अन्य कई महत्वपूर्ण अंगों की तरह किडनी हमारे सिस्टम का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है, यह बैलेंस बनाए रखने, अपशिष्ट पदार्थों और ब्‍लड से अतिरिक्त तरल पदार्थों को छानने के लिए महत्वपूर्ण है। इस तरह से किडनी हमारे ब्‍लड को साफ कर देती है और सारे टॉक्सिन्स यूरिन के जरिए शरीर से बाहर कर देती हैं।  लेकिन जीवनशैली में बदलाव और कभी-कभी दवाइयों के कारण किडनी पर बुरा असर पड़ता है। इसके अलावा डायबिटीज, ब्‍लड प्रेशर और मोटापे से ग्रस्‍त व्यक्तियों में किडनी की बीमारियों की आवृत्ति तेजी से बढ़ रही हैं।

एक्‍सपर्ट की राय

क्लिनिकल और स्पोर्ट्स न्यूट्रिशनिस्ट के फाउंडर वैभव गर्ग ने हरजिंदगी को बताया कि "किडनी की बीमरियों को मैनेज करना बहुत महंगा होता हैं। इसमें डायलिसिस के लिए हॉस्पिटल के चक्‍कर काटने पड़ते हैं और लगभग लाइलाज हैं। हालांकि किडनी बहुत लचीला अंग हैं और इससे जुड़ी बीमारियों को बहुत तेजी ठीक किया जा सकता है। लेकिन इससे जुड़े कारकों का ध्यान रखना महत्वपूर्ण होता है।'' 

"क्रोनिक किडनी रोग को नैदानिक रूप से धीरे-धीरे हानि द्वारा दर्शाया जाता है। प्रारंभिक अवस्था में, कुछ स्‍टेजेज के कारण निदान थोड़ा मुश्किल होता है, जबकि एडवांस स्‍टेजेज में ब्‍लड का काम खतरनाक लेवल पर लिक्विड, इलेक्ट्रोलाइट्स और जहरीले टॉक्सिन को दर्शाता है। उचित सावधानी के बिना और ज्यादातर मामलों में डायलिसिस के बिना लक्षणों का मैनेज करना कठिन होता है।'' 

diet for kidney disease inside

"हालांकि हम जो खाते हैं उसका असर हमारी हेल्‍थ पर होता है। यह एक धारणा है जिसके द्वारा मेडिकल न्‍यूट्रिशन या डाइट थेरेपी की एक नई अवधारणा सामने आई है जो बताती है कि एक मॉनिटर की गई किडनी डाइट किडनी के कामों को धीमा करने में मदद और किडनी फेल्यिर की प्रगति को धीमा भी कर सकती है।''  

इसे जरूर पढ़ें:किडनी से जुड़ी बीमारियों के इलाज में बैलेंस डाइट के साथ ये 1 फॉर्मूला भी है कारगर

रीनल डाइट में उन फूड्स को नष्ट करना शामिल है जो नेफ्रोन (किडनी में सिंगल सेल) में सूजन को कम करना सुनिश्चित करता है और परिणामस्वरूप शरीर में मिनरल्‍स और कचरे के अनावश्यक निर्माण से बचें। यहां गर्ग जी द्वारा किए गए कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आपकी मदद कर सकते हैं।

अल्‍कलाइन प्रोटीन डाइट

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के शोध के अनुसार, महत्वपूर्ण पोषक तत्वों और प्रोटीन को बनाए रखने के लिए हेल्‍दी किडनी को बहुत ज्‍यादा मेहनत करने की आवश्यकता होती है। यह यूरिन के माध्यम से हमारे शरीर के बेकार टॉक्सिन को छानने में मदद करता है। अगर किडनी में यूरिन में प्रोटीन लीक होता है तो इसका मतलब है कि किडनी फेल्यिर हो रहा है। डाइट में एनिमल और कोलेस्ट्रॉल को प्रमुख कारक माना जाता है जो अनुसंधान के अनुसार इस फेल्यिर में योगदान करते हैं।

इलेक्ट्रोलाइट की कम खपत (सोडियम और पोटेशियम)

diet for diet for kidney disease inside

यह सलाह दी जाती है कि सोडियम से भरपूर फूड्स और स्नैक्स से बचें। प्रति दिन 2-3 ग्राम से अधिक सोडियम नहीं खाना चाहिए। अगर ब्‍लड में पोटेशियम का बहुत अधिक लेवल दिखाई देता है तो कम पोटेशियम युक्त फल और सब्जियां (जैसे जामुन, सेब, अंगूर, ब्रोकली, मशरूम आदि) का सेवन करने का सुझाव दिया जाता है। 

फॉस्फेट इंटेक

स्‍टेज 3 के बाद किडनी की बीमारियों में अत्यधिक हाई फॉस्फेट का लेवल चिंताजनक है। इसलिए शरीर में फॉस्फेट के अच्छे लेवल को बनाए रखना जरूरी होता है।

Recommended Video

हाइड्रेशन

water for diet for kidney disease inside

किडनी की बीमारी के शुरुआती स्‍टेज में तरल पदार्थ का सेवन प्रतिबंधित करने की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन चूंकि एडवांस स्‍टेज में किडनी का समग्र वॉटर लेवल बैलेंस करने के लिए आपके न्‍यूट्रिशनिस्‍ट के मार्गदर्शन में लिक्विड की खपत को कंट्रोल करने के लिए समझौता किया जाता है।

इसे जरूर पढ़ें:किडनी की बीमारी का आयुर्वेद में मिलता है अचूक इलाज, एक्‍सपर्ट से जानें कैसे

विटामिन और आयरन का लेवल

विटामिन डी और रेड ब्‍लड सेल्‍स के संश्लेषण के लिए किडनी महत्वपूर्ण हैं जो उनमें आयरन को स्टोर करती हैं। इसलिए किडनी के धीमे कामों में विटामिन डी और आयरन कम हो जाता है। इसलिए न्‍यूट्रिशनिस्‍ट के अनुसार सप्‍लीमेंट लेना निर्धारित करें।

हेल्‍दी वजन 

सीकेडी प्रगति भूख को कम कर सकती है। इसलिए डाइट यह सुनिश्चित करने में सक्षम होना चाहिए कि हेल्‍दी वजन बनाए रखा जाए।

अगर आपको कोई संदेह है तो अपने डॉक्‍टर से परामर्श करें क्‍योंकि हर किसी की बॉडी अलग तरह से प्रतिक्रिया करती है और अगर आप किसी अन्य हेल्‍थ समस्‍याओं से परेशान हैं तो आपकी डाइट अलग हो सकती है। इस तरह की और जानकारी के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।  

Image credit: freepik.com