अदरक के फायदों के बारे में आप निश्चित ही परिचित होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि सूखी और ताजी अदरक में क्या फर्क है? आयुर्वेदा डॉक्टर दीक्षा भवसार ने अपने इंस्टाग्राम की एक पोस्ट में बताया कि आयुर्वेद के मुताबिक फ्रेश अदरक को अदरक ही कहा जाता है और सूखी अदरक को सुंथी कहते हैं। अदरक अच्छी आवाज के लिए बेहतर टोनिक माना जाता है। इसे आप खाना खाने से पहले नींबू और नमक के साथ भी खा सकते हैं। यहां आप डॉक्टर दीक्षा से जान सकते हैं कि दोनों के फायदे क्या हैं और इन्हें कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है।

अदरक के फायदे(Fresh Ginger)

 ginger benefits inside

डॉक्टर दीक्षा के अनुसार अदरक आवाज अच्छी करती है और यह एक फायदेमंद औषधी के रूप में इस्तेमाल की जा सकती है। अदरक को आप खाना खाने से पहले नींबू और नमक के साथ खा सकते हैं, ऐसा करने से आपकी पाचन शक्ति बेहतर होगी। दीक्षा का कहना है कि अदरक एक शांत औषधी है, जिसे सर्दी या जुकाम के दौरान आपनी हर्बल टी में जरूर इस्तेमाल करना चाहिए। दीक्षा की सलाह है कि गर्मियों के मौसम में आपको अदरक के सेवन से बचना चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें: Expert Advice: आंखों की अच्छी सेहत के लिए अपनाएं ये टिप्स

ताजी अदरक कब करें इस्तेमाल?

 ginger benefits inside

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि अदरक गरम होती है, इसलिए दीक्षा ने सलाह दी है कि अदरक सर्दियों में इस्तेमाल करनी चाहिए। अगर आप चाहें तो अदरक का पेस्ट बनाकर सब्जी में डाल सकते हैं या खाना खाने के पहले नमक क साथ इसे खा सकते हैं। दीक्षा ने बताया कि अगर आपको सर्दियों में सर्दी-जुकाम ज्यादा है, तो अदरक की चाय बनाकर पीना आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है। दीक्षा ने बताया कि सर्दियों के मौसम में आपको ताजी अदरक अपनी डाइट में इसलिए भी शामिल करनी चाहिए, क्योंकि इससे पाचन तंत्र अच्छा होता है।

इसे जरूर पढ़ें:  मोठ दाल के सेहत से जुड़े कुछ अद्भुत फायदे जो आपने पहले नहीं सुने होंगे

सुंथी के फायदे(Dry Ginger/ Sunthi)

 ginger benefits inside

सुंथी अदरक के मुकाबले आसानी से पच जाती है और आपके स्वास्थ्य के लिए बेहतर मानी जाती है। दीक्षा का कहना है कि सूखी अदरक को आप हर मौसम में इस्तेमाल कर सकते हैं, न सिर्फ मसालों की तरह बल्कि दवाई की तरह भी सुंथी इस्तेमाल की जा सकती है। दीक्षा ने बताया कि अदरक का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह पाचन तंत्र अच्छा करती है और आपके शरीर के पौष्टिक टिश्यू को बेहतर बनाती है। जब आप अदरक चबाते हैं, तो इसका स्वाद गर्म और तीखा रहता है, लेकिन पेट में जाने के बाद यह ठंडी हो जाती है और शरीर को पोषण देती है।

Recommended Video

सुंथी का इस्तेमाल कब करें?

inside

दीक्षा के मुताबिक, सूखने की प्रक्रिया के कारण सुंथी ताजी अदरक के मुकाबले कम गरम होती है। इसलिए इसे आप किसी भी मौसम में इस्तेमाल कर सकते हैं। बेहतर इम्यूनिटी के लिए आप गाय के घी में एक चुटकी काली मिर्च और सुंथी मिलाकर खा सकते हैं। सुंथी के पेस्ट का इस्तेमाल सूजन या घाव कम करने के लिए भी किया जा सकता है। अगर आप चाहें तो अपनी सब्जी में अरोमा और बेहतर रंग लाने के लिए सुंथी मिला सकते हैं। इससे न सिर्फ रंग अच्छा होगा, बल्कि आपकी हेल्थ भी बेहतर बनेगी। दीक्षा ने सलाह दी कि जिन लोगों को हाइपरएसिडिटी, ब्लीडिंग डिसऑर्डर या हीट टिश्यू हैं, उन्हें अदरक का सेवन नहीं करना चाहिए।

 

तो अगली बार मौसम और अपनी समस्या के अनुसार आप अदरक और सुंथी का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें, और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik