कई लोगों की स्किन नेचुरली बहुत ही ज्यादा खूबसूरत होती है और इस खूबसूरत स्किन को हमेशा ऐसे ही रखने के लिए हमें बहुत कुछ करना चाहिए। अक्सर देखा गया है कि लोग अपनी स्किन को सिर्फ ब्यूटी रूटीन से जोड़कर देखते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि स्किन के लिए लाइफस्टाइल हैबिट्स भी बहुत जरूरी होती हैं। जी हां, आपकी कुछ गलत आदतें आपकी स्किन को पूरी तरह से खराब कर सकती हैं और साथ ही साथ स्किन को जल्दी बूढ़ा भी दिखा सकती हैं। 

अगर आपकी स्किन बहुत ज्यादा अच्छी है तो उसे जवां बनाए रखने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है। तो चलिए आज हम आपको 6 ऐसे ही हैक्स के बारे में बताते हैं जो स्किन को यंगर लुक देने के लिए मददगार साबित होंगे। 

1. सौम्य फेस वॉश-

टिप-  ध्यान रखें कि फेस वॉश चुनते समय ऐसा प्रोडक्ट चुनने की कोशिश करें जिसमें ग्लिसरीन मौजूद हो।

हो सकता है और बहुत मेकअप करती हों या फिर आपको स्किन पर तरह-तरह के प्रोडक्ट्स ट्राई करने का शौक होगा, लेकिन ये सभी चीज़ें आपकी स्किन को बहुत ज्यादा परेशान कर सकती हैं। स्किन की एजिंग को धीमा करने के लिए एक सौम्य फेस वॉश जरूरी है जो स्किन में से ऑयल, गंदगी, धूल आदि को निकाल दे और ब्लैकहेड्स बनने न दे। साथ ही, मेकअप के कणों को भी हटा दे और स्किन को साफ और सौम्य बनाए रखे। अगर आपकी स्किन ऑयली है तो क्रीमी फेस वॉश और अगर ड्राई है तो जैल वाला फेस वॉश काफी जरूरी होगा। 

skin care and uvb

इसे जरूर पढ़ें- Herbal Hair Shampoo: सिर्फ 4 चीज़ें मिलाकर घर में बनाएं नेचुरल शैम्पू, काले, घने और शाइनी होंगे बाल

2. सनस्क्रीन को कभी न कहें ना-

टिप- ऐसी सनस्क्रीन चुनने की कोशिश करें जिसमें विटामिन E भी मौजूद हो। ये स्किन को ज्यादा बेहतर तरीके से ट्रीट कर सकती है। 

हो सकता है आपने सनस्क्रीन के इस्तेमाल को लेकर कई बार पढ़ा हो, लेकिन ये बहुत जरूरी है कि आप घर पर भी सनस्क्रीन लगाकर रखें और साथ ही साथ यूवीए और यूवीबी रेज से आप बचें। रिंकल्स, फाइन लाइन्स, डार्क स्पॉट्स आदि उम्र के लक्षण धूप की किरणों से हो सकते हैं। जितना ज्यादा एसपीएफ होगा उतना अच्छा, लेकिन अगर आप कम धूप वाली जगहों पर रहते हैं तो 20-30 SPF काफी होगा उससे ऊपर न जाएं। हां, अगर आप ह्यूमिड क्लाइमेट और धूप वाले इलाकों में रहते हैं तो ज्यादा SPF बेहतर होगा। 

आप अपने स्किन टाइप के हिसाब से सनस्क्रीन चुन सकती हैं जैसे अल्ट्रा मैट ड्राई, जैल फॉर्म, वेलवेटी आदि बहुत सारी वेराइटी उपलब्ध होती हैं। 

skin care for anti ageing

3. रेटिनॉल हो सकता है फायदेमंद-

टिप- रेटिनॉल वाली नाइट क्रीम ज्यादा असरदार साबित हो सकती है, लेकिन अगर आपको एक्ने हों तो एक बार डॉक्टर से सलाह ले लें।  

