अगर भारत के इतिहास के पन्‍नों को पलटा जाए तो पता लगता है कि बाजरे का इतिहास भारत में 5000 वर्ष पुराना है। यह आंकड़े हैरत में डालने वाले हैं, क्‍योंकि इतने अधिक वर्षों से खाए जाने वाले बाजरे का फायदा लोगों को समय से मिल रहा है। 

हालांकि, बदलते हुए फूड ट्रेंड के कारण बहुत सारे जंकफूड और पैक्‍डफूड लोगों के आहार में शामिल हो गए हैं। मगर बाजरे में मौजूद हेल्‍थ बेनिफिट्स आज भी लोग पा सकते हैं क्‍योंकि यह बाजार में आपको बहुत ही आसानी उपलब्‍ध हो जाएगा।  

बाजरे में पोष्‍क तत्‍वों का भंडार होता है। इसमें मौजूद प्रोटीन, विटामिंस, फाइबर और मिनरल्‍स शरीर के लिए किसी वरदान से कम नहीं होते हैं। वैसे बाजरे को 'गरीबों का अन्‍य' भी कहा गया है क्‍योंकि यह मूल्‍य में बहुत अधिक नहीं होता है। इसे आप पॉकेट फ्रेंडली फूड आइटम कह सकते हैं। 

बाजरे का सेवन कर आप न केवल अपने शरीर में एनर्जी लेवल को बढ़ा सकते हैं बल्कि वजन कम करने, इम्‍यूनिटी को बूस्‍ट करने और अन्‍य शरीरिक समस्‍याओं से निजात दिलने में भी बाजरा किसी मैजिक की तरह शरीर पर काम करता है। भारत में अधिकतर बाजरा वह लोग ज्‍यादा खाना पसंद करते हैं, जो फिटनेस फ्रीक होते हैं, मगर मेरा मानना है कि बाजरे को हर किसी को अपने आहार का हिस्‍सा बनाना चाहिए और इसके लाभ उठाने चाहिए क्‍योंकि यह ग्‍लूटेन फ्री होता है। 

इसे जरूर पढ़ें: Expert Tips: सेहत के लिए वरदान है ओट्स, जानें फायदे और इस्‍तेमाल करने का तरीका

millets  nutrition

बाजार में बाजरा आपको कई रंग, साइज और शेप में मिल जाएगा। इसकी कुछ वैरायटीज के बारे में हम आपको बताते हैं- 

  • फॉक्‍सटेल बाजरा को काकुम और कंगनी भी कहा जाता है। 
  • फिंगर बाजरा को रागी के नाम से भी जाना जाता है। 
  • पील बाजरा को बजरा कहते हैं। 
  • सोरघम को ज्‍वार के नाम से जाना जाता है। 
  • अमरनाथ को राजगिरि कहा जाता है। 
  • बकव्‍हीट को कुट्टू कहते हैं। 

इस तरह करें बाजरे को अपने आहार में शामिल

  • अपने आहार में चावल के स्‍थान पर आप बाजरे को शामिल कर सकती हैं। 
  • आप बाजरे को पकाने से पहले 3-4 घंटे या फिर रात भर के लिए पानी में भिगो कर रखें। 
  • बाजरे को खरीदने से पहले उसके पैकटे को जरूर देखें कि उसमें ग्‍लूटेन फ्री लिखा है या नहीं। 
  • अगर आपको बाजरे का अच्‍छा स्‍वादा चखना है तो आप इसे पकाने से पहले थोड़ा भून लें। 
  • आप बाजरे से कई तरह की रेसिपी भी तैयार कर सकते हैं। जैसे बाजरे की खिचड़ी, पैनकेक्‍स, टिक्‍की, कटलेट, बेक्‍ड डिशेज, चीला, ढोकला, सलाद, कुकीज, खीर, फिरनी, शीरा और हलवा बाजरे से बनने वाली बेहद स्‍वादिष्‍ट रेसिपीज हैं। 
 
celebrity  master  chef  kaviraj  khialani

सेहत के लिए बाजरे के लाभ 

  • बाजरे में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्‍सीडेंट्स होते हैं। इसके सेवन से शरीर को डिटॉक्सिफाई करने में मदद मिलती है। 
  • बाजरे को आप अपने आहार में कई तरह से शामिल कर सकते हैं। यह आपकी इम्‍यूनिटी को बूस्‍ट करता है। 
  • अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो बाजरे का सेवन करना शुरू कर दें, क्‍योंकि यह ग्‍लूटेन फ्री होता है। 
  • अगर आपको किडनी, लीवर या फिर गैसट्रिक समस्‍याएं हैं तो आप बाजरे का सेवन जरूर करें क्‍योंकि यह पाचन में मदद करता है। 
  • बाजरा प्रोटीन का बहुत अच्‍छा सोर्स होता है। इसे आहार में शामिल करने से कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने और ब्‍लड शुगर को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है। 

 

डॉक्‍टर कविराज खियालानी एक सेलिब्रिटी मास्टर शेफ, क्रेएटिव क्विज़ीन स्‍पेशलिस्‍ट, लेखक, फूड राइटर और कंसल्टेंट हैं। फूड और हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री से जुड़े डॉक्‍टर कविराज खियालानी को 2 दशकोंं से भी अधिक समय हो चुका है और इस दौरान उन्होंने 33 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय व्यंजनों में भी महारत हासिल की है, स्टार प्लस और कलर्स टीवी के लिए डॉक्‍टर कविराज खियालानी कई फूड शोज भी कर चुके हैं। शेफ कविराज को उनकी अनोखी पाक कला के लिए कई राष्ट्रीय पुरस्कारों से भी सम्मानित किया जा चुका है । 

आपको यह आर्टिेकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।