शादी, पार्टी, दोस्तों के संग बाहर जाना इन सबके लिए आप जितने खूबसूरत कपड़े चुनती हैं, उतनी ही खूबसूरती से अपने बालों को भी स्टाइल करती हैं। बालों से आपकी पर्सनैलिटी में एक निखार आता है। अपने बालों को खूबसूरत बनाने के लिए महिलाएं बहुत कुछ करती हैं। कई नए तरीकों से उनकी स्टाइलिंग करती हैं। बालों को स्टाइल करने के कुछ तरीके काफी समय से चलते आ रहे हैं और आज भी चलन में हैं। इन्हीं में से एक है हेयर रिबॉन्डिंग। इससे बाल जितने सुंदर दिखते हैं, उतना ही नुकसान यह बालों को पहुंचाता है। हेयर रीबॉन्डिंग के फायदे और नुकसान के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। तो चलिए आइए जानें हेयर रिबॉन्डिंग के बारे में विस्तार से।

क्या है हेयर रिबॉन्डिंग

what is hair rebonding

हेयर रीबॉन्डिंग एक केमिकल स्ट्रेटनिंग ट्रीटमेंट है जो आपके बालों की मूल संरचना को बदलकर आपको स्मूथ और स्ट्रेट बाल देता है। हीट और रसायनों का उपयोग करते हुए आपके बालों के शाफ्ट के बॉन्ड्स टूटते हैं और बालों को सीधा और स्मूथ बनाते हैं, इसलिए इसे रीबॉन्डिंग कहा जाता है। इसे हेयर स्ट्रेटनिंग ट्रीटमेंट के नाम से भी जाना जाता है।

किन टूल्स की मदद से होती है रिबॉन्डिंग

tools for hair rebonding

हेयर रिबॉन्डिंग के कई स्टेप्स होते हैं। हर स्टेप के लिए अलग-अलग टूल्स का इस्तेमाल किया जाता है। आपके बालों को स्ट्रेट करने के लिए फ्लैट आयरनिंग की जाती है। बालों को रिलैक्सिंग इफेक्ट दिया जाता है, जिससे बॉन्ड टूटते हैं आर आपके बालों को टेक्सचर और शेप देते हैं। इस प्रक्रिया के अंतिम चरण में न्यूट्रलाइज़र शामिल होता है, जो आपके बालों को कंडीशन और स्टाइल करने में मदद करता है।

हेयर रिबॉन्डिंग के फायदे

benefits of hair rebonding

इतना समय देने के बाद आपको मन चाहा रिजल्ट न मिले यह तो गलत है। हेयर रिबॉन्डिंग आपके बालों को सुंदर और मैनेजबल बनाता है। फ्रिजी बालों की समस्या दूर करके आपको सिल्की-स्मूथ बाल मिलते हैं। इसके कई अन्य फायदे हैं जो इस तरह हैं-

लंबे समय तक की छुट्टी

हेयर रिबॉन्डिंग एक सेमी पर्मानेंट उपाय है। जो 8 से 12 महीने तक चल सकता है, लेकिन यह निर्भर करता है आप किस तरह बालों की देखभाल कर रही हैं। हालांकि जैसे-जैसे नए बालों की ग्रोथ होती है, तो आपको टेक्सचर बनाए रखने के लिए बीच-बीच में टच अप की जरूरत पड़ सकती है। बालों की ग्रोथ के हिसाब से आप 3-6 महीने में टच अप करवा सकती हैं।

इसे भी पढ़ें :Expert Tips : हीटिंग प्रोडक्‍ट्स से जल चुके बालों को राहत पहुंचाएंगे ये घरेलू नुस्‍खे

बाल उलझते नहीं

आप अच्छी तरह बाल बनाकर बाहर निकलें और बाहर की तेज हवा आपके बालों की ऐसी-तैसी कर देती है। आपकी इस समस्या को रिबॉन्डिंग ठीक कर देती है। इससे आपके बाल उलझते नहीं हैं। बाल सुलझाने में आपको बहुत ज्यादा जद्दोजहद नहीं करनी पड़ती है। कंघी का एक स्ट्रोक आपके बालों को परफेक्ट बना देता है।

हेयर रिबॉन्डिंग के नुकसान

side effects of hair rebonding

कहते हैं कि हर अच्छी चीज के साथ बुरा भी आता है। इसी तरह हेयर रिबॉन्डिंग की प्रक्रिया आपके बालों को खूबसूरत और मैनेजबल तो बना देती है, लेकिन इसके साथ नुकसान भी पहुंचता है। हेयर रिबॉडिंग के क्या नुकसान हैं आइए ये भी जानें।

बाल हो सकते हैं डैमेज

रिबॉन्डिंग के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले केमिकल से बालों को नुकसान पहुंच सकता है। इस प्रक्रिया में इस्तेमाल होने वाले केमिकल आपके स्कैल्प में जलन पैदा कर सकते हैं। अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है, तो प्रक्रिया को आगे बढ़ाने से पहले अपने स्टाइलिस्ट से बात करें।

इसे भी पढ़ें :Gharelu Nuskha: केवल 7 स्टेप्स में ‘मिल्क हेयर मास्क’ से करें बालों की स्ट्रेटनिंग

बालों का जलना

hair damage of hair rebonding

चूंकि इस प्रोसेस में बालों को स्ट्रेट करने के लिए फ्लैट आयरन का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे बालों में ट्रीटमेंट सील हो पाता है। मगर ज्यादा आयरनिंग से आपके बालों के जलने का खतरा रहता है। इससे आपको बालों की झड़ने जैसी समस्या भी उत्पन्न हो सकती है। स्टाइलिंग टूल्स बालों को जितना खूबसूरत दिखाते हैं, उतना ही अंदर से उन्हें कमजोर करते हैं।

Recommended Video

हाई मेनटेनेंस

सबसे बड़ी प्रोब्लम है कि यह हाई मेनटेनेंस है। क्यूंकि इसमें कई स्टेप्स फॉलो करने होते हैं तो ब्यूटी सैलून उस हिसाब से ज्यादा चार्ज करते हैं। आपको हर तीसरे महीने या बालों के मुताबिक आपको ट्रीटमेंट लेना होता है। हेयर रिबॉन्डिंग के बाद खास तरह के ही शैंपू और कंडीशनर का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है, ताकि आपके बालों में ड्राईनेस न हो। 

हेयर रिबॉन्डिंग सीधे, सिल्की, स्मूथ बाल पाने का अच्छा तरीका है, लेकिन इन्हें करवाने से पहले सभी चीजों पर ध्यान दें और ऐसी अन्य स्टोरीज के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी के साथ।

 

Image Credit: freepik images