Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    बाणगंगा नदी के उद्गम स्थान और इससे जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में जानें

    भारत की प्रसिद्ध नदियों में शामिल बाणगंगा नदी के बारे में जानना चाहते हैं तो फिर आपको इस लेख को ज़रूर पढ़ना चाहिए।  
    author-profile
    Updated at - 2022-11-30,19:26 IST
    Next
    Article
    banganga river origin and history

    Banganga River History: भारत का इतिहास जब भी पढ़ा जाता है तो भारत की नदियों का जिक्र ज़रूर होता है। जैसे-सिंधु नदी और प्राचीन भारत का इतिहास समान्तर रूप से पढ़ा जाता है। भारत में ऐसी कई नदियां हैं जिनकी पूजा-पाठ समय-समय पर होती रहती है। कई राज्यों में तो भारत की नदियां जीवनदायी के रूप मानी जाती हैं।

    इन्हीं प्रमुख नदियों में से एक नदी है बाणगंगा। भारत की प्राचीन नदी में शामिल बाणगंगा कुछ राज्यों के लिए जीवनदायी भी है। इस लेख में हम आपको बाणगंगा के उद्गम स्थल के साथ-साथ कुछ रोचक जानकारी भी बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आप भी ज़रूर जानना चाहेंगे। आइए जानते हैं।          

    बाणगंगा नदी का उद्गम स्थल (Banganga River Origin)

    origin and history banganga river

    बाणगंगा नदी के उद्गम स्थल के बारे में जिक्र करें तो यह मालूम चलता है कि इसका उद्गम स्थल जयपुर की बैराठ की पहाड़ियों से होता है। यह नदी राजस्थान के तीन प्रमुख शहर जयपुर, भरतपुर और दौसा में बहती है। राजस्थान के साथ-साथ यह नदी उत्तर प्रदेश में भी बहती है। अगर बात करें इस नदी की लम्बाई के बारे में तो यह लगभग 380 किमी लंबी है।

    इसे भी पढ़ें: क्या आप जानती हैं पौराणिक कथाओं के अनुसार गंगा नदी के उद्गम की कहानी

    बाणगंगा नदी की पौराणिक कथा (Banganga River Methodology)   

    banganga river origin

    गंगा, यमुना, कावेरी या ब्रह्मपुत्र नदी की तरह बाणगंगा नदी की पौराणिक कथा भी बेहद दिलचस्प है। जी हां, कहा जाता है कि महाभारत के अनुसार अज्ञातवास के समय बैराठ में समय बिताया था। इस दौरान पांडवों ने अपने दिव्य शस्त्र बैराठ के जंगल में ही छिपाया था।

    एक अन्य कहानी है कि वनवास पूरा होने के बाद अर्जुन ने शुद्ध होने के लिए गंगा मैया का आह्वाहन किया और अंत में तीर चलाया तब गंगा नदी प्रकट हुई और इसी कारण इस नदी नाम बाणगंगा पड़ा। आपको बता दें कि हर साल नदी के किनारे बाणगंगा मेला भी आयोजित किया जाता है। इस नदी को कई लोग 'अर्जुन की नदी' के नाम से जानते हैं। (महानंदा नदी के बारे में जानें

    Recommended Video

    बाणगंगा नदी की सहायक नदियां 

    बाणगंगा नदी की सहायक नदियों के बारे में जिक्र करें तो यह मालूम चलता है कि गुमटी नाला, सूरी नदी, पालसन नदी और संवान नदी इसकी सहायक नदी हैं। बाणगंगा नदी बहती हुई उत्तर प्रदेश के आगरा के समीप यमुना में मिल जाती है। यह नदी केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में भी बहती है।

    इसे भी पढ़ें: साबरमती नदी के उद्गम स्थल और इससे जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में जानें 


    बाणगंगा नदी की विशेषता 

    know about banganga river origin and history

    आपको बता दें कि यह नदी सिर्फ नदी नहीं बल्कि राजस्थान के लिए जीवनदायी नदी भी है। इस प्रमुख नदी पर जयपुर का फेमस बांध जमवा रामगढ़ बांध का भी निर्माण किया गया है। इस नदी द्वारा केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान को पानी उपलब्ध किया जाता है। (भारत की 10 सबसे बड़ी और पवित्र नदियां)  

    कहा जाता है कि लगभग 1527 का प्रसिद्ध युद्ध खानवा का युद्ध इसी नदी के किनारे लड़ा गया था। आपको बता दें कि खानवा का युद्ध बाबर और बाबर एवं मेवाड़ के राणा सांगा के मध्य लड़ा गया। 

    अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। लेख के अंत में कमेंट सेक्शन में आप भी ज़रूर कमेंट करें।

    Image Credit:(@wikimedia,natureconservancy)

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।