• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

साबरमती नदी के उद्गम स्थल और इससे जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में जानें

भारत की प्रमुख नदियों में से एक साबरमती से जुड़ी कुछ ख़ास बातों के बारे में आपको भी ज़रूर जनाना चाहिए।
author-profile
Published -28 Jul 2022, 16:02 ISTUpdated -28 Jul 2022, 16:46 IST
Next
Article
sabarmati river origin and history

भारत में बहने वाली प्रमुख नदियों की कहानी सिर्फ किसी एक जिले, शहर या राज्य में नहीं बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध हैं। जिस तरह से भारत में गंगा, यमुना, नर्मदा, कावेरी, कृष्णा और गोदावरी नदियां फेमस हैं ठीक उसी तरह गुजरात में बहने वाली प्रमुख नदी साबरमती भी फेमस है। लेकिन कई लोग इस नदी का  सिर्फ नाम ही जानते हैं। यह बहुत लोग ही जानते हैं कि साबरमती नदी कहां से निकलती है? किसी-किस राज्य में बहती है? साबरमती की सहायक नदी कौन-कौन ही है? ऐसे में इस लेख में हम आपको साबरमती नदी उद्गम स्थल और इससे जुड़े रोचक कुछ तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं।

साबरमती नदी का उद्गम स्थल    

sabarmati river

साबरमती नदी भारत की एक प्राचीन नदी है। इस नदी के उद्गम स्थल के बारे में कहा जाता है कि यह उदयपुर जिले के अरावली पर्वतमाला से निकलती है और फिर राजस्थान होते हुए गुजरात पहुंचती है। गुजरात के दक्षिण-पश्चिम की ओर बहते हुए सफ़र तय करती है और अंत में अरब सागर की खंभात की खाड़ी में जाकर मिल जाती है। आपको बता दें कि गुजरात की यह प्रमुख नदी है जिसे सिंचाई और बिजली उत्पादन में इस्तेमाल किया जाता है।

इसे भी पढ़ें: रेड रिवर नाम से मशहूर इस नदी का क्या है रहस्य, आप भी जानें

साबरमती नदी की सहायक नदी कौन सी है?

sabarmati river history

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि साबरमती नदी को प्राचीन काल में वाकल नदी के नाम से जाना जाता था। आज भी इसे कई लोग वाकल नदी के नाम से ही जानते हैं। इसे भोगवा नाम से भी जाना जाता है। अगर बात करें साबरमती नदी की सहायक नदी कौन ही है तो आपको बता दें कि हरवन नदी, हथमती नदी, वटराक नदी और मधुमती नदी हैं। अगर बात करें साबरमती की लम्बाई लगभग 371 किलोमीटर है। (महानंदा नदी)  

साबरमती नदी की पौराणिक कथा और रोचक तथ्य

know about sabarmati river origin and history

साबरमती नदी का पौराणिक कथा बेहद ही दिलचस्प है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान शिव ने एक बार देवी गंगा नदी को गुजरात लेकर आए थे और इससे ही साबरमती नदी का जन्म हुआ। 

एक अन्य कहानी है कि उस समय के सुल्तान अहमद शाह साबरमती तट पर आराम कर रहे थे और तभी उन्होंने देखा कि एक खरगोश को कुत्ता पीछा कर रहा है। खरगोश के इस साहस को देखकर उन्होंने अहमदाबाद की स्थापना करी थी। आपको बता दें कि महात्मा गांधी ने इसी नदी के तट पर साबरमती आश्रम की स्थापना कर उसे अपने घर के रूप में प्रयोग किया था। (कोसी नदी)

इसे भी पढ़ें: स्पीति वैली हुई पुरानी, अब यह वैली बनी सैलानियों की पहली पसंद


साबरमती नदी पर कौन सा बांध है? 

साबरमती नदी कई बांध के लिए भी जानी जाती है। कहा जाता है कि साबरमती और उसकी सहायक नदियों पर कई बांध हैं। जैसे- धरोई बांध, हाथमती बांध, हरनव बांध, गुहाई बांध और मेशवो जलाशय। आपको बता दें कि साबरमती रिवर में आप साबरमती रिवरफ्रंट का लुत्फ़ उठा सकते हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे लाइक, शेयर और कमेंट्स ज़रूर करें। इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@sutterstocks,wikimedia.org)

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।