आपने आजकल कई प्रोडक्ट्स में रेटिनॉल का नाम सुना होगा। रेटिनॉल को स्किन में इस्तेमाल करने के कई सारे फायदे हो सकते हैं। रेटिनॉल या विटामिन A स्किन रिजनरेशन के लिए फायदेमंद हो सकता है। रिंकल्स और फाइन लाइन्स के लिए तो ये बहुत ही जरूरी इंग्रीडियंट साबित हो सकता है। रेटिनॉइड पाउडर भी आजकल मार्केट में उपलब्ध है। आपको ये डिजाइड करना होगा कि रेटिनॉल वाले कौन से प्रोडक्ट का इस्तेमाल आप करेंगे।  

4. खाना और पानी 

टिप- हाइड्रेशन के लिए सारे पानी की जगह इन्फ्यूज्ड वाटर पीने की कोशिश करें। ये स्किन डिफेंस के लिए ज्यादा अच्छा है।  

डिहाइड्रेशन स्किन डैमेज के सबसे बड़े कारण में से एक साबित हो सकता है और इसी के साथ, अगर आप 8 ग्लास से कम पानी रोज़ाना पीते हैं तो ये स्किन के फटने का कारण भी हो सकता है। साथ ही साथ, स्किन डिटॉक्स के लिए हेल्दी डाइट भी जरूरी है जिसमें ज्यादा हरी सब्जियां और फल हों, साथ ही फ्रेश जूस हों। आप कम अलकोहल पिएं जिससे स्किन में डिहाइड्रेशन कम हो। आप आर्टिफीशियल शक्कर से भी दूर रहें और शहद, गुड़ आदि का इस्तेमाल ज्यादा बेहतर होगा। कैफीन से दूर रहने की जरूरत है जो स्किन को जल्दी एज करती है।  

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें- गर्मियों में हो रही है डल स्किन तो सिर्फ 5 मिनट में ताजगी लाने के अपनाएं ये 5 हैक्स 

5. नाइट क्रीम और नाइट स्लीप 

टिप- आप अपनी स्किन के लिए हाइड्रेटिंग लेकिन लाइट नाइट क्रीम चुनें जो स्किन पर ज्यादा ऑयल न लाए।  

जिस तरह स्किन को ठीक रखने के लिए नींद जरूरी है उसी तरह से आपके लिए नाइट क्रीम भी बहुत जरूरी है। नाइट क्रीम स्किन को रिपेयर करने में मदद कर सकती है और ये बहुत ही अच्छी आदत हो सकती है। अगर आपकी स्किन यूवीए और यूवीबी रेज से सनस्क्रीन के जरिए बचती है तो नाइट क्रीम आपको फोन और लैपटॉप की ब्लू लाइट से बचाती है। 8 घंटे की नींद में नाइट क्रीम आपकी स्किन को ठीक से रिपेयर कर सकती है।  

6. एक्सरसाइज करना भी है जरूरी 

टिप- आप हफ्ते में 3-4 दिन भी वर्क आउट कर सकते हैं, लेकिन वो हाई इंटेंसिटी वर्क आउट होना चाहिए।  

ये वो टिप है जिसे अधिकतर लोग नजरअंदाज़ कर देते हैं। स्किन के एजिंग प्रोसेस को रिवर्स करने के लिए शरीर का ब्लड सर्कुलेशन ठीक होना जरूरी है। स्किन हमारे शरीर का सबसे बड़ा डिटॉक्सिफिकेशन एजेंट भी होती है और जितना ज्यादा पसीना आता है उतने ज्यादा टॉक्सिन्स स्किन से निकलते हैं। इससे ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक होता है और स्किन प्लम्प और ग्लोइंग बनती है।  

ये सारी टिप्स आपके लिए हेल्दी स्किन केयर रूटीन बनाने में मदद करेंगी। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।