टेस्‍टी फूड की बात आती है तो छोले-चावल और राजमा-चावल का ध्‍यान सबसे पहले आता है। बाजार में आपको बहुत सारे ब्रांड्स में छोले और राजमा मिल जाएगा। जहां छोले की अच्‍छी-बुरी पहचान करना थोड़ा आसान है, वहीं राजमा कैसा है और पकने के बाद इसका स्‍वाद कैसा होगा, इसे समझ पाना थोड़ा मुश्किल है। 

दरअसल, राजमा कई वैरायटी के आपको बाजार में मिल जाएंगे और सभी तरह के राजमा का स्‍वाद भी अलग होता है। हालांकि, आप सभी तरह के राजमा का प्रयोग खाने में कर सकते हैं, मगर इनकी सही पहचान करना बहुत जरूरी होता है। 

good quality rajma

राजमा के प्रकार 

राजमा कई प्रकार का आता है, मगर इसके सबसे आम प्रकार के बारे में हम आपको बताते हैं- 

काला राजमा 

काला राजमा छोटे आकार कर होता है। इसे गलने में थोड़ा वक्‍त लगता है और पकने के बाद यह मीठा लगता है। 

लाल राजमा 

इस तरह के राजमा को पकने में बहुत अधिक समय लगाता। अगर आप इसे 2-3 घंटे के पानी में भिगो देती हैं, तो यह 30 से 40 मिनट में पक जाता है, नहीं तो 2 घंटे से भी ज्‍यादा का समय इस गलने में लग जाता है। इसका स्‍वाद अच्‍छा होता है। 

गुलाबी राजमा 

बाजार में आपको गुलाबी रंग का राजमा भी मिल जाएगा। यह छोटे आकार का होता है। इसके पकने में अधिक समय लगता है। अगर आप इसी बिना पानी में भिगोए पका रही हैं तो लगभग 1 घंटा आपको लग जाएगा। 

गहरा लाल राजमा 

सूप और सलाद में इस्‍तेमाल किए जाने वाले राजमा का रंग गहरा लाल होता है। यह बड़े आकार का होता है और इसे पकने में ज्‍यादा वक्‍त नहीं लगता है। खाने में इसका स्‍वाद फीका होता है। 

best quality rajma

राजमा खरीदते वक्‍त इन बातों का भी ध्‍यान रखें 

राजमा के उपर जितने भी प्रकार बताएं गए हैं, इन सभी को खाया जा सकता है। मगर अच्‍छी गुणवत्‍ता वाले राजमा की पहचान करना भी जरूर है। खासतौर पर अगर आप लाल या गहरे लाल रंग राजमा ले रही हैं- 

  • राजमा को पहले हाथ में लेकर देखें कि कहीं उसका रंग तो नहीं निकल रहा है। अगर रंग निकल रहा है, तो ऐसा राजमा कभी  भी न खरीदें। 
  • बाजार से साफ राजमा खरीदें। हालांकि, राजमा में मिलावट का स्‍कोप बहुत कम होता है मगर कई बार मिलावट करने वाले लोग इसमें गहरे रंग के बड़े पत्‍थर डाल देते हैं, जिससे राजमा को तौलते वक्‍त वजन अधिक लगे। 
  • राजमा चमकदार होना चाहिए, सूखा और डल दिखने वाला राजमा कई दिनों का हो सकता है। कई बार हवा लगने के कारण भी राजमा खराब हो जाता है। इसलिए पैकेट में बंद राजमा खरीदना ही सही निर्णय होता है। 

यह जानकारी आपको अच्‍छी लगी हो, तो आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें। इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।