हो सकती है एलर्जी, डाइट में शामिल करते समय ध्यान रखें ये बातें

काबुली चने से पाचन में हो सकती है समस्या 

कई बार काबुली चने खाने के बाद इन्हें पचाना मुश्किल हो जाता है। क्योंकि ज्यादा हैवी डाइट होने की वजह से इसके सेवन के बाद शरीर को इसे पचाने में ज्यादा समय लगता है। इस वजह से पेट फूलना और पेट दर्द की समस्या हो सकती है। कई बार कब्ज से पीड़ित लोगों के लिए इन चनों का ज्यादा सेवन उनकी समस्या को बढ़ा देता है और ये अपच के साथ मल त्याग की प्रक्रिया को मुश्किल करता है। इसलिए किसी स्वास्थ्य व्यक्ति को भी इसे एक उपयुक्त मात्रा में खाने की सलाह दी जाती है। 

किडनी के लिए हानिकारक हो सकते हैं काबुली चने 

chikpeas side effects and

काबुली चने में भरपूर मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है। आमतौर पर पोटेशियम रक्तचाप को प्रबंधित करने में मदद करता है, लेकिन इसकी बहुत अधिक मात्रा गुर्दे के लिए हानिकारक भी हो सकती है। जो लोग ब्लड प्रेशर नियंत्रित करने की दवाइयां लेते हैं उन्हें उच्च पोटेशियम वाले खाद्य पदार्थ, जैसे कि काबुली चने का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें:भीगे हुए चने का पानी पीने से होंगे ये 5 फायदे, जानें कैसे कर सकते हैं इसका सेवन

Recommended Video

क्या है एक्सपर्ट की राय 

काबुली चने में बहुत ज्यादा मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं इसलिए आप इसे अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। लेकिन ज्यादा प्रोटीन होने की वजह से इसका सेवन उन लोगों को खासतौर पर कम मात्रा में करना चाहिए जिन्हें किडनी या ज्यादा यूरिक एसिड की समस्या है। क्योंकि काबुली चने इन समस्याओं को बढ़ा सकती हैं। हालांकि काबुली चनों का सीमित मात्रा में सेवन सेहत के लिए फायदेमंद है, लेकिन किसी भी व्यक्ति को इसकी अति से बचना चाहिए। इसके अलावा यदि आपको कोई भी स्वास्थ्य समस्या है तो इन चनों का सेवन करने से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

उपर्युक्त सभी कारणों से स्वाद और सेहत से भरपूर काबुली चनों का सेवन आपको सीमित मात्रा में करना चाहिए और किसी भी स्वास्थ्य समस्या से ग्रस्त होने पर इसके सेवन से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik