• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

क्या आपको इन 4 तरह की राजमा के बारे में पता है?

क्या आपको पता है कि भारत में कितने तरह की राजमा मिलती है? आप जो राजमा खाते हैं आइए उसके अलावा भी दूसरी वैरायटी के बारे में जानें। 
author-profile
Published -20 Jul 2022, 14:44 ISTUpdated -20 Jul 2022, 16:56 IST
Next
Article
different rajma types

राजमा एक ऐसी फली है जो भारत में बहुत ज्यादा पसंद की जाती है। राजमा चावल के तो लोग दीवाने हैं। इसे अंग्रेजी में किडनी बीन्स कहते हैं और इसका यह नाम इसके विशेष आकार से मिलता है। कई लोगों के लिए राजमा चावल एक कंफर्ट फूड है और शायद यही वजह है कि आपको हर राज्य के रेस्तरां और ढाबे में मिलेगा।

ये बीन्स प्रोटीन का भंडार हैं और रेड मीट की जगह आप इन्हें अपनी मील में शामिल कर सकते हैं। क्या आपको पता है कि एक कप राजमा 15 ग्राम प्रोटीन प्रदान करता है।

लेकिन राजमा बनाते वक्त या कहीं और खाते वक्त आपने कभी इसके रंग पर गौर किया है? क्या आप जानते हैं कि राजमा कई तरह के होते हैं? जी हां, कुछ राजमा लाल रंग के होते हैं और बनने के बाद वैसे ही होती है। कुछ राजमा का रंग थोड़ा हल्का होता है और पकने के बाद उनका रंग भी हल्का लाल होता है। अगर आपको न पता हो तो बता दें कि राजमा के लगभग 15 प्रकार होते हैं। चलिए आज आपको 4 तरह की राजमा के बारे में बताएं। 

लाल राजमा

red kidney beans

यह राजमा आपने खूब खाई होगी। बाजारों में यह लाल राजमा ज्यादा मिलती है। लाल राजमा आयरन से भरपूर और बहुत रेशेदार होता है। लाल राजमा असाधारण रूप से थोड़ा हार्ड होता है और पकाए जाने पर भी अपना आकार बनाए रखता है। जब आप राजमा पके हुए लाल राजमा की बनावट सख्त और गाढ़ी होती है। इसे भी बनाने से पहले रात को भिगोना पड़ता है।

इसे भी पढ़ें : बचे हुए राजमा को फेके नहीं बल्कि बनाएं ये स्वादिष्ट रेसिपीज

चित्रा राजमा

chitra kidney beans

इस प्रकार के राजमा का नाम हिंदी शब्द चित्र से लिया गया है। इस फली पर लाल और सफेद रंग की लाइन होती है जो आपको सारी राजमा में दिखेगी, इसलिए इसका नाम चित्रा पड़ा है। यह वैसे सफेद होती है और इसमें लाल लाइन बनी होती है। ये फलियां हिमालय की तलहटी में ज्यादा उगाई जाती हैं और वहीं से भारत के बाकी क्षेत्रों तक पहुंचती है। यह लाल राजमा की तुलना में जलती पक जाती है और इसमें प्रोटीन और विटामिन की मात्रा बहुत अच्छी होती है (राजमा खरीदने के टिप्स)।

जम्मू राजमा

jammu kidney beans

इस राजमा का रंग बहुत लाल गहरा रंग का होता है। यह राजमा कश्मीर में उगाई जाती है इसलिए इसे जम्मू नाम दिया गया है। लाल राजमा और यह काफी एक समान दिखते हैं। साथ ही इनका टेक्सचर काफी ग्लॉसी होता है। कश्मीर की अन्य फेमस चीजों की तरह-केसर, कश्मीरी मिर्च और सेब आदि जैसे ही यहां की राजमा भी काफी लोकप्रिय है। इसका स्वाद पकने के बाद लाल राजमा के समान होता है, लेकिन इसकी अपनी एक अच्छी और फ्लेवरफुल खुशबू होती है।

इसे भी पढ़ें : राजमा भिगोना भूल गई हैं, तो इन 3 तरीकों से बस 3 सीटी में पकाएं

पिंटो बीन्स

pinto beans red kidney beans

इस तरह की फली का इस्तेमाल भारत के बाहर होता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि यह भारत में नहीं मिलती है। इसका रंग भी थोड़ा पिंकिश व्हाइट होता है यह राजमा बाकी राजमा की तुलना में छोटी होती है। राजमा में एक डेंस स्ट्रक्चर होता है और इसका स्वाद थोड़ा मीठा होता है। लेकिन पिंटो बीन्स और पिंटो राजमा का टेक्सचर थोड़ा क्रीमी होता है और अर्थी फ्लेवर होता है। आकार में भिन्नता के कारण, इन बीन्स को पकाने में लगने वाला समय भी अलग होता है। बाकी राजमा को आपको रातभर भिगोकर बनाना पड़ता है, लेकिन यह कुछ कुकर की सीटी में आसानी से पक जाती है (दाल का स्वाद बढ़ाने के टिप्स)।

आपके घर में इनमें से कौन-सी राजमा बनती है और कौन-सी राजमा आपको एक बार टेस्ट करनी है, हमें जरूर बताएं। अगर आपको यह लेख पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें। इसी तरह अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

Image Credit : assamrhino, freepik, amazon, blessthismessplease

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।