• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

बेबी को सॉलिड फूड देना किया है शुरू तो एक्सपर्ट द्वारा बताए गए ये टिप्स अपनाएं

अगर आपका बच्चा छह माह का हो गया है तो आप उसे सॉलिड फूड देते समय एक्सपर्ट द्वारा बताए गए ये टिप्स अपना सकती हैं।
author-profile
  • Mitali Jain
  • Editorial
Published -17 Apr 2022, 16:00 ISTUpdated -17 Apr 2022, 16:06 IST
Next
Article
tips to start solid foods to baby diet by expert

जब एक बेबी पैदा होता है, तो उसे केवल ब्रेस्टफीड ही करवाया जाता है। लेकिन जैसे-जैसे बच्चा बड़ा होता है, उसकी जरूरतें बढ़ती हैं। आमतौर पर, जब बच्चा छह माह का हो जाता है, तो उसे सॉलिड फूड देना शुरू कर देना चाहिए। हालांकि, यह स्टेज बच्चे के लिए एकदम नई होती है और इसलिए बच्चे को सॉलिड फूड देते समय आवश्यक सावधानी बरतनी बेहद जरूरी होती है। यह देखने में आता है कि पैरेंट्स जब बच्चे को नए सॉलिड फूड से रूबरू करवाते हैं, तो वह उस दौरान कई छोटी-छोटी गलतियां कर बैठते हैं, जिससे बच्चे को समस्या होती है। 

baby diet expert tips

इतना ही नहीं, कभी-कभी पैरेंट्स का अति उत्साह भी बच्चे के लिए परेशानी का सबब बन जाता है। ऐेसे में अगर आप भी बच्चे को सॉलिड फूड दे रही हैं तो आपको कई छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देना चाहिए। तो चलिए आज इस लेख में दिल्ली के सरोज अस्पताल के सीनियर कंसल्टेंट पीडियाट्रिशियन डॉ. के के गुप्ता आपको बता रहे हैं कि आपको बेबी को सॉलिड फूड देते समय किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए-

ना करें जल्दबाजी

start solid foods to baby diet by expert

यह देखने में आता है कि जब पैरेंट्स बेबी को सॉलिड फूड देना शुरू करते हैं, तो वह बहुत अधिक जल्दबाजी करते हैं। वह दिन में कई बार बच्चे को सॉलिड फूड देते हैं। लेकिन आपको ऐसा नहीं करना चाहिए। शुरूआत में बच्चे को दिन में केवल एक या दो बार ही दो से तीन चम्मच सॉलिड फूड देने की कोशिश करनी चाहिए। ध्यान दें कि अभी आपने बच्चे को सॉलिड फूड देना शुरू किया है और ऐसे में एकदम से अधिकता उसके पेट को परेशान कर सकती हैं।

एक बार में एक ही फूड आइटम्स दें

start solid foods to baby diet by expert in hindi

यह भी एक जरूरी टिप है, जिसे पैरेंट्स को अवश्य फॉलो करना चाहिए। कई बार ऐसा होता है कि पैरेंट्स सुबह बच्चे को दाल का पानी देते हैं, तो शाम को ऑरेंज जूस देते हैं। लेकिन ऐसा करने से बचना चाहिए। आपको बच्चे की डाइट में नए फूड्स को धीरे-धीरे शामिल करना चाहिए। मसलन, अगर आपने सबसे पहले बच्चे को दाल खाने के लिए दी है तो दो-तीन दिन तक दाल ही दें। इसके बाद आप चावल उसकी डाइट में एड करें। अब आप बच्चे को दाल व चावल दे सकते हैं। तीन दिन ऐसा करने के बाद आप बच्चे को दाल, चावल व दही दे सकते हैं। इस तरह, एक-एक करके नए फूड्स उसे दें और कम से कम तीन-चार दिन तक एक जैसा फूड ही उसे दें। इससे बच्चे का टेस्ट भी डेवलप होता है। 

इसे जरूर पढ़ें:बच्चों को हाइड्रेट रखने के चक्कर में ना करें ये गलतियां

ब्रेस्टफीड को ना करें इग्नोर

start solid foods to baby diet by expert tips

कुछ महिलाएं जब बच्चे को सॉलिड फूड देना शुरू करती हैं, तो वह उसका ब्रेस्टफीड बेहद कम कर देती हैं। उन्हें लगता है कि अगर वह बच्चे को ब्रेस्टफीड नहीं करवाएंगी, तो वह भूखा होगा और फिर सॉलिड फूड खाएगा। लेकिन यहां आपको यह ध्यान देना है कि आपको बच्चे का ब्रेस्टफीड छोड़ना नहीं है, बल्कि ब्रेस्टफीड से सॉलिड फूड को स्विच करना है। मसलन, अगर आप उसे 24 घंटे में 8 बार ब्रेस्टफीड करवाती आई हैं तो अब आप उसे छह बार ब्रेस्टफीड करवाएं और दो बार सॉलिड फूड दें।(नई मां के लिए मुश्किल होती है ब्रेस्टफीडिंग, इस गाइड की मदद से हो सकती है आसान)

बेबी के लिए सही हो फूड

बेबी को सॉलिड फूड देते समय आपको यह भी ध्यान देना चाहिए कि वह बच्चे के लिए एकदम सही हो। मसलन, वह ना तो बहुत अधिक नमकीन हो और ना ही बहुत अधिक मीठा। इसके अलावा, आप उसे अच्छी तरह मैश करके या एक पेस्ट बनाकर ही खाने के लिए दें। वहीं, खाना ना तो बहुत ठंडा होना चाहिए और ना ही बहुत अधिक गर्म।

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें: नवजात शिशु को गर्मी में नहीं होगी परेशानी, बस इन टिप्स का लें सहारा

इन बातों का रखें ध्यान

tips  start solid foods to baby diet by expert

  • अगर आपने बच्चे को सॉलिड फूड देना शुरू कर दिया है, तो आप उसे थोड़ा पानी भी पीने के लिए दे सकती हैं।
  • शुरूआत में बच्चे नए फूड्स को रिजेक्ट करते हैं, लेकिन ऐसे में परेशान ना हो। आप कोशिश करती रहें, इससे बच्चे को धीरे-धीरे सॉलिड फूड खाने की आदत हो जाएगी।
  • बच्चे को कभी भी एकदम से बहुत अधिक खाना ना दें।
  • अगर सॉलिड फूड शुरू करने के बाद बच्चे को दस्त की समस्या हो रही है, तो ऐसे में परेशान ना हो। अभी आपके बच्चे का शरीर नए फूड्स के साथ तालमेल बिठाने की कोशिश कर रहा है। कुछ वक्त में यह स्थिति खुद ब खुद ठीक हो जाएगी। इसके लिए आपको अलग से दवाई देने की आवश्यकता नहीं है। (गर्मी में बच्चे को हो रही है पेट की परेशानी)
  • बाजार में मिलने वाले बेबी फूड पैकेट्स का फूड बच्चे को देने से परहेज करें। ध्यान दें कि बच्चे को आप घर का बना हुआ खाना ही खाने के लिए दें। 
  • छह माह से लेकर 18 माह तक का होने तक बेबी को लगभग हर फूड आइटम अवश्य खिलानी चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो इससे बाद में बच्चा उन चीजों को खाने में आना-कानी करता है, क्योंकि उसका टेस्ट डेवलप नहीं हो पाता है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।  

Image Credit- freepik

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।