भारत विविधता वाला देश है और विभिन्न संस्कृतियां इसकी खूबसूरती को बखूबी बयान करती हैं। इस देश के हर कोने में कई प्राकृतिक जगहें हैं जिन्हें घूमा जा सकता है। साथ ही, कुछ जगहें भारत की सीमाओं के आसपास भी बसी हुई हैं, जहां से आप दूसरे देश की सीमाओं को भी देखने का लुफ्त उठा सकते हैं। इसके अलावा, बॉर्डर पर बसी जगहें प्राकृतिक सौंदर्य, शांत वातावरण और पर्यावरण के हिसाब से बेस्ट ऑप्शन्स हैं, जो पर्यटक प्राकृतिक सौंदर्य से प्रेम करते हैं, वह इन जगहों की सैर कर सकते हैं। तो चलिए, आज हम आपको भारत के ऐसे ही कुछ खूबसूरत और खास बॉर्डर के बारे में बताते हैं…  

तुरतुक, लद्दाख

Turtuk

लद्दाख दुनिया के सबसे विस्मयकारी स्थलों में से एक है। यह अपनी खड़ी घाटियों, प्राकृतिक परिदृश्यों, खूबसूरत घाटियों के लिए प्रसिद्ध है। साथ ही, लद्दाख पर्यटकों को आश्चर्यचकित करना कभी बंद नहीं करता है। दिलचस्प बात यह है कि लद्दाख में एक ऐसी जगह भी मौजूद है, जो पाकिस्तानी सीमा के शुरू होने से पहले खत्म होती है यानि बॉर्डर पर बसा भारत का आखिरी गांव, जिसका नाम तुरतुक है। यह गिलगित-बाल्टिस्तान सीमा पर स्थित, एक छोटा- सा गांव है, जो सन 1971 में हुए युद्ध के बाद भारत का हिस्सा बन गया था। तो आप यहां के चारों ओर फैले हुए प्राकृतिक सौंदर्य का लुत्फ उठा सकते हैं। इसके अलावा, आप इस जगह पर टहल सकते हैं और स्थानीय लोगों के साथ चाय पीते हुए सीमा के दूसरी तरफ के बारे में कुछ दिलचस्प किस्से सुनने का भी लुफ्त उठा सकते हैं।

धनुषकोडी, तमिलनाडु

Dhanushkodi

श्रीलंका की सीमा शुरू होने से पहले बॉर्डर पर बसा यह आखिरी शहर है, जिसे भारत का अंतिम छोर भी कहा जाता है। धनुषकोडी भारत के तमिलनाडु के पूर्वी तट पर रामेश्वरम द्वीप के किनारे पर स्थित है। साथ ही, यह शहर एक तरफ से हिंद महासागर और दूसरी तरफ बंगाल की खाड़ी से घिरा हुआ है, जहां से श्रीलंका आसानी से दिखाई देता है। आपको बता दें कि दोनों देशों के बीच एक ऐसी सीमा है, जो पाक जलसंधि में बसे बालू के टीले पर मौजूद है। ऐसा कहा जाता है कि धनुषकोडी लंबाई केवल 50 गज है। इसलिए यह विश्व के सबसे छोटे स्थानों में आता है। यहां पर्यटक दूर-दूर से घूमने आते हैं, आप भी इस खूबसूरत जगह की सैर कर सकते हैं। 

अलीपुर द्वार, पश्चिम बंगाल

Alipurduar

हिमालय की तलहटी में स्थित अलीपुरद्वार भूटान का प्रवेश द्वार है, जो वन्य जीवन, जंगल, लकड़ी और प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। हिमालय की तलहटी में कालजनी नदी के पूर्वी तट पर स्थित यह शहर भूटान और भारत के पूर्वोत्तर राज्यों का प्रवेश द्वार माना जाता है। आपको यहां का शांत वातावरण बहुत पसंद आएगा। यहां से आप सीमा भी पार कर सकते हैं क्योंकि भूटान के सीमावर्ती शहर फुएंत्शोलिंग जाने के लिए आपको किसी परमिट की आवश्यकता नहीं होगी लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि भूटान में आगे यात्रा करने के लिए आपके पास एक वैध भारतीय आईडी प्रमाण होना आवश्यक है। यही वजह है कि यहां पर्यटकों का आना-जाना भी खूब लगा रहता है। 

इसे ज़रूर पढ़ें-मध्य प्रदेश के इन बेहतरीन हिल स्टेशनों के आगे हिमाचल और उत्तराखंड भी है फीका

मोरेह, मणिपुर

Moreh

मोरेह, मणिपुर का एक महत्वपूर्ण व्यापार मार्ग के रूप में जाना जाता है। साथ ही, यह भारत का एक वाणिज्यिक केंद्र भी है। यह भारत-म्यांमार सीमा पर बसी एक ऐसी खूबसूरत जगह है, जहां पर्यटकों को कम से कम एक बार अवश्य जाना चाहिए। इस जगह कि खासियत यह है कि यह जगह बहुत खूबसूरत है। इसलिए यहां की सड़के भारी हुई रहती हैं क्योंकि यहां कई दुकानें हैं, जहां पर सस्ते दामों पर लगभग सबकुछ मिलता है। अगर आप शॉपिंग के शौकीन हैं, तो यह जगह आपके लिए एकदम परफेक्ट है। 

Recommended Video

चितकुल, हिमाचल प्रदेश

Chitkul

यह तिब्बत सीमा के किनारे पर बसा हुआ भारत का आखिरी गांव है, जो पुराने तिब्बत व्यापार मार्ग के साथ किन्नौर, हिमाचल प्रदेश में स्थित है। यह गांव सेब के बागों, बर्फ से ढके पहाड़ों और बहती बसपा नदी आदि से घिरा हुआ एक हिल स्टेशन है। जहां पर्यटकों के लिए देखने और करने के लिए बहुत कुछ है। आप जब भी हिमाचल प्रदेश जाने का प्लान बनाएं, तो एक बार चितकुल जरूर जाएं। 

इसे ज़रूर पढ़ें-मनाली की भीड़-भाड़ से दूर इन बेहतरीन जगहों पर घूमने का है एक अलग ही मज़ा

इन जगहों पर आपको लुफ्त उठाने के साथ-साथ दूसरे देश के बॉर्डर के बारे में जानने या सुनने का भी मौका मिलेगा। लेख पसंद आया हो, तो इसे शेयर और लाइक ज़रूर करें, साथ ही ऐसी अन्य जानकारी पाने के लिए जुड़े रहें हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik And Google Suggest