सूर्य की अल्‍ट्रावयालेट किरणों से त्‍वचा को जब बचाने की बात आती है, तो सबसे पहले सनस्‍क्रीन का ख्‍याल आता है। यह बात लगभग हर कोई जानता है कि सनस्‍क्रीन को सनब्‍लॉक क्रीम कहा जाता है और यह सूर्य की यूवी रेज से त्‍वचा को बचाना का कार्य करती है। इसके बावजूद लोगों को यह जानकारी कम है कि सनस्‍क्रीन को किस तरह त्‍वचा पर एप्‍लाई करना चाहिए। लोग इसे गलत तरीके से त्‍वचा पर लगाते हैं और जब इसके फायदे नजर नहीं आते तो वह सनस्‍क्रीन को यूजलेस समझने लगते हैं। मगर, दिल्‍ली स्थित एशियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ मैडिकल साइंस एंड टेक्‍नोलॉजी के सीनियर कंसलटेंट, एचओडी एंव सीनियर डर्मेटोलॉजिस्ट डॉक्‍टर अमित बांगिया की माने तो, ‘सनस्‍क्रीन त्‍वचा को सूर्य की अल्‍ट्रावायलेट किरणों से 60 से 70 प्रतिशत ही बचा पाती है। अगर आप सनस्‍क्रीन का इस्‍तेमाल कर रही हैं तो आपको उसके साथ त्‍वचा को कवर करके रखना चाहिए। इससे आपकी त्‍वचा पूर्ण रूप से सुरक्षित हो जाती है।’ डॉक्‍टर अमित बांगिया ने यहीं नहीं बल्कि सनस्‍क्रीन को त्‍वचा पर सही तरह लगने के कई तरीके भी बताए हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: Skin Cancer से बचना हैं तो आज से लें ये 5 आयुर्वेदिक herbs

Expert tips on sunscreen

एसपीएफ को समझें 

एसपीएफ एक माप है, जो अल्‍ट्रावायलेट किरणों से त्‍वचा को बचाने वाली सनस्‍क्रीन की सुरक्षा क्षमता को मापता है। लेकिन एसपीएफ का मतलब यह नहीं होता कि सनस्‍क्रीन अपकी त्‍वचा पर कितना बेहतर काम करेगी। डॉक्‍टर अमित बांगिया कहते हैं, ‘जिस व्‍यक्ति की त्‍वचा जितनी फेयर होती है उसे उतने ही ज्‍यादा एसपीएफ की सनस्‍क्रीन लगानी चाहिए। भारतीयों की त्‍वचा पर 15 से 30 एसपीएफ तक की सनस्‍क्रीन लगना सही रहता है।’

कैसे चुने अच्‍छी सनस्‍क्रीन 

एसपीएफ के अलावा बहुत जरूरी है कि जब आप सनस्‍क्रीन खरीद रही हों तो कुछ बातों का बेहद ध्‍यान रखें। डॉक्‍टर अमित बांगिया कहते हैं,

‘यूवीबी और यूवीए दोनो तरह की किरणों से बचाने की क्षमता होनी चाहिए। इसके साथ ही सनस्‍क्रीन में कैमिकल ब्‍लॉर्क्‍स भी होने चाहिए।’

आपको बता दें कि अगर आप सोचती हैं कि एसपीएफ 30 वाला सनस्क्रीन एसपीएफ 15 वाले सनस्क्रीन से दोगुना अच्छा है तो यह सही नहीं है. एसपीएफ 15-93% यूवीबी को फिल्टर करता है तो एसपीफ 30 इस से थोड़ा सा अधिक यानी 97% यूवीबी को फिल्टर करता है. इंडियन स्किन पर कम से कम 30 एसपीएफ वाली सनस्‍क्रीन लगानी चाहिए। अगर आपकी त्‍वचा का रंग बहुत ज्‍यादा फेयर है तो आपको 50 एसपीएफ तक की क्रीम लगानी चाहिए। हमेशा अच्‍छे ब्रांड की सनस्‍क्रीन का इस्‍तेमाल करें और ध्‍यान रखें कि आपकी सनस्‍क्रीन वाटरप्रूफ और स्‍वेटप्रूफ हो। आप अच्‍छी और सस्‍ती सनस्‍क्रीन ऑनलाइन यहां मात्र 149 रुपए की यहां से खरीद सकती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: आपकी skin के लिए कौन सा sunscreen है बेस्ट, ऐस करें स्लेक्ट

Right Way To Apply Sunscreen

कैसे और कितनी मात्रा में सनस्‍क्रीन लगाएं 

अमूमन लोग दिन में 1 बार सनस्‍क्रीन लगा कर सोचते हैं कि वह सन की अल्‍ट्रावायलेट किरणों से खुद को बचा लेंगे। मगर, ऐसा नहीं है। सूर्य की अल्‍ट्रावायलेट किरणों से खुद को बचाने के लिए सन एक्‍सपोजर के ठीक 30 मिनट पहले सनस्‍क्रीन लगानी चाहिए। डॉक्‍टर अमित बांगिया कहते हैं, 

‘अगर आप घर से बाहर निकलने से 30 मिनट पहले सनस्‍क्रीन लगात हैं तो आपकी त्‍वचा पर यह अच्‍छे एब्‍जॉर्ब हो जाती है। इसके अलावा कोई भी सनस्‍क्रीन केवल 4 घंटे ही त्‍वचा पर असर रखती है। इसके बाद आपको चेहरे को वॉश करके दोबारा से सनस्‍क्रीन लगानी चाहिए। अगर आप घर में हैं तो भी आपको ऐसा करना चाहिए।  इसके अलावा आपको सनस्‍क्रीन लगाने के साथ ही हैट या कैप का इस्‍तेमाल करना चाहिए। सनस्‍क्रीन को चेहरे के साइज के अनुसार 1 फिंगर यूनिट या 2 फिंगर यूनिट लगाना चहिए।’

सनस्‍क्रीन लगाने के साथ-साथ त्‍वचा को हाइड्रेटेड रखने के लिए ढेर सारा पानी पीएं। इसके अलावा चेहरे को कवर करके रखें। अगर आपकी त्‍वचा सेंसेटिव है तो बिना डर्मेटोलॉजिस्ट की सलाह लिए सनस्‍क्रीन का प्रयोग त्‍वचा पर न करें।