आजकल की लाइफस्टाइल ने जिस विटामिन को हमारे शरीर में सबसे कम कर दिया है वो है विटामिन-डी। एक तरह से देखा जाए तो आजकल जितने भी टेस्ट होते हैं उनमें से अधिकतर में विटामिन-डी की ही कमी पाई जाती है। ये तो सही है कि विटामिन-डी का सबसे अच्छा सोर्स सुबह की धूप होती है और आजकल हमारी लाइफस्टाइल कुछ ऐसी हो गई है कि सुबह की धूप में बैठना तो दूर हम कई दिनों तक बाहर की धूप की शक्ल भी नहीं देख पाते हैं। 

यकीनन अगर देखा जाए तो विटामिन-डी की कमी एक बड़ी समस्या बनकर सामने आई है जो कई लोगों को परेशान करती है। इसकी वजह से हड्डियों की छोटी-मोटी समस्या से लेकर बड़ी परेशानी तक काफी कुछ होता है। अधिकतर लोगों को विटामिन-डी के सप्लीमेंट लेने की भी जरूरत पड़ती है। 

ऐसे में डाइट और लाइफस्टाइल के ऐसे कौन से बदलाव हो सकते हैं जिनसे कुछ हफ्तों में ही विटामिन-डी की समस्या को कुछ हद तक कम किया जा सके और शरीर में विटामिन-डी लेवल बढ़ाया जा सके ये जानने के लिए हमने डायबिटीज एजुकेटर और पब्लिक हेल्थ न्यूट्रिशनिस्ट स्वाति बथवाल से बात की। उन्होंने हमें विटामिन-डी से जुड़ी कुछ खास बातें बताईं। 

नोट: इस स्टोरी में वो टिप्स बताए गए हैं जो कुछ हफ्तों में आपके विटामिन-डी लेवल को बेहतर करने में मदद कर सकते हैं। अलग-अलग लोगों के विटामिन-डी लेवल और उनकी बीमारियों की हिस्ट्री के आधार पर डॉक्टर उन्हें अन्य कई सावधानियां बता सकता है और सप्लीमेंट लेने की सलाह भी दे सकता है। 

swati bathwal vit d

आखिर क्यों कम होता है शरीर में विटामिन-डी का लेवल?

स्वाति जी के मुताबिक शरीर में विटामिन-डी का लेवल कम होने का कोई एक कारण नहीं हो सकता है। इसके लिए ये कारण जिम्मेदार हो सकते हैं-

  • जरूरत से ज्यादा अल्कोहल लेना
  • स्मोक करना
  • एक्सरसाइज की कमी
  • उम्र का बढ़ना (रिंकल्स भी इसका कारण हो सकते हैं)
  • जरूरत से ज्यादा स्ट्रेस लेना
  • फास्ट फूड जरूरत से ज्यादा खाना
  • सूरज की धूप पर्याप्त मात्रा में न मिलना
  • कोलेस्ट्रॉल की दवाएं लेना
  • 2-3 कप से ज्यादा चाय या कॉफी पीना

अब जब हमने विटामिन-डी की कमी के कारण जान लिए हैं तब हमें ये भी जान लेना चाहिए कि इसकी कमी कितनी घातक साबित हो सकती है। 

d vitamin

इसे जरूर पढ़ें- विटामिन- D की कमी होने पर हमारा शरीर देने लगता है ये 5 संकेत, कभी न करें इग्नोर 

क्या विटामिन-डी की कमी से होता है कैंसर?

स्वाति जी का कहना है कि ये मुमकिन है और कुछ रिसर्च ये कहती हैं कि जरूरत से ज्यादा विटामिन-डी की कमी एक समय के बाद कैंसर को बढ़ावा दे सकती है। विटामिन-डी की कमी से होने वाले कैंसर में शामिल हैं-

  • ब्रेस्ट कैंसर
  • प्रोस्टेट कैंसर
  • स्किन कैंसर (ये जरूरत से ज्यादा सूरज की धूप में रहने के कारण भी हो सकता है)
  • कोलन कैंसर
  • अन्य मेडिकल कंडीशन जो विटामिन-डी की कमी के कारण होती हैं-
  • विटामिन-डी की कमी से कैंसर से पहले शरीर में अन्य बहुत सारी परेशानियां भी हो जाती हैं जिनमें शामिल हैं-
  • हाई ब्लड शुगर लेवल
  • दिल की बीमारी
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस (sclerosis)
  • जलन 
  • ऑस्टियोआर्थराइटिस 
  • इतना ही नहीं विटामिन-डी की कमी के कारण इम्यूनिटी की समस्या भी हो सकती है।  
suppliments and vitamin d

इसे जरूर पढ़ें- Vitamin D: विटामिन डी क्यों जरूरी है और इसके लेवल को कैसे बढ़ाएं, एक्‍सपर्ट से जानें 

किन फूड सोर्स में होता है ज्यादा विटामिन-डी?  

विटामिन-डी वैसे तो सूरज की धूप से मिलता है, लेकिन कुछ फूड सोर्स भी हैं जो इसके लिए अच्छे माने जाते हैं।  

  • गहरे पानी की मछली
  • मशरूम
  • अंडे की जर्दी
  • स्प्राउट्स 

कुल मिलाकर विटामिन-डी लेवल को ठीक रखने के लिए आपको अपनी डाइट में इन चीज़ों को जरूर शामिल करना चाहिए। ये प्रोटीन और अन्य विटामिन से भी भरपूर रहती हैं और इसलिए आपके लिए स्वास्थ्यवर्धक रह सकती हैं।  

Recommended Video

सप्लीमेंट भी हो सकते हैं जरूरी- 

स्वाति जी का कहना है कि जहां जरूरत हो वहां विटामिन-डी के सप्लीमेंट भी लेने चाहिए। अगर आपका विटामिन D लेवल 60 nmol/L से कम है तो आपको 800 IU प्रति दिन का डोज मेंटेन रखना होगा।  

इसकी बारीकियां जानने के लिए आपको अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए। हर 3-6 महीने में टेस्ट करवाने की सलाह दी जाती है।  

विटामिन-डी लेवल को ठीक रखने के लिए सुबह 7-10 की धूप में रहने की सलाह भी दी जाती है। आपके लिए दिन के आधे घंटे भी काफी होंगे और सबसे जरूरी बात ये है कि आपको अपने डॉक्टर की सलाह ऐसे समय में जरूर माननी चाहिए।  

अपनी सेहत का ध्यान रखने के लिए एक्सरसाइज भी बहुत जरूरी है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।